NCERT Solutions for Class 12 Hindi Antra Chapter 14 Kacchachitta

Class 12 Hindi NCERT Solutions for Antra Chapter 14 Kacchachitta

NCERT solutions provide comprehensive learning and also support students to develop their skills along with logical and reasoning skills. NCERT solutions prepare students for their exams in a much better and effective way. Vedantu provides the best study material including all the books of PDF format. Here the NCERT solutions and revision notes of all chapters are available and compiled at one place. These solutions support the students for the best planning for the preparation of Class 12 board exam.


The most trusted educational website in our nation is Vedantu, which gives answers for all the NCERT examination material and the assistance from the best instructors as and when required during the exams preparation by online video sessions.

Do you need help with your Homework? Are you preparing for Exams?
Study without Internet (Offline)
Hindi Class 12 Chapter 14 part-1

Access NCERT Solutions For Hindi Chapter 14 - कच्चा चिट्ठा

प्रश्न और अभ्यास 

12:1:14: प्रश्न और अभ्यास: 1 

1. पसोवा की प्रसिद्धि का क्या कारण था और लेखक वहाँ क्यों जाना चाहता था?

उत्तर:  पसोवा में जैन धर्म का तीर्थ स्थल है। यहाँ पर जैन समुदाय का बहुत बड़ा मेला लगता था। यह भी कहा जाता था कि सम्राट अशोक द्वारा यहाँ पर स्तूप बनवाया गया था। जिसमें बुद्ध देव के नाखून और बाल रखे गए थे।  लेखक वहाँ जाना चाहता था क्योंकि वह सोच रहा था कि शायद वहाँ उसे पुरातत्व के कुछ निशान मिल जाए जैसे सिक्के, मूर्ति इत्यादि।


12:1:14:प्रश्न और अभ्यास: 2

2. मैं कहीं जाता हूँ तो ‘छूँछे’ हाथ नहीं लौटता” से क्या तात्पर्य यह है? संस्मरण लेखक कौशाम्बी लौटते हुए अपने साथ क्या- क्या लाया?

उत्तर: प्रस्तुत पंक्तियों से लेखक का अभिप्राय है कि जब कभी भी लेखक किसी भी जगह  घूमने जाता था तो वहाँ से खाली हाथ वापस नहीं लौटता था| वह पुरातत्व से जुड़ी कोई महत्वपूर्ण वस्तु जरूर लेकर ही आता था। गाँव से आते समय लेखक को मनके, मृण्मूर्तियां, पुराने समय के सिक्के आदि मिले थे। कौशाम्बी आते वक्त लेखक 20 सेर के वजन की शिवजी की मूर्ति लेकर आया जो उसे पेड़ के नीचे पड़े पत्थरों के ढेर पर मिली थी।


12:1:14:प्रश्न और अभ्यास: 3 

3.“ चंद्रायण व्रत करती हुई बिल्ली के सामने एक चूहा स्वयं आ जाए तो बेचारी को अपना कर्तव्य पालन करना ही पड़ता है। लेखक ने यह वाक्य किस संदर्भ में कहाँ और क्यों?

उत्तर: यह बात लेखक ने तब कही जब पेड़ों के नीचे पत्थरों के ढेर पर उन्हें शिव जी की मूर्ति मिली। लेखक बताने के लिए इस पंक्ति का प्रयोग करते हैं वे कहते हैं कि जैसे बिल्ली चंद्रायण के लिए व्रत करती है ताकि उसके सारे पाप धुल जाए, परन्तु चूहे के सामने आने पर वह व्रत भूल जाती है। उसी प्रकार कवि मूर्ति उठाकर नहीं ले जाना चाहते परंतु मूर्ति का महत्व समझकर वह उसे उठा लाते हैं।


12:1:14 प्रश्न और अभ्यास: 4 

4.“ अपना सोना खोटा तो परखवैया का कौन दोस से लेखक  क्या तात्पर्य  हैं?

उत्तर: इस पंक्ति से लेखक का तात्पर्य यह है कि जब अपनी वस्तु में ही दोष हो तो परखने वालों को दोष नहीं देना चाहिए। परखने वाला तो वही दोष निकालता है जो उस वस्तु में होती। अर्थात हमें परखने वाले को नहीं अपितु अपनी वस्तु को दोष देना चाहिए।


12:1:14: प्रश्न और अभ्यास: 5 

5.गाँव वालों ने उपवास क्यों रखा और उसे कब तोड़ा? दोनों प्रसंगों को स्पष्ट कीजिए।

उत्तर, गाँव वालों ने व्रत तब रखा जब उन्हें पता चला कि शिवजी की मूर्ति चोरी हो गई है। उन्होंने प्रण किया कि जब तक शिवजी की मूर्ति वापस नहीं आती वह व्रत करेंगे। गाँव वालों को लेखक पर शक था इसलिए सारे गांव वाले लेखक के पास आए और मूर्ति के बारे में पूछा। लेखक ने भी मूर्ति सम्मान सहित वापस कर दी।  इसके बाद गाँव वालों ने व्रत तोड़ा।


12:1:14 प्रश्न और अभ्यास: 6

6. लेखक  बुढिया से बोधिसत्व की आठ फुट लंबी सुन्दर मूर्ति प्राप्त करने में कैसे सफल हुआ?

उत्तर: कौशांबी के गांवों में घूमते हुए एक खेत में लेखक को आठ फुट लंबी बोधिसत्व की मूर्ति दिखाई दीं। तभी उस खेत की मालकिन आ गयी जो लालची थी। लेखक ने 2 रुपये देकर खेत मालकिन से वो मूर्ति प्राप्त की।


12:1:14 प्रश्न और अभ्यास: 7 

7. “ईमान! ऐसी कोई चीज़ मेरे पास हुई नहीं तो उसके डिग्री का कोई सवाल नहीं उठता। यदि होता तो इतना बड़ा संग्रह बिना पैसा- कौड़ी के हो ही नहीं सकता।”- के माध्यम से लेखक क्या कहना चाहता है?

उत्तर: लेखक कहना चाहता है कि जो वस्तु किसी की है ही नहीं उसे वो खो नहीं सकता। इस प्रकार लेखक के पास ईमान नहीं है इसलिए उसे अपना ईमान खोने का डर नहीं है। अगर उसके पास ईमान होता तो बिना पैसे के वह इतना बड़ा संग्रहालय नहीं खोल पाता।


12:1:14 प्रश्न और अभ्यास: 8

8. दो रुपए में प्राप्त बोधिसत्व की मूर्ति पर 10,000 रुपये क्यों न्योछावर किए जा रहे थे?

उत्तर:  बोधिसत्व की इस मूर्ति का बहुत महत्व था जो इस प्रकार है,

क. बोधिसत्व की अब तक की जितनी भी मूर्तियाँ पहले मिली थी उन सबसे यह पुरानी थी।

ख. इसका समय काल कुषाण सम्राट कनिष्क के समयकाल का था।

ग. इसकी स्थापना कुषाण सम्राट कनिष्क के राज्यपाल के दूसरे वर्ष में की गई थी।

घ. सबसे बड़ी बात यह थी कि वह मूर्ति कहीं से भी खंडित नहीं थी।

इन सभी विशेषताओ ने एक 2 रुपये में प्राप्त बोधिसत्व मूर्ति  का मूल्य 10,000 तक पहुँचा  दिया था। परंतु लेखक  भी मूर्ति की महत्व को जानता था।


12:1:14 प्रश्न और अभ्यास: 9

9. भद्रमत शिलालेख की क्षतिपूर्ति कैसे हुई? स्पष्ट कीजिए।

उत्तर,  भद्रमथ  शिलालेख की क्षतिपूर्ति  गुलजार  मिया के घर के सामने के कुएँ के चबूतरे पर स्थित चार खंभों से हुई। इन खंभों पर ब्राह्मी अक्षरों में लिखा हुआ था। लेखक के कहने पर गुलजार मिया खंभों को खुदवाकर लेखक को दे दिए थे।


12:1:14 प्रश्न और अभ्यास: 10 

10. लेखक अपने संग्रहालय के निर्माण में किन किन के प्रति अपना आभार प्रकट करता है और किसे अपने संग्रहालय का अभिभावक बनाकर निश्चित होता है?

उत्तर:   लेखक निम्नलिखितओं के प्रति अपना आभार प्रकट करता है,

1. डॉ  पन्नालाल,  आई.सी.एस

2. डॉ ताराचंद

3. पंडित जवाहरलाल नेहरू

4. मास्टर साठे और मूता

5. रायबहादुर कामता प्रसाद

6. हिज़ हाईनेस श्री महेंद्र सिंह जूदेव नागौद नरेश

7. सुयोग्य दीवानलाल भागवेंद्र सिंह

8. स्वामी भक्त अर्दली जगदेव 

डॉक्टर सतीश चंद्र काला को अपने संग्रहालय का अभिभावक बनाकर लेखक निश्चित हो गया।


 भाषा शिल्प

12:1:14 प्रश्न और अभ्यास- भाषा शिल्प: 1 

1. निम्नलिखित का अर्थ स्पष्ट कीजिए

क. इक्के को ठीक कर लिया

ख.कील काँटे से दुरस्त था। 

ग. मेरे मस्तक पर हस्बमामूल चंदन था। 

घ. सरखाब का पर 

उत्तर- 

क.  घोड़ागाड़ी को कहीं जाने के लिए तय कर लिया।

ख.  अभी का समय कष्टदायक है परंतु यह पहले के समय से कम कष्टदायक है।

ग.  मेरे माथे का तिलक पहले जैसा था।

घ. स्वयं को सबसे अलग मानना।


12:1:14 प्रश्न और अभ्यास – भाषा शिल्प: 2 

2. लोकोक्तियों के सन्दर्भ में सहित अर्थ स्पष्ट कीजिए।

क. चोर की दाढ़ी में तिनका

ख. ना जाने के ही भेष में नारायण मिल जाए

ग. यह म्याऊं का ठौर था।

उत्तर: क. अपराधी का स्वयं से किसी तरह गलती का एहसास होना या उस गलती को मान लेना या फिर ऐसी हरकते करने जिससे ये प्रकट हो जाए के उसी ने गलती की है।  

ख. सभी लोगों का सम्मान करना चाहिए पता नहीं किस वेश में भगवान दर्शन दे दे। 

ग. अर्थात भय के वास्तविक जगह पर कोई भी नै जाना चाहता है अर्थात कठिन काम से परहेज करना। 


NCERT Solutions Class 12 Hindi Antra 2 Chapter 14

Class 12 Hindi Antra 2 Chapter 14 Kaccha Chitta is written by Shri Brij Mohan Vyas. In this prose, the author expressed his feelings towards Allahabad museum. The most significant gift of the author Vyas is the huge and famous museum of Allahabad, which includes two thousand stone sculptures, five-six old statues, the most ageing Buddhist idol of the reign of Kanishka, Chandela statues of Khajuraho, and collection of hundreds of colourful paintings etc.

He compiled fourteen thousand handwritten texts of Sanskrit, Hindi, and Arabic - Persian on the same museum, the letter of honour to Pandit Nehru, Chandra Shekhar's pistol is considered as a heritage of Allahabad Museum.

The author Brij Mohan Vyas has his own unique skills to collect various heritage material of the archaeological museum without any special expenditure. The text presented is a raw piece of their labour and intelligence work.

NCERT solutions Hindi Class 12 Antra Chapter 14 Kaccha Chitta, written by Shri Brij Mohan Vyas, is explained in an easy and understandable language at Vedantu. It makes the students understand the NCERT solution for the best preparation of the CBSE 2020-21 Board Hindi examinations.

The author Sri Brij Mohan Vyas has asked ten conceptual questions related to the prose concept, at the end of the chapter, all the questions with their appropriate answers are available for free download at Vedantu.


NCERT Solutions with the Latest Syllabus for Class 12 Hindi (Core and Elective)

NCERT solutions Class 12 provides the latest prescribed syllabus by CBSE for Hindi Core now partitioned into two sections. Section A (two books Aroh 2 and Vitan 2) and section B (book Aroh 2).

For Class 12 Hindi Elective the syllabus is partitioned into two sections. Section A has the questions from two books, i.e. Antra 2 and Antral 2, while section B has the questions from the book Antra part 2.

Class 12 Hindi Core NCERT solutions in PDF format available on Vedantu web page. The books prescribed for Class 12 Hindi Core are Aroh 2 (has eighteen chapters), and Vitan 2 (has four chapters). Hindi Elective contains the book Antra 2 (has Twenty-one chapters), and book Antral 2 (has four chapters).

Vedantu-platform offers chapter-wise Class 12 Hindi Antral part 2 book that consists of four chapters and is freely downloadable. NCERT Solutions Class 12 Hindi Antra part 2 book contains 21 chapters with poems and proses are given as below: 

  • Chapter 1 Poem - Devsena ka geet-Kaneliya ka geet

  • Chapter 2 Poem - Geet gaane do mujhe-Saroj smriti

  • Chapter 3 Poem - Yeh deep akela-Maine dekha ek boond

  • Chapter 4 Poem - Banaras-Disha

  • Chapter 5 Poem - Satya - Ek kam

  • Chapter 6 Poem - Toro - Basant aya

  • Chapter 7 Poem - Bharat-Ram ka prem-Pad

  • Chapter 8 Poem - Barahmasa

  • Chapter 9 Poem - Pad

  • Chapter 10 Poem - Ramchandra Chandrika

  • Chapter 11 Poem - Kabita/Sabeya

  • Chapter 12 - Premdhan ki Chayya Smriti

  • Chapter 13 - Sumirini ke man ke

  • Chapter 14 - Kacha Chitta

  • Chapter 15 - Samvadiya

  • Chapter 16 - Gandhi, Neheru aur Yasser Arafat

  • Chapter 17 - Sher, Pehchan, Chaar haath, Sajha

  • Chapter 18 - Jaha koi wapas nahi

  • Chapter 19 - Yathasmay rochate Vishvam

  • Chapter 20 - Dusra Devdas

  • Chapter 21 - Kutaj 


Salient Features of NCERT Solutions by Vedantu

Vedantu offers a total solution for the best preparation of board exams free of any charge. It additionally gives online classes, step by step explanation, sample-papers with their answers, earlier year's unravelled papers by the best subject instructors to help the students.

It is the only platform to download NCERT books in PDF design for the readiness of NCERT Class 12 Hindi exams. Vedantu platform also offers the reconsidered syllabus along with 2020-21 NCERT solution Class 12 Hindi, as prescribed by CBSE 2020-21 free of cost.

FAQs (Frequently Asked Questions)

1. In Which Format are all the Chapters, Including NCERT Solutions of Class 12 Hindi Antra Part 2 Available at Vedantu?

Ans: All the chapters, including NCERT solution of Class 12 Hindi Antra part 2 are available at Vedantu platform in an non- editable PDF format.

2. Is Complete Study Material Available on Vedantu Site for NCERT Solutions Class 12 Hindi Antra 2 Chapter 14 Kabitt- Sabeya to Prepare for the Board Exams? if yes then how can we get it?

Ans: Yes, complete preparation material for CBSE board 2020-21 examination like books, syllabus, important questions with their solution, previous years solved papers etc. is available on Vedantu platform just a click away. Students can download with fast links provided there.

3. Can I get the Revised Syllabus for 2020-21 Board Examination Class 12 Hindi Core and Elective Along with the CBSE Prescribed Books in PDF Format. Whether it is Trustworthy?

Ans: The revised syllabus for 2020-21 board examination Class 12 Hindi Core and Elective and the prescribed books in PDF format are available at Vedantu website by freely downloadable with the help of direct links given. Vedantu.com is the most reliable and trusted website in the country.

4. Are Class 12 NCERT Books and Syllabus for Other Subjects Also Available on Vedantu?

Ans: Of course! In addition to Class 12 Hindi, the syllabus and NCERT books for various subjects, available for free of cost download on the Vedantu platform.

Share this with your friends
SHARE
TWEET
SHARE
SUBSCRIBE