Courses
Courses for Kids
Free study material
Offline Centres
More

Nanha Fankar Class 5 Notes CBSE Hindi Chapter 4 (Free PDF Download)

ffImage
Last updated date: 28th Feb 2024
Total views: 189.6k
Views today: 1.89k

Download Revision Notes for Class 5 Hindi Chapter 4 to Make Preparations Easier

Nowadays, scoring high marks in exams seems to be the most important thing for students. So, for Class 5 students, it is definitely essential that they have a proper understanding of the chapters that they are learning. Hindi might be an easy subject for some but it is equally difficult for others. For example, the 4th Chapter of the Hindi syllabus for Class 5 students is named Nanha Fankar. Students who might be having some difficulties in understanding the chapter can take help from revision notes composed by experts at Vedantu. 

The revision notes have been designed in a specific way by using simple language so that students of Class 5 are able to learn easily from them. Vedantu experts have taken special care to include every bit of important information in the notes. Download Nanha Fankar revision notes to see what the chapter is all about. 


Class 5 Hindi Revision Notes - Chapter-wise List

Chapter-wise Class 5th revision notes curated by the experts through the pdf links below.

Access Class 5 Hindi Chapter 4 – नन्हा फनकार

कहानी का सारांशः

  • प्रस्तुत कहानी में एक दस साल के बच्चे केशव के बारे मे बताया गया है ।

  • केशव एक होनहार बालक था | केशव पत्थर की नक्काशी करने का काम सीख रहा था और उसे लगता था कि वह एक दिन अपने पिता की तरह सारी बारिकियां सीखकर उन्हें उकेर पाने में जरूर सफल होगा।

  • केशव के जन्म से पहले ही उसके माता पिता गुजरात से आगरा में आकर बस गए थे | केशव का जन्म आगरा में ही हुआ था |

  • बादशाह अकबर उस समय आगरे का किला बनवा रहे थे और केशव के पिता वही पर काम करते थे |लेकिन अब वह सीकरी में रहता था । 

  • एक दिन जब नन्हा केशव अपना काम कर रहा था । तभी बादशाह अकबर उसके पास आकर खड़े हो गए और उसके द्वारा बनाई हुई घंटियों की तारीफ करने लगे ।

  • बादशाह अकबर ने सफेद *अँगरखा और पायजामा पहना हुआ था । उनके बाल लंबे थे जो गहरे लाल रंग की पगड़ी में अच्छी तरह से ढंके हुए थे । 

            *अँगरखा- कोट जैसा घुटने तक का एक पहनावा।

  • केशव ने उन्हें नहीं पहचाना लेकिन समझ गया कि वह कोई बड़े आदमी है । 

  • तभी एक पहरेदार आकर बताता है कि वह बादशाह अकबर हैं और वह उनसे *अदब से बात करे ।

*अदब- सम्मान

  • केशव ड़र गया और उसके हाथ से *छेनी नीचे गिर गई । वह जल्दी से उठा और बादशाह को झुककर सलाम किया |

*छेनी- पत्थर को काटने का लोहे का औज़ार

  • अकबर ने केशव के सामने नक्काशी सीखने की इच्छा ज़ाहिर की | इतने मे केशव तुरंत छेनी और हथौड़ा लेकर आया और बादशाह को काम करना सिखाने लगा ।

  • बादशाह नन्हे केशव के पास जमीन पर बैठ गए | केशव अब बादशाह अकबर को काम सिखाने लगा । उनकी जरा सी गलती पर केशव को गुस्सा आ जाता था ।

  • केशव के काम करने के अंदाज को देखकर अकबर ने कहा एक दिन तुम बड़े *फनकार बनोगे ।

         *फनकार- किसी कला में माहिर

  • आगे अकबर ने उसे बताया कि जब वे लोग आगरा में आकर रहने लगेंगे, तब वे एक कारखाना बनवाएंगे और उस समय सबसे बढ़िया फ़नकार और शिल्पकार को कारखाने में रखा जाएगा ।

  • यह सुनकर केशव खुश हुआ और उसे लगा कि कारखाना खुलने पर  उसे काम जरूर मिलेगा ।

  • इसके बाद रात हो गई और केशव ने अपने पिता से जाकर पूछा कि बादशाह अकबर सीकरी में शहर क्यों बनवा रहे है ।

  • पिता ने उसे बताया कि जब बादशाह की कोई संतान नहीं थी । तब वे सीकरी में ख़्वाजा सलीम चिश्ती के पास आए और उनके आशीर्वाद से बादशाह को तीन-तीन संतानें हुईं ।

  • उन संतानों के नाम शाहज़ादा सलीम, मुराद और दनियाल था | 

  • तब अकबर ने ख़्वाजा सलीम चिश्ती के सम्मान में सीकरी में एक नगर बसा दिया। और अपने एक बेटे का नाम सलीम रख दिया ।


नैतिक शिक्षा:

इस कहानी से हमें यह शिक्षा मिलती है कि हमें हमेशा कुछ नया सीखने के लिए तैयार रहना चाहिए |


शब्द - अर्थ:

शब्द

अर्थ

वाक्य में प्रयोग

बुदबुदाना

धीरे से बोलना

राम ने बुदबुदाते हुए कहा |

संगतराश

साथ रहकर काम करने वाले

गोपाल जी पिता जी के संगतराश है ।

बारीक

  पतला

यह डिजाइन बहुत बारिक है | 

नफी़स

सुंदर

केशव की कलाकारी नफी़स है |

पुश्तैनी

खानदानी 

यह हमारा पुश्तैनी हार है ।

तल्खी

कड़वापन

राजा ने तल्खी के साथ व्यवहार किया ।

जुर्रत

हिम्मत

तुमने यहां आने की जुर्रत क्यों की ?

बदहवासी

बेहोशी

सीता बदहवासी मे है ।

खीझकर

तंग होकर

बंटी ने श्याम से खीझकर उसकी शिकायत माँ से कर दी ।

कौतूहल

किसी बात को जानने की अत्यधिक इच्छा

यह स्थान बहुत कौतूहल भरा है ।

नेक

अच्छा

हमें हमेशा नेक काम करने चाहिए ।

लाडला

प्यारा

संजय अपनी पिता का लाडला बेटा है ।


प्रश्न - उत्तर:

प्रश्न 1. केशव कितने साल का था ?

(क) नौ

(ख) आठ

(ग) दस

उत्तर: दस


प्रश्न 2. केशव का जन्म कहां हुआ था ?

(क) गुजरात

(ख) आगरा

(ग) सीकरी

उत्तर: आगरा


प्रश्न 3. अकबर को केशव में क्या बनने की प्रतिभा नजर आई ?

(क) मंत्री

(ख) सेनापति

(ग) फनकार

उत्तर: फनकार


प्रश्न 4. बादशाह अकबर सीकरी क्यों गए थे ?

उत्तर: जब बादशाह अकबर की एक भी संतान नहीं थी l तब वह वहां ख्वाजा सलीम चिश्ती के पास आशीर्वाद लेने गए थे l


अभ्यास प्रश्न:

प्रश्न 1. मिलान करो l

बारीक

हिम्मत

जुर्रत

पतला

नेक

प्यारा

लाडला

अच्छा

उत्तर:  उचित मिलान-

बारीक

पतला

जुर्रत

हिम्मत

नेक

अच्छा

लाडला

प्यारा


प्रश्न 2. नीचे लिखे गए वाक्यों के लिए एक शब्द लिखो l

(क) चित्र बनाने वाला

उत्तर: चित्रकार 

(ख) पहरा देने वाला

उत्तर: पहरेदार


प्रश्न 3. बढ़ईगिरी में काम आने वाली औजारों के नाम लिखो l

उत्तर: बढ़ईगिरी में काम आने वाले औज़ार-

आरी- लकड़ी काटने के लिए 

हथोड़ा- कील ठोकने के लिए


प्रश्न 4. “बेवकूफ़, खड़ा हो| हुजूरे आला के सामने बैठने की जुर्रत कैसे की तूने! झुककर इन्हें सलाम कर|”

महल के पहरेदार ने केशव से ऐसा क्यों कहा ?

उत्तर: महल के पहरेदार ने केशव से यह इसलिए कहा क्योंकि वह अपने राजा के प्रति अपनी वफादारी दिखाना चाहता था l


प्रश्न 5. नीचे लिखे गए शब्दों का अर्थ बताते हुए वाक्य में प्रयोग करो l

(क) फुसफुसाना 

उत्तर: अर्थ- धीरे-धीरे बोलना

वाक्य प्रयोग- राम ने फुसफुसाकर गीता के कान में कुछ कहा l

(ख) बड़बड़ाना 

उत्तर: अर्थ- गुस्से आने पर  कुछ बोलना

वाक्य प्रयोग- सनी की गलती पर पापा बड़बड़ाने लगे l

(ग) भुनभुनाना

उत्तर: अर्थ- धीरे-धीरे किसी को कटु वचन सुनाना

वाक्य प्रयोग- गुस्सा आने पर नंदिनी अपने छोटे भाई पर भुनभुनाने लगी l


प्रश्न 6. नीचे लिखी गई संज्ञा शब्दों से क्रिया को छाँटकर लिखो l

(क) चुनाव 

उत्तर:  क्रिया शब्द-  चुनना

(ख) पड़ाव 

उत्तर:  क्रिया शब्द-  पड़ना

(ग) बहाव 

उत्तर:  क्रिया शब्द-  बहना

(घ) लगाव

उत्तर:  क्रिया शब्द-  लगना


Importance of NCERT Class 5 Hindi Chapter 4 Nanha Fankar

The Class 5 Hindi Chapter 4 is very interesting for students and they can learn a lot from the summary included in the revision notes. The story is about a young stonemason named Keshav who has an interaction with Emperor Akbar. Keshav’s father was a stonemason working for Emperor Akbar in building a fort in Sikri. One day while Keshav was practising the art of making shapes from stones, Emperor Akbar approached the young boy and he taught the Emperor how to make shapes from stones. 


When he learned that the man he was teaching was none other than the Emperor, he asked his father why he was building a home here. Then his father told Keshav that this fort was dedicated to Khwaja Salim Chishti. It was due to his blessings that the Emperor was blessed with children and he even named one of his children after Khwaja Salim Chishti. 

Benefits of Vedantu’s Revision Notes for Class 5 Nanha Fankar PDF

Students can benefit a lot from downloading the Nanha Fankar PDF revision notes and worksheets from Vedantu. 

  • These notes will help students gain a proper understanding of the storyline in the chapter, thus enabling them to answer questions directly. 

  • They will understand how to prepare for the exams by studying the Class 5 Hindi Chapter 4 question answers provided in the revision notes. 

  • Studying the revision notes before the exams would mean that students don’t have to read the entire chapter again, thus saving a lot of their time. 

  • All the answers to questions provided in the revision notes have been created by subject matter experts and hence are accurate and reliable. 

  • Students will be able to recall any details about the chapter that they might have missed, thus cementing their knowledge about the lesson. 

Download Revision Notes for Class 5 Hindi Chapter 4 Right Now 

Go ahead and download Class 5 Hindi Chapter 4 PDF revision notes from Vedantu. All the questions, exercises, and details have been crafted by subject experts that can provide the right guidance to you.

FAQs on Nanha Fankar Class 5 Notes CBSE Hindi Chapter 4 (Free PDF Download)

1. Why did Emperor Akbar build a fort in Sikri? 

The emperor was building a fort to dedicate it to Khwaja Salim Chishti who blessed the emperor to have children. It was a sign of respect and the Emperor even named one of his children after Khwaja Salim Chishti.

2. What did the Emperor promise Keshav?

The Emperor said that once the fort was built and Keshav was all grown up, he would be provided with a job as a stonemason. 

3. Is it important to learn the summary of Nanha Fankar?

In order to get a good understanding of the chapter, it is recommended that you go ahead and study the summary and take references from the revision notes.