NCERT Solutions for Class 11 Hindi Aroh Chapter 8 Jamun ka ped

VSAT 2022

Class 11 Hindi NCERT Solutions for Aroh Chapter 8 Jamun ka ped - Benefits of the NCERT Solutions PDF by Vedantu

NCERT Solutions for Class 11 Hindi Aroh chapter 8 Jamun ka Ped are provided in this article. The CBSE Class 8 students must mandatorily study the NCERT Notes as this will give them an idea about the CBSE board-level questions that can appear in the Class 8 exam question paper.

 

Students will also get to know about the benefits of the NCERT study material and also find out the important topics covered in this Chapter 8 of Jamun ka Ped. 

 

Download the free PDF of NCERT Solutions for Class 11 Hindi Aroh Chapter 8 Jamun ka Ped and access the solutions even when you are offline. 

 

NCERT Solutions of Aroh Chapter 8 Jamun ka Ped will help the CBSE Class 11 students in numerous ways. The salient features of these NCERT Solutions will help the students to study effectively in the following ways.

  • NCERT Solutions for Class 11 Hindi Aroh Chapter 8 Jamun ka Ped prepared by our highly experienced faculty make the perfect study resource for acing Class 11th Hindi exams. These NCERT Solutions of Class 11 Hindi Aroh Chapter 8 make a systematic approach for students to learn this chapter. 

  • With these clear and concise NCERT Solutions Class 11 Hindi Jamun ka Ped, Vedantu experts have strived to cover all the concepts covered in this chapter. When in doubt, students can also reach out to our experts and get their doubts cleared at the earliest.

  • Students can use the NCERT Solutions as a guide book to know what to study and what to give more priority before the exam. 

  • The solutions here from the NCERT book exercise questions will also help the students to know how to address every question in the exam and answer them correctly. 

  • NCERT Solutions will also help the students in times of revision and thus be an effective last-minute study for the students. 

  • CBSE questions are framed from the NCERT solutions, hence there are high chances of the occurrence of the same in Class 11 terminal exams.


NCERT Solutions for Class 11 Hindi Aroh Chapter 8 Jamun ka ped - Salient Features of the NCERT Solutions

The Class 11 Hindi Aroh Ch 8 NCERT Solutions prepared by the team of subject experts at Vedantu will help students to understand the chapter in a comprehensive manner. The key features of these NCERT Solutions are as follows.

  • These detailed easy-to-understand solutions make a reliable study resource for your exam preparation.

  • The Ch 8 Hindi Aroh Class 11 solutions are available in PDF format on Vedantu. Students can download these NCERT Solutions for free. This makes it absolutely easy for students to revise the chapter even when they do not have an internet connection.

  • Our subject-matter experts prepared the Aroh class 11 Chapter 8 solutions in line with the CBSE curriculum. Therefore, these NCERT Solutions will help students to prepare for their exams more effectively.


NCERT Solutions for Class 11 Hindi Aroh Chapter 8 Jamun ka ped - Important Topics and Sub-topics

The students will gain abundant insights from these NCERT study materials. Students of Class 11 are required to study these NCERT Solutions so that they can answer all the questions with ease, which are likely to appear from this chapter. 

Students are also advised to download the free PDF and start their free learning right away. 

Do you need help with your Homework? Are you preparing for Exams?
Study without Internet (Offline)

Download PDF of NCERT Solutions for Class 11 Hindi Aroh Chapter 8 Jamun ka ped

NCERT Solutions for Class 11 Hindi Aroh Chapter 8 Jamun ka ped

प्रश्न-अभ्यास - पाठ के साथ:

1. बेचारा जामुन का पेड़। कितना फलदार था।

और इसकी जामुनें कितनी रसीली होती थीं।

  1. ये संवाद कहानी के किस प्रसंग में आए हैं? 

उत्तर: यह संवाद सचिवालय के लॉन में जामुन के पेड़ के गिरने से सम्बंधित है। रात में आए तूफान के कारण, सचिवालय के लॉन में खड़ा जामुन का पेड़ गिर जाता है और उस पेड़ के नीचे एक आदमी डाब जाता है। जब पेड़ के गिरने और आदमी के दबने की खबर फैलती है। तो माली और अन्य सभी क्लर्क वहाँ पहुंचते हैं, और जामुन के पेड़ की स्मृतियों में खो जाते हैं। पेड़ के नीचे दबे आदमी का किसी को ख्याल तक नहीं होता है। उन्हें लगता है, कि वह आदमी मार चुका है। 

  1. इससे लोगों की किस मानसिकता का पता चलता है?

उत्तर: यह संवाद आज के मनुष्य की संवेदनहीन प्रवृति की ओर संकेत करता है। लोग जामुन के पेड़ के लिए दुखी हैं। क्योंकि यह पेड़ उन्हें रसीले जामुन देता था। यहाँ उनका स्वार्थपरक व्यवहार दृश्यांकित होता है। जबकि जामुन के पेड़ के नीचे दबे जीवित व्यक्ति के प्रति कोई भावात्मक प्रतिक्रिया अभिव्यक्त नहीं करते हैं। यह समाज में व्याप्त मनुष्य की स्वार्थी और संवेदनहीन प्रवृति को चित्रित करता है।


2. दबा हुआ आदमी एक कवि है, यह बात कैसे पता चली और इस जानकारी का फ़ाइल की यात्रा पर क्या असर पड़ा?

उत्तर: जामुन के पेड़ के नीचे दबे आदमी, को खिचड़ी खिलाते समय, माली ने बताया कि अगले दिन सेक्रेटेरियेर के सारे सेक्रेटरियों की मीटिंग हैं, जहाँ उसकी फ़ाइल पेश की जाएगी। यह सुनकर उस व्यक्ति ने करहारते हुए कहा, जिसे सुनते ही माली को यह ज्ञात हो गया, कि यह व्यक्ति कवि है। कुछ ही समय में यह बात फैल गई। इस बात का पता चलते ही, उसकी फाइल कल्चर डिपार्टमेंट में भेज दी जाती है। लेकिन पेड़ को हटाने की जिम्मेदारी, को वे अस्वीकार करते हैं। और वह व्यक्ति पेड़ के नीचे दबा ही रहता है।


3. कृषि-विभाग वालों ने मामले को हॉर्टिकल्चर विभाग को सौंपने के पीछे क्या तर्क दिया?

उत्तर: कृषि विभाग के लोगों ने मामले को हॉर्टिकल्चर विभाग को सौंपने के पीछे यह तर्क दिया, कि कृषि विभाग को अनाज और खेती से सम्बंधित मामलों में निर्णय लेने का अधिकार है। जामुन के पेड़ को काटने का अधिकार कृषि विभाग को नहीं है। यह एक फलदार वृक्ष था इसलिए इसका फ़ैसला हार्टिकल्चर डिपार्टमेंट का है यह कार्य उन्हें ही करना चाहिए।


4. इस पाठ में सरकार के किन-किन विभागों की चर्चा की गई है और पाठ से उनके कार्य के बारे में क्या अंदाज मिलता है?

उत्तर: इस पाठ में सरकार के निम्नलिखित विभागों की चर्चा की गई है- 

  • व्यापार विभाग- इस विभाग का काम देश में होने वाले व्यापार से सम्बंधित है।

  • एग्रीकल्चर विभाग- कृषि सम्बंधित काम देखना, इस विभाग का काम है।

  • हॉर्टिकल्चर विभाग- फूल एवं उद्यान सम्बन्धी काम करना।

  • मेडिकल विभाग- चिकित्सा सम्बन्धी काम देखना।

  • कल्चर विभाग- इसका संबंध कला-संस्कृति एवं साहित्य से है।

  • फॉरेस्ट विभाग- इसका संबंध वन एवं वन्य-संपदा से है।

  • विदेश विभाग- इसका कार्य विदेशी राज्यों के साथ आपसी संबंध और समझौते कायम करने के लिए है।

पाठ पढ़कर पता चलता है, कि हर एक विभाग अपनी जिम्मेदारी से बचना चाहते हैं। उनमें मानवीय तक जीवित नहीं है।


5. कहानी में दो प्रसंग ऐसे हैं, जहाँ लोग पेड़ के नीचे दबे आदमी को निकालने के लिए कटिबद्ध होते हैं। ऐसा कब-कब होता है और लोगों का यह संकल्प दोनों बार किस-किस वजह से भांग होता है?

उत्तर: पहला प्रसंग: पहली बार जामुन के नीचे दबे एक व्यक्ति को बाहर निकलने के लिए होने की घटना कहानी की शुरुआत में आती है। जब माली के कहने पर, वहाँ भीड़ इकट्ठा होती है, व्यक्ति को बाहर निकलने के लिए। कइँती सुपरिटेंडेंट ने उन्हें रोककर, अपने ऊपर के अधिकारियों की अनुमति की आवश्यकता ज़ाहिर की।

दूसरा प्रसंग: दूसरी बार जामुन के पेड़ के नीचे दबे व्यक्ति को निकालने का संकल्प लिया गया, जब उस आदमी की फ़ाइल डिपार्टमेंट भटक रही थी लेकिन न्याय का कोई अता पता नहीं था। आदमी के चारों ओर उमड़ी भीड़ में लोग अनेको बातें बना रहे थे।तभी कुछ क्लर्कों को आदमी की दशा पर दया आ गई। वह फ़ैसले का इंतज़ार किए बिना पेड़ को हटाने के लिए खड़े हो गए तभी सुपरिटेंडेंट ने उन्हें रोक दिया।


6. यह कहना कहाँ तक युक्तिसंगत है, कि इस कहानी में हास्य के साथ-साथ करुणा की भी अंतर्धारा है। अपने उत्तर के पक्ष में तर्क दें।

उत्तर: यह कहना युक्तिसंगत है, कि इस कहानी में हास्य के साथ-साथ करुणा दोनों व्यापक रूप में नज़र आती है। जामुन के पेड़ के नीचे गिर जाने की ख़बर से लोगों को इकट्ठा हो जाना लेकिन वहाँ कोई भी व्यक्ति पेड़ के नीचे दबे व्यक्ति को निकालने का प्रयास तक नहीं करता है। बस तमाशाई बिनो की तरह, उस व्यक्ति को देखते रहते हैं। वहीं केवल एक व्यक्ति को बचाने के लिए, क्लर्क, अधिकारी अपनी सरकारी कार्यालय और विभागों का भद्दा और हास्यास्पद गतिविधियों चित्रांकित करते हैं। वहीं इन विभागों की उहा पोह ने पेड़ के नीचे दबे व्यक्ति की सहनशीलता की परीक्षा ले रहे थे। किन्तु माली द्वारा उस व्यक्ति की दशा पर करुणा और दया आती है। वह उसे खाना खिलाता है, और कल सब ठीक होने का आश्वासन देता रहता है।


7. यदि आप माली की जगह पर होते, तो हुकूमत के फैसले का इंतज़ार करते या नहीं? अगर हाँ, तो क्यों? और नहीं, तो क्यों?

उत्तर: अगर मैं माली की जगह पर होती तो सरकार के फैसले का इंतजार नहीं करती। मैं दफ्तर के सभी अधिकारियों को, उस व्यक्ति को बचाने के लिए प्रेरित करती। जिससे उस व्यक्ति जीवन समाप्त न होता, और वह अब भी जीवित होता।


8. कहानी के वैकल्पिक शीर्षक सुझाएँ। निम्नलिखित बिंदुओं को ध्यान में रखकर शीर्षक गढ़े जा सकते हैं:

  1. कहानी में बार-बार फ़ाइल का ज़िक्र आया है और अंत में दबे हुए आदमी के जीवन की फ़ाइल पूर्ण होने की बात की कही गई है।

उत्तर: सरकारी दफ्तर में जीवन की फाइल।

  1. सरकारी दफ्तरों की लंबी और विवेकहीन कार्यप्रणाली की ओर बार-बार इशारा किया गया है।

उत्तर: सरकारी दफ्तर में फाइल का सफर।

  1. कहानी का मुख्य पात्र  उस विवेकहीन का शिकार हो जाता है।

उत्तर: एक फाइल एक मौत।

 

भाषा की बात

1. नीचे दिए गए अंग्रेजी शब्दों के हिंदी प्रयोग लिखिए- अर्जेंट, फॉरेस्ट डिपार्टमेंट, मेंबर, डिप्टी सेक्रेटरी, मिनिस्टर, अंडर सेक्रेटरी, हॉर्टिकल्चर डिपार्टमेंट, एग्रीकल्चर डिपार्टमेंट।

उत्तर: दिए गए अंग्रेजी शब्दों का हिंदी अर्थ निम्नलिखित है: 

  • अर्जेंट -  आवश्यक

  • फॉरेस्ट डिपार्टमेंट - वन-विभाग

  • मेम्बर - सदस्य

  • डिप्टी सेक्रेटरी - उप-सचिव

  • एग्रीकल्चर डिपार्टमेंट - कृषि विभाग

  • चीफ सेक्रेटरी - मुख्य सचिव

  • मिनिस्टर - मंत्री

  • अंडर-सेक्रेटरी - अवर सचिव

  • हॉर्टिकल्चर डिपार्टमेंट - उद्यान विभाग


2. इसकी चर्चा शहर में फैल गई और शाम तक गली-गली से शायर जमा होने शुरू हो गए- यह एक संयुक्त वाक्य है, जिसमें दो स्वतंत्र वाक्यों को समानाधिकरण समुच्चयबोधक शब्द और से जोड़ा गया है। 

संयुक्त वाक्य को इस प्रकार सरल वाक्य में बदला जा सकता है।

इसकी चर्चा शहर में फैलते ही शाम तक गली-गली से शायर जमा होने शुरू हो गए। पाठ में से पाँच संयुक्त वाक्यों को चुनिए और उन्हें सरल वाक्य में रूपांतरित कीजिए।

  • संयुक्त वाक्य: माली ने अचम्भे से मुंह में ऊँगली दबा ली और चकित भाव से बोला।

उत्तर: 

  1. सरल वाक्य: माली अचम्भा व्यक्त करते हुए मुँह में ऊँगली दबाकर चकित होकर बोला।

  • संयुक्त वाक्य: इतना बड़ा कवि- ‘ओस के फूल’ का लेखक और हमारी अकादमी के मेम्बर नहीं है।

  1. सरल वाक्य: ‘ओस के फूल’ का लेखक इतना बड़ा कवि होने के बावजूद हमारी अकादमी के मेम्बर नहीं है।

  • संयुक्त वाक्य: जामुन का पेड़ चूँकि फलदार पेड़ है, इसीलिए यह पेड़ हॉर्टिकल्चर डिपार्टमेंट के अंतर्गत आता है।

  1. एक फलदार पेड़ होने के कारण जामुन का पेड़ हॉर्टिकल्चर डिपार्टमेंट के अंतर्गत आता है।

  • संयुक्त वाक्य: आधा आदमी उधर से निकल आएगा और पेड़ वहीं का वहीं रहेगा।

  1. सरल वाक्य- आधे आदमी के उधर से निकल जाने के बाद भी पेड़ वहीं का वहीं रहेगा।

  • संयुक्त वाक्य: कल यह पेड़ काट दिया जाएगा, और तुम इस संकट से छुटकारा हासिल कर लोगे।

  1. सरल वाक्य: कल इस पेड़ के कटते ही तुम्हें इस संकट से छुटकारा हासिल हो जाएगा।


3. साक्षात्कार अपने-आप में एक विधा है। जामुन के पेड़ के नीचे दबे आदमी के फ़ाइल बंद होने(मृत्यु) के लिए ज़िम्मेदार किसी एक व्यक्ति का काल्पनिक साक्षात्कार करें और लिखें।

उत्तर: जामुन के पेड़ के नीचे दबे आदमी की फाइल बंद होने(मौत) के लिए जिम्मेदार अधीक्षक और साक्षात्कारकर्ता के बीच काल्पनिक साक्षात्कार निम्नलिखित प्रस्तुत है।

साक्षात्कारकर्ता: क्या आप इस विभाग के अधीक्षक हैं?

अधीक्षक: हाँ!

साक्षात्कारकर्ता: क्या आप जानते थे कि लॉन में जो पेड़ गिरा है उसकी वजह से एक व्यक्ति की मृत्यु हो गई है।इसका दोषी आप किसे मानते हैं?

अधीक्षक: मेरे पास इसके लिए दोष देने के लिए कुछ भी नहीं है।

साक्षात्कारकर्ता: आपने माली को पेड़ हटाने के लिए रोका था?

अधीक्षक: देखिए सर, हम सरकारी कर्मचारी हैं, इसीलिए नियमों और कानून के दायरे में काम कसरत पड़ता है।

साक्षात्कारकर्ता: आपको दायरे में कोई फर्क नहीं पड़ता है?

अधीक्षक: नहीं! यह बिल्कुल वैसा नहीं है, जैसा हम चाहते हैं……

साक्षात्कारकर्ता: लेकिन क्या?

अधीक्षक: मैंने तुमसे कहा था, कि न तो मैं कानून के दायरे से बाहर नहीं जा सकता हूँ। मुझे कई जवाब देने हैं।

साक्षात्कारकर्ता: लेकिन यह कहाँ लिखा है, कि मरने वाले को छोड़कर आप सरकारी प्रक्रिया पहले पूरी करे।

अधीक्षक: मैं खुद को कैसे तय करूं? यह कार्य मेरे विभाग से सम्बंधित नहीं था।

साक्षात्कारकर्ता: तो इस गरीब व्यक्ति की मृत्यु के लिए कौन जिम्मेदार है?

अधीक्षक: मैं इसके बारे में और बात नहीं करना चाहता। मैंने वहीं किया जो मुझे सही लगा। नमस्कार।


Chapter 8 – Jamun Ka Ped

NCERT Solutions for Class 11 Hindi Chapter

Introduction

Krishna Chandar Ji was born in 1914 and passed away in 1977. During his lifetime he has won many awards including the prestigious Sahitya Academy Award. Few of his popular work includes Eucalyptus ki daali (collection of stories), Sadak wapis jaati hai, Aasman Roshan hai, Hum vahashi hain, Meri yaadon ke kinare (novel), and bawan patte.


After Munshi Premchand, Krishna Chander is one of the most important Hindi authors who uplifted story-writing to new heights in this language. He was strongly related to the union of progressive writers which is evident in his writings. Krishna Chandar is one of the writers who made writing his means of living. 


He did his preliminary studies in Punj (Jammu and Kashmir), and for higher studies, he went to Lahore. Then he went to Punjab to pursue masters in English. Though he has written many novels, plays, and essays, he is primarily known for his story writing. One of the prime reasons for his fame is that he has earned a special place owing to his poetic romance and diversity of writing style. 

Jamun Ka Ped

Jamun ka ped is a famous comical satire by Krishna Chandar. For writing comedy and sarcasm, writers must bloat up incidents out of proportion. Hence, the incidents here might seem unbelievable and full of superlative words but do not be surprised with that. Being real and believable is not the criteria for judging such a style of writing. In the chapter presented here, you would laugh out loud at the ways government offices work which is termed as bureaucratic. The story also portrays the system to be emotionless and inhuman.


A big storm hit the city, and the big tree of Jamun (Indian blueberry or black plum) fell down on the lawn of the secretariat, and a man had got crushed beneath the tree. The gardener saw and told this to the peon, the peon went and told this to the clerk, the clerk went to the superintendent to recite this incident, and finally, everyone got to know of this mishap. All accumulated around the Jamun tree and lamented over its fall. They were bothered about how juicy the fruits of this tree were and how they would fill up their bags with the fruit for their whole family. No one was bothered or talking about the man who was lying under the tree. 


Some thoughtful young men thought of cutting the tree and taking out the man from there, but the superintendent says that this is under the jurisdiction of the agriculture department, and they can not cut the tree without their consent. This episode then reaches the agriculture department who hands it over to the horticulture section since that Indian blueberry tree was bearing a lot of fruits every year.


Amidst all this, it comes out that the man who is crushed under the tree is a poet. As this news spreads the matter reaches the cultural department. The man who was lying beneath the tree was writhing in pain and waiting for his fate to be decided by all these departments. 


The forest department was about to cut the tree when they received this information that the tree had been planted by the Prime Minister of Petunia ten years ago. The foreign department felt that if the tree was cut, then their relationship with Petunia would be endangered. When the Indian Prime Minister came back from his foreign tour, then he took up this matter in his own hands. Meanwhile, the man under the tree was losing his battle with life.


When the Prime Minister finally passed the order to cut the tree, it was too late, and the man crushed beneath the tree had died. A man lost his life because of the unemotional and cruel rules and regulations of the government system.


NCERT Solutions for Class 11 Hindi Aroh - Chapter-wise Solutions

FAQs on NCERT Solutions for Class 11 Hindi Aroh Chapter 8 Jamun ka ped

1. The man who was crushed beneath the tree was a poet, how did everyone get to know this, and what effect did it have on the whole episode?

In the night when the gardener was feeding the crushed man, he informs him that the matter has been escalated and it will be resolved by the next day. Upon hearing this, the crushed man recites a poem, and the gardener realizes he is a poet. The news was then told to all by the morning. This information delayed the matter further because his file was then sent to the cultural department for decision. This delay caused the man to die in the end.

2. Why did the agriculture department pass the file to the horticulture department for deciding on the tree being cut?

The agriculture department said that they were responsible for taking decisions concerning crops and farming. The Jamun tree was bearing fruit till the time it fell down. Hence it came under the jurisdiction of the horticulture department.

3. What are the achievements of the writer?

Including the Sahitya Academy Award, Krishna Chandra Ji has won many awards in his lifetime. He is one of the most renowned writers of Hindi Literature after Munshi Premchand. The subject matter experts at Vedantu have devised a complete study guide that includes the summary, revision notes, important questions, and NCERT solutions of Class 11 Hindi Aroh to all the exercises of the textbook.  The students can refer to the solutions in PDF format free of cost.

4. Why would you laugh out loud while reading this story?

The story portrays the government offices to function in an emotionless and sarcastic way. This is the reason why the people who are reading it out loud may laugh. The Vedantu Study guide offers the student a chance to score high in their exams by using the materials provided for free. The experts at Vedantu have provided the NCERT solutions of Class 11 Hindi Aroh to all the exercises chapter-wise. They can be downloaded for free from their official website (vedantu.com).

5. Why was no one bothered about the man lying under the tree?

When a big storm hit the city, due to the falling of the big Indian Jamun tree, a man got stuck underneath it. A gardener recited this to the peon and the thread was passed on to the clerk and superintendent. No one was bothered about the man lying under the tree as they were only bothered about the juicy fruits that they could collect and enjoy with their whole family. 

6. Who is the man crushed under the tree?

The man who was crushed under the tree was a poet. This news reached the cultural department. He was in so much pain that he let the departments decide his further fate. As the tree was planted by the Prime Minister of Petunia about ten years ago, by the time the order was passed by him, the man under the tree met his fate and died. Detailed answers and a summary is provided on the official website of Vedantu (vedantu.com).

7. What happened to the man lying under the tree?

Due to all the cruelty of the government offices that occurred due to the regulations of the system, the man crushed under the tree died.  As the tree was planted by the Prime Minister of Petunia about ten years ago, it took time for the orders to be passed by him and hence, the man under the tree met his fate and passed away.  The summary of the chapter and other perks are included in the Vedantu study guide. All the study material can be accessed from the vedantu app.

Share this with your friends
SHARE
TWEET
SHARE
SUBSCRIBE