Courses
Courses for Kids
Free study material
Offline Centres
More
Store Icon
Store

Guru Aur Chela Class 5 Notes CBSE Hindi Chapter 12 (Free PDF Download)

ffImage
Last updated date: 16th May 2024
Total views: 213.6k
Views today: 2.13k

Guru Aur Chela Revision Notes - Complete Your Exam Preparation With Free PDF

For Class 5 Hindi students, sometimes it isn't easy to understand the language and get the poem's meaning. However, with the revision notes from subject experts, things get easy. The same goes for Guru Aur Chela, one of the interesting chapters to learn. 


The chapter is about an interesting story by the writer about the student and his teacher walking around the town, where they find something interesting but weird about the town.

Guru Aur Chela revision notes produced by Vedantu professionals provide context for this chapter. Discover what the writer intended for us to learn from his journal. These Guru Chela notes simplify finding information from his entries and responding to questions.


Class 5 Hindi Revision Notes - Chapter-wise List

Chapter-wise Class 5th revision notes curated by the experts through the pdf links below.

Access Class 5 Hindi Chapter 12 – गुरू और चेला Notes

कवि परिचय:

  • प्रस्तुत कविता के कवि 'सोहनलाल द्विवेदी' है। 

  • इनका जन्म 22 फरवरी 1906 को उत्तर प्रदेश में हुआ था। 

  • इनकी रचनाओं में राष्ट्रीयता की भावना पाई जाती हैं l

  • इनकी प्रमुख रचनाओं में दूधबतासा, भैरवी आदि शामिल है ।


कविता का सारांशः

  •  प्रस्तुत कविता मे कवि ने एक मूर्ख राजा से जनता कि बचाव का चित्रण किया है l

  • कविता के इस भाग मे कवि कहते हैं कि एक गुरु और उनका एक चेला था | दोनों के पास पैसा नही था | एक दिन दोनों कही घूमने निकल पड़ते है और चलते-चलते किसी नगर में पहुँच जाते है | उस नगर के रास्ते चमक रहे होते है । 

  • तभी उन्हें एक ग्वालिन दिख जाती है । उसके सिर पर एक घड़ा था । गुरु उससे उस नगरी के बारे मे और वहाँ के राजा के बारे मे  पूछते है ।

  • कविता के इस भाग मे कवि कहते हैं कि ग्वालिन उत्तर मे कहती है कि यह अंधेर नगरी है और इसका राजा मूर्ख है | वह कहती है यहाँ सब कुछ *टके सेर मिलता है । यह सुनकर गुरु घबरा जाते है और उनका मन वहाँ से चले जाने को कहता है |

           *टके सेर- बहुत कम दाम

  • कविता के इस भाग मे कवि कहते हैं कि गुरु, चेले को भी वहाँ से चलने को कहते है | गुरुजी वहाँ से चले जाते है और चेला वहीं अकेला रह जाता है | 

  • कवि कहते हैं कि उस मूर्ख राजा के अंधेरी नगरी में सबकुछ टके सेर ही मिलता था | और इसी बात का फायदा उठाकर चेला खूब रबड़ी मलाई खा लेता है । कवि कहते है कि  उस साल उस नगर मे खूब बारिश हुई थी | खूब बिजली चमकती थी और खूब बादल गरजते थे। 

  • कवि कहते हैं कि बारिश के कारण राज्य की एक दीवार गिर गई थी । राजा तुरंत वहाँ पहुँच गया और संतरी को बुलाकर उससे दीवार गिरने का कारण पूछा | संतरी ने जवाब दिया कि दीवार कमज़ोर बनी थी इसीलिए गिर गई । इसमे उसकी कोई गलती से नहीं है । इसमें कारीगर की गलती है। 

  • तभी कारीगर को फ़ौरन बुलाया गया | राजा ने कारीगर को सजा देने का आदेश दे दिया । तब कारीगर ने कहा इसमें मेरी कोई गलती नहीं है । इसमे *भिश्ती की गलती है|

*भिश्ती- ढोने का काम करने वाले 

  • तब राजा ने हुक्म दिया कि भिश्ती को फ़ौरन बुलाकर उसे फाँसी पर चढ़ा दिया जाए। भिश्ती ने भी अपना बचाव किया और *मशक की गलती बताई ।

             *मशक- चमड़े की थैली बनाने वाला 

  • मशक भी अपना बचाव करता है और  मंत्री की गलती बताता है।वह कहता है कि उन्होंने ही मुझे बड़े जानवर का चमड़ा दिलवाया था |

  • मंत्री को बुलाकर उसे फांसी पर चढ़ाया जाता है लेकिन मंत्री बहुत दुबला पतला होता है l इसलिए राजा किसी मोटे आदमी को लाने का आदेश देता है  l

  • संत्री मोटा गर्दन वाले आदमी को ढूंढने निकल पड़ता है और उसे चेला मिल जाता है lचेले को राजा के दरबार ले जाया जाता है l

  • राजा उसे फांसी पर चढ़ाने का आदेश दे देता है l चेला  राजा के सामने आखिरी बार अपने गुरु से मिलने की इच्छा रखता है ।

  • इसके बाद गुरु को राज दरबार बुलाया जाता है lगुरु और चेला आपस में कुछ बात करते हैं और झगड़ा शुरू कर देते हैं और दोनों ही फांसी पर चढ़ने की बात कहते हैं l

  • राजा उनके झगड़े का कारण पूछता है lतब गुरु बताते हैं कि यह इस समय जो फांसी पर चढ़ेगा वह चक्रवर्ती बन जाएगा l

  • राजा गुरु की बात सुनकर फांसी पर चढ़ जाते हैं और पूरी जनता खुश हो जाती है l


समान तुक वाले शब्द: 

चेला

धेला

नगरी, गगरी

डगरी, भगरी

राजा, ताजा

बाजा, खाजा

छन

मन

माना

जाना

चेला, झमेला

अकेला, पेला, मेला

जीरा

खीरा

मलाई

उड़ाई

भारी

सवारी

बनी

घनी

सजा

कजा

देरी

मेउ

बुलाओ

चढ़ाओ

बनाया

समाया

पानी

बिरानी

चढ़ूंगा

मरूंगा

बनेगा

तनेगा


शब्द - अर्थ:

शब्द

अर्थ

वाक्य में प्रयोग

चेला

शिष्य

गुरु और चेला अंधेरी नगरी पहुंच जाते हैं |

धेला

पैसा

हमारे पास एक भी धेला नहीं है |

डगरी

रास्ता

यह डगरी बहुत डरावनी है l  

भाजी

सब्जी

भाजी टके सेर मिल रही हैं | 

हाट

बाजार

मां  हाट जा रही है l

गफलत

भूल

सभी बच्चे गफलत में पड़ गए है l

दनादन

तुरंत

राजा को दनादन फाँसी पर चढ़ाया गया  l


प्रश्न - उत्तर:

प्रश्न 1. अंधेरी नगरी की सड़कें कैसी थी ?

(क) गंदी

(ख) ऊंची

(ग) साफ

उत्तर: साफ

 

प्रश्न 2. चेले का स्वभाव कैसा था ?

(क) चालाक

(ख) पागल

(ग) बेवकूफ

उत्तर: चालाक


प्रश्न 3. दीवार गिरने पर राजा ने सबसे पहले किसे बुलाया ?

उत्तर: दीवार गिरने पर राजा ने सबसे पहले संतरी को बुलाया ।


अभ्यास प्रश्न:

प्रश्न 1. नीचे लिखी  कविता की पंक्तियों को पूरा करो | 


(क) मिली एक ग्वालिन धरे शीश _____ , 

गुरु ने कहा _____ ग्वालिन न भगरी । 

बता कौन नगरी, बता कौन ______ , 

कि जिसके ________ का यहाँ बजता बाजा |

उत्तर: मिली एक ग्वालिन धरे शीश गगरी

गुरु ने कहा तेज़ ग्वालिन न भगरी । 

बता कौन नगरी, बता कौन राजा

कि जिसके सुयश का यहाँ बजता बाजा |


(ख) मगर था न बुद्धू - था ____ चेला, 

मचाया बड़ा ही वहीं पर झमेला!! 

कहा पहले गुरु जी के _____ कराओ, 

मुझे बाद में चाहे _____ चढ़ाओ ।

उत्तर: मगर था न बुद्धू - था चालाक चेला, 

मचाया बड़ा ही वहीं पर झमेला!! 

कहा पहले गुरु जी के दर्शन कराओ, 

मुझे बाद में चाहे फाँसी चढ़ाओ ।


प्रश्न 2. नीचे दिए गए देशों की मुद्राओं को लिखो l

(क) सऊदी अरब 

उत्तर: दीनार

(ख) जापान

उत्तर: येन

(ग) फ्रांस 

उत्तर: यूरो

(घ) इटली 

उत्तर: यूरो

(ड) इंग्लैंड 

उत्तर: पाउंड


प्रश्न 3. अंधेर नगरी की तीन विशेषताएं बताओ l

उत्तर: अंधेर नगरी की तीन विशेषताएं-

  • अंधेर नगरी में सड़कें चमकदार थीं।

  • अंधेर नगरी के बाजार में सब चीजें टके सेर बिकती थीं।

  • अंधेर नगरी का राजा मूर्ख था।

प्रश्न 4. अँधेर नगरी की प्रजा राजा के मरने पर खुश क्यों हुई ? 

उत्तर: अंधेर नगरी का राजा  बहुत मूर्ख था। प्रजा राजा की मूर्खतापूर्ण शासन-व्यवस्था से बड़े दुखी थे। इसीलिए राजा के मरने पर सभी खुश हुए l 


प्रश्न 5. गुरु जी ने राजा से क्या बात कही थी ?

उत्तर: गुरुजी ने राजा से कहा था कि यह मुहूर्त फाँसी पर चढ़ने के लिए सबसे शुभ है। इस मुहूर्त में जो फाँसी पर चढ़ेगा वह चक्रवर्ती राजा बनेगा और उसके सिर पर पूरे संसार का छत्र होगा।


प्रश्न 6. नीचे लिखे वाक्यों में रेखांकित शब्दों को आजकल कैसे लिखते हैं ?  बताओ।

(क) न जाने की अंधेर हो कौन छन में!

उत्तर: क्षण

(ख) गुरु ने कहा तेज ग्वालिन न भग री!

उत्तर: भाग

(ग) इसी से गिरी, यह न मोटी घनी थी!

उत्तर: गहरी

(घ) ये गलती न मेरी, यह गलती बिरानी!

उत्तर: परायी

(ङ) न ऐसी महूरत बनी बढ़िया जैसी!

उत्तर: मुहूर्त

प्रश्न 7. नीचे लिखे शब्दों को पढ़ो और दिए गए वाक्यों में ये शब्द भरो l

पटापट, चकाचक, फटाफट, चटाचट, झकाझक, खटाखट, चटपट।

  • आँधी के कारण पेड़ से …………………. फल गिर रहे हैं।

उत्तर: आँधी के कारण पेड़ से फल पटापट गिर रहे हैं।

  • हंसा अपना सारा काम …………………… कर लेती है।

उत्तर: हंसा अपना सारा काम फटाफट कर लेती है।

  • आज रहमान ने …………………… सफेद कुर्ता पाजामा पहना है।

उत्तर: आज रहमान ने झकाझक सफेद कुर्ता पाजामा पहना है।

  • उस भुक्खड़ ने …………………… सारे लडू खा डाले।

उत्तर: उस भुक्खड़ ने चटपट सारे लडू खा डाले।

  • सारे बर्तन धुलकर …………………………. हो गए।

उत्तर: सारे बर्तन धुलकर चकाचक हो गए।

Importance of NCERT Class 5 Hindi Chapter 12 Guru Aur Chela

This chapter is about kind of the region, teacher, and student. The chapter defines how people here believe their king is not worth ruling and imposes weird rules. Knowing this, the teacher feels that living in this town will be a danger to life and will bring many problems. On the other hand, the author explains the difference in thoughts of the student and the teacher.

The author further explains how students come across different kinds of people, and whatever people want to buy, the price will be the same. The Guru Aur Chela Kavita NCERT Hindi class 5 further says how unknowingly the students get trapped in heavy rain and see a wall fall and create a huge mess. The Guru and Chela Class 5 lesson showcase that one should think with a calm mind and not take any decision without hesitation.

Students in the initial stage may find it hard to understand this Hindi chapter due to some hard words. So to make it easy, Vedantu offers the complete revised notes in simple language for students.

Benefits of Summary of Guru Aur Chela Class 5

  • These notes of Guru Aur Chela class 5 are created in accordance with NCERT Class 5 guidelines. It will be easier for you to follow it. To write accurate answers, understand the information gathered by the writer from these notes. 

  • Examine how the author describes the thought differences between the student and his teacher, also the weird rules of the village. In the notes that follow, the description is simplified.

  • Complete this class 5 Hindi chapter 12 preparation by using these revision notes to resolve any doubts you may have.

  • To improve your comprehension abilities, do the worksheet that comes with these notes to learn about how important it is to think smart.

Download Guru Aur Chela Class 5 Chapter 12 Worksheets and Revision Notes

To study at your leisure, download the free PDF version, and worksheet along with the revision notes created by Vedantu. Without a hitch, you'll be able to comprehend every section of this chapter in Hindi. Learn about how the kingdom is run by weird rules and with the smart thinking of the Guru, students and the people of the village are saved. By completing the worksheets, you may assess your level of preparation and improve your exam scores.

FAQs on Guru Aur Chela Class 5 Notes CBSE Hindi Chapter 12 (Free PDF Download)

1. Is the Guru Aur Chela a Real Story?

This is a completely fictional story about the village where the king runs his village under weird rules, seeing which the teacher and students who visit find something negative. It is something that teaches students about how one should remain calm and think wisely.

2. Is it difficult to rule a town or village and is it still prevalent?

Ruling a town or a region needs certain quality, which the ruler in this story lacked. Ruling any town or region isn't prevalent today and time has changed widely.

3. Is it possible to keep the price of all products the same?

No, it is not possible to keep the same price for all products. The price rule that was set by the king in the region was completely unbalanced which both the student and his guru found fishy.