NCERT Solutions for Class 11 Hindi Antra Chapter 15 Poem - Jaag Tujhko Dur Jana Sab Ankho Ki Asu Ujle

Class 11 Hindi NCERT Solutions for Antra Chapter 15 Poem - Jaag Tujhko Dur Jana Sab Ankho Ki Asu Ujle

CBSE Class 11 Hindi Antra Chapter 15 Solutions are supposed to be an incredibly helpful book for the students who are willing to score high marks in the exam.NCERT Solutions Class 11 Hindi Jaag Tujhko Dur Jana Sab Ankho Ki Asu Ujle provides us with comprehensive information for all the concepts included in the syllabus. This solution for ch 15 Hindi poem Antra Class 11 by Vedantu is brilliantly drafted; which clarifies all the doubts and help students to memorise everything easily.

Do you need help with your Homework? Are you preparing for Exams?
Study without Internet (Offline)
Access NCERT Solutions Hindi Chapter-15  काव्य-  सब आँखों के आंसू उजले, जाग तुझको दूर जाना ( महादेवी वर्मा) part-1

Access NCERT Solutions Hindi Chapter-15 काव्य- सब आँखों के आंसू उजले, जाग तुझको दूर जाना ( महादेवी वर्मा)

11:15:1 प्रश्न और अभ्यास:1

1.‘जाग तुझको दूर जाना’ कविता में कवयित्री मानव को किन विपरीत स्थितियों में आगे बढ़ने के लिए उत्साहित कर रही है?

उत्तर: ‘जाग तुझको दूर जाना’ कविता में कवयित्री का मानव को उत्साहित करने का तथ्य यह है कि वह विपरीत परिस्थितियों में भी आगे बढ़े और उन्होंने इसे निम्नलिखित तरीके से प्रस्तुत किया है,

1.कवयित्री कह रही है कि हिमालय के हृदय में कम्पन है। यह भूकंप पैदा कर सकता है लेकिन आपको आगे बढ़ते रहना है। इस कंपन से डरना नहीं है

2.जब प्रलय की स्थिति आती है तो ऐसी स्थिती में व्यक्ति घबरा जाता है। ऐसे में घबराना नहीं है आगे बढ़ते रहना है।

3.अगर चारों तरफ घना अंधेरा छाया है। कुछ दिख नहीं रहा है तब भी आपको आगे बढ़ते रहना है।


11:15:1 प्रश्न और अभ्यास:2 

2.‘ मोम के बन्धन’ और ‘तितलियों’ के पर का प्रयोग कवयित्री ने इस संदर्भ में क्या कहा  है और क्यों?

उत्तर:  कवयित्री ने कविता से यह पद ‘मोम के बन्धन’ का संदर्भ युवती के कोमल बाहु से किया है। जिसकी सुंदर पकड़ में आकर व्यक्ति रुक जाता है, अतः लेखिका का कहने का यह तात्पर्य है कि क्या तू उस मोम के बंधन से आजाद हो पाएगा। ये मोम के बन्धन तुझे रोक सकते हैं और तेरे विकास में बाधा बन सकते हैं। इसलिए तू इस बंधन से आजाद हो। ‘तितलियों के पर’ से कवयित्री का यह तथ्य है कि यह युवती के युवाओं का आकर्षण है और तुझे उस आकर्षण से भी आजाद होना है।


11:15:1 प्रश्न और अभ्यास:3 

3.‘ जाग तुझको दूर जाना’ स्वाधीनता आंदोलन की प्रेरणा से रचित एक जागरण गीत है। इस कथन के आधार पर कविता की मूल संवेदना को लिखिए।

उत्तर: महादेवी वर्मा ने एक ऐसी कविता की रचना की जिसका तात्पर्य देश के लोगों को स्वतंत्रता के प्रति जागरूक बनाना था। देश गुलामी के जंजीरों में जकड़ा था। लोग स्वतंत्रता चाहते थे। लेकिन उस लड़ाई में सीधे तौर पर लड़ने से डरते थे। वे इसमें भाग लेने से डरते थे इसके पीछे का मुख्य कारण यह था कि वह स्वार्थी और आलसी थे। उनके अंदर देशभक्ति की भावना जगाने के लिए जागरण गीतों की रचना की गई| महादेवी ने एक ऐसे ही गीत की रचना की जो गीत सोए हुए भारतीयों को  जगाता है। महादेवी ने भारतीयों को जागरूक करने के लिए उन्हें  कठिनाइयों का सामना करने के लिए तैयार किया। उन्हें हर तरीके के बंधन से मुक्त होना है और बस बढ़ते रहना है तभी उन्हें स्वतंत्रता प्राप्त होगी।


11:15:1प्रश्न और अभ्यास :4 

4.कविता में ‘अमरता-सुत’ का संबोधन किसके लिए और क्यों आया है?

उत्तर: संत इस कविता में ‘अमरता- सुत’ का संबोधन मनुष्य के आत्मा के लिए है। कवयित्री के अनुसार आत्मा अमर है। जो व्यक्ति अपने जीवन के मर सूद पर चलता है। उसकी आत्मा कभी नष्ट नहीं होती। आत्मा न जल सकती है,  न ही कभी डूब सकती है। वे ईश्वर का अंश होती है तथा हमेशा अमर रहती है।


11:15:1प्रश्न और अभ्यास:5


5. कवयित्री ने स्वाधीनता के मार्ग में आने वाली कठिनाइयों को इंगित कर मनुष्य के भीतर किन गुणों का विस्तार करना चाहा है? कविता के आधार पर स्पष्ट कीजिए।

उत्तर: महादेवी वर्मा ने इस कविता में स्वतंत्रता के रास्ते में आने वाली कठिनाइयों का वर्णन किया है और भारतीयों के भीतर इन कठिनाइयों से निपटने के लिए गुणों का विस्तार करने की मांग की है।

वह मनुष्य को दृढ़ इच्छा से चलने के लिए प्रेरित करती है। इस तरह मनुष्य दृढ़ संकल्पित हो जाता है वह अपने आलस्य को दूर करने के लिए प्रेरित होता है। कवयित्री इसमें कड़ी मेहनत की गुणवत्ता को विकसित करती है। वह उसे विषम परिस्थिति में निडर होकर बढ़ने के लिए कहती है। इस तरह वह उसमें निडरता का गुण समाहित करती है, साथ ही वह उसे अपने लगाव को छोड़ने के लिए कहती है। इस तरह वह भावुकता के स्थान पर देश भक्ति का बीज बोती है। वह उसकी जागरूकता की गुणवत्ता को शामिल करती है, वे कहती हैं कि इस लड़ाई में हमें सतर्क रहना होगा। वे दिल से मौत के डर को दूर करना चाहती है और जीवन के सही उद्देश्य को प्रकट करती है।


11:15:1 प्रश्न और अभ्यास:6 

6. महादेवी वर्मा ने ‘आंसू’ के लिए ‘उजले’ विशेषण का प्रयोग के संदर्भ में किया है और क्यों?

उत्तर: ‘आँसू’ मनुष्य की पवित्रता के प्रतीक होते हैं। बहते आंसुओं में कोई छल नहीं होता। यह शुद्ध भावना और शुद्ध आत्मा में लगी ठोस के कारण छलकते हैं। इन आंसुओं का कोई न कोई आधार होता है। वह निराधार नहीं होते।


11:15:1प्रश्न और अभ्यास:7 


7. सपनों को सत्य रूप में डालने के लिए कवयित्री ने किस यथार्थपूर्ण स्थितियों का सामना करने को कहा है?

उत्तर: सपनों को सत्य करने के लिए कवयित्री ने इन यथार्थपूर्ण स्थितियों को सामना करने के लिए कहा है।

क. दीपक के समान जलने को कहा है।

ख. फूल के समान खिलने को कहा है।

ग. कठोर स्वभाव के अंदर भी करुणा की भावना को रखना।

घ. जीवन में सत्य की झलक को दिखाना।

ड़. हर व्यक्ति के अंदर व्याप्त सच्चाई को जानना।


11:15:2 योग्यता-विस्तार:1

1. महादेवी वर्मा और सुभद्रा कुमारी चौहान की कविताओं को पढ़िए और महादेवी वर्मा की पुस्तक ‘पथ के साथी’ से सुभद्रा कुमारी चौहान का संस्मरण पढ़िए तथा उनके मैत्री संबंधों पर निबंध लिखें।

उत्तर:  महादेवी वर्मा ने पहली बार सुभद्राकुमारी चौहान से क्रास्थवेट गर्ल्स कॉलेज में मुलाकात की। सुभद्रा कुमारी चौहान महादेवी वर्मा से बड़ी थी, परन्तु दोनों में बहनों का सा प्यार था। उस समय सुभद्रा ने कविता लिखना शुरू किया और महादेवी उनके साथ तुक मिलाती थी। सुभद्रा कुमारी को खड़ी बोली में लिखता देख महादेवी वर्मा को भी उसी भाषा में लिखने की प्रेरणा प्राप्त हुई। इससे पहले महादेवी वर्मा अपनी माँ से प्रभावित होकर ब्रज भाषा में लिखती थी। महादेवी ने सुभद्रा जी के साथ दुख मिलाएं और जो कविता बनाती उन्हें ‘स्त्री-दर्पण’ में भेजना आरंभ किया। ये स्पष्ट रूप से कहा जा सकता है कि सुभद्राकुमारी महादेवी की कविता की पहली साथी थी। उन्होंने ही महादेवी को रास्ता दिखाया।  दोनों जीवन भर के लिए एक दूसरे के साथ रही और यह दो महिलाओं की दोस्ती ने तो स्वतन्त्रता संग्राम में अपनी कविताओं के माध्यम से सरकार को भी हिला दिया था।


NCERT Solutions for Class 11 Hindi Antra Chapter 15 Poem - Jaag Tujhko Dur Jana Sab Ankho Ki Asu Ujle


NCERT Solution of Class 11 Hindi Antra Chapter 15 PDF Download

The free PDF download for NCERT Solutions will help you to gain an insight into Hindi. The chapter relating to Class 11 Hindi poem Chapter 15 Jaag Tujhko Dur Jana Sab Ankho ki Asu Ujle are an important part of the syllabus. NCERT Solutions provide an easy outlook on the topic and helps the student to secure good marks in their exams. The Jaag Tujhko Dur Jana Sab Ankho Ki Asu Ujle Class 11 chapter can be found online for download in a PDF form. It is easy to understand and will clarify all doubts the students can have.


NCERT Solutions for Class 11 Hindi Antra Chapter 15 Jaag Tujhko Dur Jana Sab Ankho Ki Asu Ujle

NCERT Solutions for Class 11 Humanities Hindi Chapter 15 Mahadevi Verma are furnished herewith straightforward bit by bit clarifications. These answers for Mahadevi Verma are very famous among Class 11 Humanities understudies for Hindi Mahadevi Verma Solutions come helpful for rapidly finishing your schoolwork and planning for tests. All inquiries and answers from the NCERT Book of Class 11 Humanities Hindi Chapter 15 are given here to you for nothing. You will likewise adore the advertisement-free insight on Meritnation's NCERT Solutions. All NCERT Solutions for Class 11 Humanities Hindi are set up by specialists and are 100% precise.

Antra Class 11 Chapter 15 is a persuasive melody of Mahadevi Verma. In this tune, Mahadevi Varma asks herself why she is so sluggish and associated with useless deeds. Wake yourself up with unimportant game plans and apathy since you have a great deal to do, you need to go far in your life. Irrespective of everything, you need to continue pushing yourself without being upset by anything. 


NCERT Solution of Class 11 Hindi Antra Chapter 15 Weightage Marks

CBSE Class 11 Hindi Antra Chapter 15 solutions contain a total of 8 marks in CBSE examinations. NCERT Solutions for Class 11th Hindi Antra Chapter 15 comprise the following topics:

  • Poem.

  • Meaning of the Poem.

  • Summary of the Poem.

  • Analysis of the Poem. 

  • Questions and Answers. 


Benefits of Class 11 Hindi Antra Ch 15 NCERT Solutions

The benefits of NCERT Solutions Class 11 Hindi Jaag Tujhko Dur Jana Sab Ankho Ki Asu Ujle are endless. The solutions will clear doubts for every candidate, and all prospective questions on these topics are answered here. Jaag Tujhko Dur Jana Sab Ankho Ki Asu Ujle Class 11 NCERT Solutions provides a clear insight into Hindi. The solutions are given in simple language and can be understood by all students. 

The solutions are given by teachers who are regarded as experts on this subject. These are prepared with the sole objective of helping the students to gain the maximum marks on these topics. The solutions also contain practical examples of 15th Hindi Chapter 11 poem so the students can handle any problem without any difficulty in the subject. All probable topics that can appear in the exams are covered thoroughly in these solutions for the students to gain more marks in the examination.


FAQs (Frequently Asked Questions)

Q1. On the basis of the poem, explain how the poet expands the qualities of a human being by showing the difficulties that come in the way of freedom?

Ans: The poetess has looked to grow the accompanying characteristics inside man by bringing up the challenges that come in the method of opportunity. She motivates people to walk unequivocally. In this manner, people get judged on the basis of character. She motivates to eliminate apathy in it and to eliminate work. So she builds up the nature of difficult work in it. She requests that he fill boldly in odd conditions. In this manner, she fuses the nature of courage into it. She requests that he surrender his connection. In this manner, she plants the seed of enthusiasm instead of wistfulness. She consolidates her nature of mindfulness. As indicated by him, he should be cautious in this battle. She needs to eliminate the dread of death from her heart and tell the correct motivation behind life. In this manner, she perceives the objective inside her and expands the temperance of achieving it.

Q2. Explain how the poem is regarded as an awakening song composed inspired by the Independence Movement.

Ans: This song was made when the wave out of opportunity was beginning to ascend in India. The compatriots needed opportunity yet were reluctant to partake legitimately in that battle. There were numerous explanations for this. He was quiet, egotistically and lethargically. Jagran melodies were formed to stir the enthusiastic soul in them. Mahadevi likewise made a comparative melody. This melody awakens dozing Indians. Mahadevi motivates the Indians to wake up and walk. She additionally expresses that while strolling on it, she will confront numerous troubles. He doesn't need to fear them. To dispose of a wide range of shackles, simply continue moving. Its essential sense is to accomplish freedom. He needs to develop bravely while strolling on the way to opportunity.

Q3. Can you please brief the Class 11 NCERT Hindi Chapter 15 Poem - ‘Jaag Tujhko Door Jana Sab Ankho Ki Asu Ujle?’

Ans: Mahadevi Verma, in NCERT Class 11 Chapter 15 poem, motivates and reminds herself of her vision. She writes this song to help herself overcome laziness and fear of failure. She reminds herself that no matter what happens, she has to keep moving forward and never give up on her dreams. She wants to make a positive change in this world through her actions. She wants future generations to remember her for her contributions even after her demise.

Q4. Which questions are important in Class 11 NCERT Hindi Chapter 15 Poem - ‘Jaag Tujhko Door Jana Sab Ankho Ki Asu Ujle?’

Ans: The most important question from this poem from the viewpoint of exams is the explanation of how the poet expands the qualities of human beings by showing difficulties in the path to freedom. Another higher-order thinking question can be based on how the poem is an awakening song inspired by the Independence Movement in India. Along with these questions, it is essential to read the poem thoroughly to answer every possible question during the exam.

Q5. Can you please provide a detailed stepwise study plan to ace Class 11 NCERT Hindi Chapter 15 poem - ‘Jaag Tujhko Door Jana Sab Ankho Ki Asu Ujle?’

Ans:  This poem can be prepared well for the exam by having an in-depth understanding of every stanza of the poem through attentive reading and analysis. Refer to Vedantu's NCERT Solutions for Class 11 Chapter 15 for the exercises given at the end of this poem. Consistent revision and practice of comprehension based questions from each stanza of the poem will guarantee your success in the Hindi exam.

Q6. What lessons did you learn from the Poem - ‘Jaag Tujhko Door Jana Sab Ankho Ki Asu Ujle?’

Ans: This poem teaches us many crucial life lessons such as determination, commitment, and a never give up attitude. The poem gives readers a message that you are your best motivator. Just as Mahadevi Verma wrote this poem to give herself a wake-up call, we must also self-reflect and constantly seek to work on the drawbacks that prevent us from achieving our goals. The poem teaches us that only those who dare to never give up despite hurdles can achieve real success in life. 

Q7. What is the best solution book for Class 11 NCERT Hindi Chapter 15 Poem - ‘Jaag Tujhko Door Jana Sab Ankho Ki Asu Ujle?’

Ans: Vedantu's NCERT Solutions are the most credible and comprehensive source for the preparation of this poem. All important topics from the poem are covered in a well-structured and easy-to-understand manner. The material is prepared by expert teachers in India after an in-depth analysis of the previous year questions and the latest CBSE pattern. This material will surely help you ace the CBSE Hindi examination. The solutions are free of cost and also on Vedantu mobile app.

Share this with your friends
SHARE
TWEET
SHARE
SUBSCRIBE