NCERT Solutions for Class 11 Hindi Vitan Chapter 1 Bharatiya Gaayikao Me Bejor: Lata Mangeskar

VSAT 2022

Class 11 Hindi NCERT Solutions for Vitan Chapter 1 Bharatiya Gaayikao Me Bejor: Lata Mangeskar

NCERT Solutions are the most incredible resource while learning Class 11 Hindi Vitan Chapter 1 Bharatiya Gaayikao me Bejor Lata Mangeskar. Thus, Vedantu offers NCERT Solutions for Class 11 Hindi Vitan Chapter 1 Bharatiya Gaayikao me Bejor Lata Mangeskar. It is available in a free PDF format. The solutions are prepared by the subject experts. NCERT Solutions Class 11 Hindi Vitan Chapter 1 offers comprehensive information to students of Class 11. This material will help the Class 11th students clear all their doubts regarding Hindi Vitan Chapter 1.

Do you need help with your Homework? Are you preparing for Exams?
Study without Internet (Offline)
NCERT Solutions for Class 11 Hindi Vitan Chapter 1 Bharatiya Gaayikao Me Bejor Lata Mangeskar part-1

Access NCERT Solutions for Class 11 Hindi Vitan Chapter - 1 भारतीय गायिकाओं में बेजोड़ – लता मंगेशकर

अभ्यास

1.लेखक ने पाठ में गानपन का उललेख किया है। पाठ के संदर्भ में स्पष्ट करते हुए बताएं की आपके विचार में इसे प्राप्त करने के लिए किस प्रकार के अभ्यास की आवश्यकता है?

उत्तर: जिस प्रकार मनुष्य को मनुष्य कहने के लिए ‘ मानवता’ नामक गुण का होना अनिवर्य हैं, उसी तरह गीत में ‘ गानपन’ का होना अति आवश्यक हैं तभी इसे संगीत कहा जाता है। ‘ गानपन’ का मतलब है- गायन में कितनी मिठास और मस्ती है। लता जी के गीतों में मस्ती और मिठास शत-प्रतिशत भरी हुई है और यही उनकी लोकप्रियता का कारण रहा है। 

गीत में गानपर लाने के लिए तेज आवाज के साथ गीत का अभ्यास करना भी आवश्यक है। शब्दों के उचित उच्चारण के साथ, उसकी आवाज में स्पष्टता होनी भी अति आवश्यक है। गाने में रस के अनुसार लय और ताल होना आवश्यक है। श्रोताओं को गाने का स्वर और अर्थ स्पष्ट रूप से समझ आना चाहिए। रागों की सुंदरता और शुद्धता पर जोर देने के बजाय गीत को मिठास, स्वाभाविकता और सही लय के साथ गाया जाना चाहिए।


2.लेखक ने लता की गायिका की किन विशेषताओं को उजागर किया है? आपको लता की गायिका में कौन सी विशेषताएं नजर आती है? उदाहरण सहित समझाइए।

उत्तर: भारत में लता जी को स्वर कोकिला कहा जाता है।उनकी गायकी की क्षमता से लोग मंत्रमुग्ध हो जाते हैं।इसलिए लेखक ने लता जी के गायन में निम्नलिखित विशषताएं उजागर की है- 

  1. लता जी के गायन में बहुत मधुरता है।उनकी आवाज़ में अदभुत मिठास, दृढ़ता, मस्ती तथा लय है। उनकी आवाज़ में अत्यंत ही सुरीलापन हैं।

  2. जीवन को देखने के प्रति लता जी का रवैया उनके भावपूर्ण गायन की निर्मलता में दिखाई देती है।

  3. लेखक ने यहां लता जी के स्वरों में कोमलता और मधुरता का भी वर्णन किया है। इनकी गायिका से कोई भी व्यक्ति इनकी ओर आकर्षित हो सकता है।

  4. लेखक ने लता जी की गायन की एक और विशेषता का वर्णन करते हुए बताया है कि उनके गायन में स्पष्ट उच्चारण का प्रभाव नजर आता है।

  5. लता जी शास्त्रीय शुद्धता में भी पारंगत है। मधुर आवाज होने के साथ-साथ उनके अंदर गीत रंजकता का गुण भी पाया जाता है। गायन के क्षेत्र में लता मंगेशकर को सर्वश्रेष्ठ माना जाता है। उन्होंने बहुत से प्रकार के गीत गाये  हैं।लता जी की आवाज इतनी मधुर है की किसी को भी अपनी और खींचने की क्षमता रखती है। ये भारत की सर्वश्रेष्ठ गायिकाओं में से एक है।

अतः यह कहा जा सकता है कि लता मंगेशकर गायन क्षेत्र में सर्वश्रेष्ठ है और उनका कोई जोड़ नहीं है।


3.लेखक ने पाठ में ‘गायपन’का उल्लेख किया है। पाठ के संदर्भ में स्पष्ट करते हुए बताएं कि आपके विचार में से प्राप्त करने के लिए किस प्रकार के अभ्यास की आवश्यकता है?

उत्तर: इस पाठ में लेखक ने लता मंगेशकर के गायन की विशेषता को उजागर किया है। ‘गानपन’ का शाब्दिक अर्थ है- ऐसा गायन जो एक सामान्य व्यक्ति को भी प्रभावित कर सके। देखा जाए तो ऐसी कला वास्तव में लता जी के भीतर पायी जाती हैं। लता जी का सदैव यह प्रयास रहता है की गीतों को मन की गहराई से गाया जाए। इन्हीं प्रयासों ने लता जी को काफी हद तक सफलता प्राप्त कराई है। जिस तरह इंसान बनने के लिए 'इंसानियत’ के गुणों का होना आवश्यक है, ठीक उसी प्रकार संगीत के लिए ‘गायपन’ का होना अति आवश्यक है। और यही गाय पन की क्षमता लता जी के गीतों में पाई जाती है। लता जी ने अपनी गायकी में यह गुण लाने के लिए बहुत अभ्यास और कोशिश की है। अपनी गायकी में गायपन लाने के लिए गायकों को बहुत कोशिश करनी चाहिए। साथ ही गीत के बोलों के उच्चारण का स्पष्ट होना भी बहुत जरूरी है। गीत गाने के लिए स्वरों का उपयुक्त ज्ञान भी होना अति आवश्यक है। स्वर, लय, तान का सूक्ष्मा से अध्ययन करने के बाद, उन्हें अपने संगीत में लाने का प्रयास करना चाहिए।


4.संगीत का क्षेत्र बहुत विशाल है। वहां अब तक अलक्षित,  असंशोधित और अदृष्टिपूर्ण ऐसा खूब बड़ा प्रांत है तथापि ऐसे बड़े जोश इसकी खोज और उपयोगी चित्रपट के लोग करते चले आ रहे हैं-

इस कथन को वर्तमान फिल्मों के संदर्भ में स्पष्ट कीजिए।

उत्तर: संगीत का क्षेत्र बहुत बड़ा और विस्तृत है। संगीत के क्षेत्र में हर समय कुछ नया करने की गुंजाइश होती है इसके अंदर अपार संभावनाएं छुपी होती है। यदि वर्तमान समय में हम संगीत को सुने तो हम पाते हैं कि हर रोज कोई न कोई नई दुनिया का आविष्कार मिलता है, साथ ही नए-नए स्वरों और प्रयोग भी सुनने को मिलते हैं। वर्तमान में पश्चिमी संगीत को बड़े पैमाने पर सुना जा रहा है। आज शास्त्रीय गीत, लोकगीत, प्रांतीय गीत और पश्चिमी गीत के नाम का बोलबाला है। वर्तमान समय में हमें यह भी देखने को मिलता है की पश्चिमी गीतों और लोकगीतों को मिलाकर नए गीत बनाए जा रहे हैं। सीधे तौर पर कहा जाए तो वर्तमान समय में संगीत में नयापन देखने को मिल रहा है और अभी भी कई सुर और ताल का प्रयोग होना संगीत की दुनिया में बाकी है।


5.चित्रपट संगीत के संगीत ने लोगों के कान बिगड़ दिए, अक्सर यह आरोप लगाया जाता हैं। इस  संदर्भ में कुमार गंधर्व की राय और अपनी राय लिखिए।

उत्तर: अक्सर यह आरोप लगाया जाता है कि चित्रपट चित्रपट संगीत के संगीत ने लोगों के कान खराब कर दिए हैं लेकिन कुमार गंधर्व इस आरोप से सहमत नहीं हैं। कुमार गंधर्व की नजर में, संगीत में चित्रपट संगीत आने के बाद काफी सुधार आया है। और इसकी वजह से श्रोताओं को गीत  समझने में आसानी होती है। आज के समय में लोगों को गीतों से बहुत लगाव है। आज सामान्य वर्ग भी संगीत की लय को समझने में सक्षम है। चित्रपट संगीत के संदर्भ में, मेरी राय कुछ अलग है - मुझे लगता है कि चित्रपट संगीत से संगीत में अश्लीलता और शोर को बढ़ावा मिला है। यद्यपि चित्रपट संगीत में सुधार हुआ है, लेकिन यह बात केवल पुराने संगीत तक ही सीमित रह गई है। जहां पुराना संगीत मधुरता और जुड़ाव लाता था, वही आज का संगीत भयानक ,शोर और तनाव लाता है। गाने के बोल विचित्र, भयानक, और अश्लील होते हैं। हो सकता आने वाले समय में इसमें कुछ सुधार हो और कुमार गंधर्व का कथन सही साबित हो।


6.शास्त्रीय और चित्रपट दोनों तरह के संगीतों के महत्व का आधार क्या होना चाहिए? कुमार गंधर्व की इस संबंध में क्या राय है? और आप स्वयं क्या सोचते हैं?

उत्तर: “संगीत जो श्रोताओं संगीत प्रेमियों को अधिक आनंदित कर सकता है, वही संगीत महत्वपूर्ण माना जाता है, चाहे वह शास्त्रीय संगीत हो या चित्रपट संगीत। दोनों ही संगीत का मूल आधार कर्ण प्रिय होना चाहिए। संगीत को मज़ेदार बनाने में गीत की क्षमता का महत्व होना जरूरी है। अगर शास्त्रीय संगीत में रंजकता का अभाव है, तो वह बिल्कुल नीरस, बदसूरत हो जाएगा और इस में कुछ कमी महसूस होगी। गीत में गायपन का होना आवश्यक है। गीत की सारी मिठास, उसकी सारी ताकत उस पर निर्भर है। रंजक के स्वर को रसिक वर्ग के लिए कैसे प्रस्तुत किया जाए इसके लिए बैठक करनी चाहिए। सोचना चाहिए कि कैसे श्रोताओं के लिए अच्छे संगीत प्रस्तुत किए जाएं जो उन्हें निराश और उबाऊ ना लगे। इसलिए लेखक किराए बिल्कुल सही है और मुझे लगता है कि हर कोई इससे सहमत होगा।


Bharatiya Gaayikao Me Bejor Lata Mangeskar Class 11 NCERT Solutions PDF Download

The free PDF download of NCERT Solutions will help you to gain an insight into Class 11 Hindi Chapter 1. The chapter relating to CBSE Class 11 Hindi Vitan Chapter 1 Solutions is an integral part of the syllabus. NCERT Solutions provide an easy outlook on the topic and helps students achieve academic excellence. NCERT Solutions Class 11 Hindi Bharatiya Gaayikao Me Bejor Lata Mangeskar can be found on Vedantu in a PDF form. It is easy to understand and will clarify all the doubts of a student.


NCERT Solutions Class 11 Hindi Bharatiya Gaayikao Me Bejor Lata Mangeskar

NCERT Solutions for Class 11 Hindi Vitan Chapter 1 Bharatiya Gaayikao Me Bejor Lata Mangeskar is important for NCERT Solutions for Class 11 Hindi. Here we have given NCERT Solutions for Class 11 Hindi Vitan Chapter 1 Bharatiya Gaayikao Me Bejor Lata Mangeskar (Unmatched in Indian Singers: Lata Mangeshkar).


The Author of this Chapter has Featured the Excellent Attributes of Lata's Singing. 

  • Harmonicity - Lata's song is resonant. Her voice has astounding pleasantness, warmth, fun, flexibility and so on. Her intonation is loaded with sweet capital.

  • Nirmal Swara - There is neatness in the vowels of Lata. Lata's demeanour towards life is reflected in the tranquillity of her singing.

  • Delicacy - There are delicacy and fixation in Lata's vocals. Interestingly, Nur Jahan's singing appeared to have a heavy drinker articulation.

  • Nadmay Diksha - This is another element of Lata's singing. The tone of the vocals perfectly fills the distinction of any two expressions of her tune. It appears to be that those two words converge into one another. This thing is basic and characteristic in Lata's tunes.

  • Old Style Purity - Lata's tunes have traditional immaculateness. She has decent information on traditional music. Alongside the conjunction of tone, mood and semantics in her tunes, pigmentation is additionally found.


We see all the above qualities in Lata's singing. She has sung tunes of commitment, energy, embellishment, viciousness, etc. Each melody of her contacts individuals' brains. She sings genuine or perfect tunes easily. From one viewpoint, the entire crowd gets passionate with the melody 'Ae Mere Watan Ke Logon’ and then, the relentless tunes of the film 'Dilwale Dulhania Le Jayenge' engage the youth. Lata is the best in the field of singing.


Benefits of NCERT Solutions For Class 11 Hindi Vitan Chapter 1 Bharatiya Gaayikao Me Bejor Lata Mangeskar

The benefits of NCERT Solution of Class 11 Hindi Vitan Chapter 1 Solutions is that it will clarify doubts of every candidate and all questions on the chapter are answered. Some of the other benefits are:

  • The solutions are given by teachers who are regarded as experts on this subject.

  • These are prepared with the sole objective of helping the students gain the maximum marks on these topics.

  • The solutions also contain practical examples of Class 11 Hindi Vitan Ch 1 NCERT Solutions, so the students can answer any question related to the chapter.

  • All probable topics that can appear in the exams are covered thoroughly in these solutions to gain more marks in the examination.


CBSE Class 11 Hindi Vitan Chapter 1 Solutions contains a total of 8 marks in CBSE examinations. Class 11 Vitan Chapter 1 solution provides a clear insight into Hindi in simple language that can be understood by all students.


NCERT Solutions for Class 11 Hindi Antra- Free PDF


NCERT Solutions for Class 11 Hindi Antral- Free PDF


NCERT Solutions for Class 11 Hindi Aroh - Free PDF


NCERT Solutions for Class 11 Hindi Vitan - Free PDF

FAQs on NCERT Solutions for Class 11 Hindi Vitan Chapter 1 Bharatiya Gaayikao Me Bejor: Lata Mangeskar

1. What Kind of Practice is Needed to Achieve Singing in the Youth?

Music in a real sense is something that causes anyone to feel pleased. This is the workmanship in Lata Ji. It is her passion to sing the tune through the profundities of the brain. This hymn is the principal purpose behind Lata Ji's prevalence. To get this quality of singing, the vocalist should practice a lot. Likewise, the verses ought to be strung alongside the vocals just as the articulations. Suitable information on vocals ought to be joined by lucidity and clarity for singing. The more clear and away from the way to express the vowels, the better the music will be.

2. How Vast is the Field of Music in Indian Musicology?

Indian musicology is antiquated. Because of such an antiquated custom, its territory is likewise extremely tremendous. Aside from this, Indian music culture is likewise a multi-hued. Indeed, even today, new investigations can be found in music. The convention of traditional and people music is as yet going on today, yet utilizing an assortment of them, music is being given another measurement in the present movies. In films, artists have just attempted to explore new territory. Now and again popular music is blended in it, at times Sufi music and in some cases hip hop genre.

3. What is the first chapter of the Class 11 Hindi Vitan textbook about?

The chapter, titled Bhartiya Gaayikaon Mein Bejod Lata Mangeshkar, is an article written by Kumar Gandharva. The name of Lata Mangeshkar shines the brightest among all the exceptionally talented singers of our country. The long list of songs sung by her includes classical as well as various movie songs. The author realised her innate talent just after listening to a song of hers on the radio. The chapter gives us an idea about her journey into and beyond the world of music. 

4. Who introduced the author to Lata Mangeshkar?

The author was introduced to the now great singer Lata Mangeshkar through radio. He was listening to a show on the radio when he heard for the first time a melodious song. He soon found the relation between the voice and one of the famous singers of the time, Deenanath Mangeshkar. The voice was sweet and music to ears, just like the voice of her father’s. She soon acquired the center stage that she well deserved. A singer like the stature of Lata Mangeshkar, according to the author, was one of a kind.

5. What was the impact of Lata Mangeshkar’s arrival on the music stage?

Lata Mangeshkar, the well-renowned Indian singer, transformed the music industry to its very core. She was trained in classical music and her learning experience was well visible in the movie songs she sang. She inculcated new respect and feeling of admiration in the new generation of music lovers. She set a new benchmark for the industry higher than ever. She soon became a household name and her versatile singing talents encouraged and inspired people of many generations.

6. How to practise Chapter 1 of Class 11 Hindi?

Practice the questions of the chapter in this order: start your practice by writing answers to the textbook questions; then, utilise the internet and websites such as Vedantu to find relevant important questions. Before the exam, you should write several tests based on the chapter and must revise your notes six to seven times at least.Practicing is what helps you score an extra mark in the exam. Practicing is what consolidates the knowledge you have gained and helps you to remember the lessons you have learned from a particular chapter for a longer period.

7. Which website provides solutions for Class 11 Chapter 1 of Vitan textbook?

There are numerous websites and YouTube pages that provide solutions to Chapter 1 of the Class 11 Vitan textbook. The problem arises because of the innumerable online sources that one can refer to. Vedantu is an excellent educational platform, which is authentic and reliable. NCERT solutions available on the website free of cost are written by the subject matter experts after extensive research. These are also available on the Vedantu app and website free of cost. Use the sources available online smartly and to your advantage. 

Share this with your friends
SHARE
TWEET
SHARE
SUBSCRIBE