Courses
Courses for Kids
Free study material
Offline Centres
More
Store Icon
Store

NCERT Solutions for Class 7 Hindi Chapter 14 - Khan Pan Ki Badalatee Tasveer

ffImage
Last updated date: 18th Jul 2024
Total views: 493.2k
Views today: 7.93k

Class 7 Hindi Vasant NCERT Solutions for Chapter - 14 Khan Pan Ki Badalatee Tasveer

There are hundreds of e-learning portals available today for all subjects to get the best solutions. However, not many of them come from a reliable source. Unlike others, Vedantu is an e-learning platform consisting of detailed versions of each chapter of NCERT with every topic in detail. Vedantu offers learning material that is easy to grasp making learning an enriching experience for students as well as a relaxed mind for their parents.


Here we have provided you with NCERT Solutions Class 7 Hindi Vasant Chapter 14, including all-important questions along with answers.


Class:

NCERT Solutions for Class 7

Subject:

Class 7 Hindi

Subject Part:

Hindi Part 2 - Vasant

Chapter Name:

Chapter 14 - Khan Pan Ki Badalatee Tasveer

Content-Type:

Text, Videos, Images and PDF Format

Academic Year:

2024-25

Medium:

English and Hindi

Available Materials:

  • Chapter Wise

  • Exercise Wise

Other Materials

  • Important Questions

  • Revision Notes

You can also download NCERT Solutions for Class 7 Math and NCERT Solution for Class 7 Science to help you to revise the complete syllabus and score more marks in your examinations.

Access NCERT Solutions For Class - 7 Hindi Vasant पाठ २४ - खानपान की बदलती तस्वीर

प्रश्नावली

निबंध से 

1. खानपान की मिश्रित संस्कृति से लेखक का क्या मतलब है? अपने घर का उदाहरण देकर इसकी व्याख्या कीजिए।

उत्तर: 

खानपान की मिश्रित संस्कृति से लेखक का आशय हैं की सभी स्थानों के सभी व्यंजनों का आनंद उठाना। इसमें विदेशी व्यंजन, स्वदेशी व्यंजन और प्रांतीय व्यंजनों का समावेश हैं। भोजन में उसके स्वाद और उसकी गुणवत्ता को बनाए रखना मुख्य भाग होता है। पसंद के आधार पर एक दूसरे के प्रांत की चीज़ों को अपने भोजन में शामिल किया जाता है। विश्व में भारत खानपान की दृष्टि से भी विख्यात हैं, क्योंकि यहां अलग - अलग प्रांत कि अपनी विशेषता है।इसका अर्थ है कि हर प्रांत में मुख्य व्यंजन है को केवल उसी प्रांत में मिलते हैं। जैसे - दक्षिण भारत का इडली डोसा, उपमा, सांभर, नारियल की चटनी यह सभी व्यंजन बड़े ही स्वादिष्ट होते हैं। गुजरात के जलेबी - फाफडा, ढोकला वहां के प्रसिद्ध व्यंजन हैं। यह सभी व्यंजन केवल थी खाने को नहीं मिलता बल्कि भारत के हर कोने में मिलते हैं।यदि अपने घरों की बात कि जाए तो वहां देशी, विदेशी और प्रांतीय भोजन बनाया जाता है।

2. खानपान में बदलाव करने के क्या फायदे होते हैं? तथा लेखक इन्हें लेकर चिंतित क्यों हैं।

उत्तर: 

खानपान में बदलाव के फायदे निम्नलिखित हैं:

  • खानपान की मिश्रित संस्कृति से राष्ट्रीय एकता को बढावा मिलता है।

  • कामकाजी महिलाओं को देशी विदेशी व्यंजनों की विधि का ज्ञान होता है जो जल्दी बनकर त्यार हो जाते हैं। 

  •  बच्चे एक ही प्रकार का भोजन करके उब जाते हैं इससे बच्चो को खाने में विकल्प प्राप्त हो जाते हैं।

  • नई पीढ़ी अब इस संस्कृति को एक व्यवसाय के रूप में ले रहीं हैं। लेखक मिश्रित संस्कृति के बदलावों को लेकर चिंतित भी हैं क्योंकि इस संस्कृति में व्यंजनों को उनके असली स्वाद से वंचित रहना पड़ता है। नई पीढ़ी को स्थानीय व्यंजनों के बारे में पूरी जानकारी नहीं मिल पाती।

3. खानपान के मामले में स्थानीयता का क्या अर्थ होता है?

उत्तर: 

खानपान के मामले में स्थानीयता का अर्थ होता है कि किसी विशेष व्यंजन का किसी शहर में मिलना। उदाहरण के तौर पर मुंबई का वड़ापाव, पाव भाजी गुजरात का ढोकला दिल्ली के छोले भटुरे आगरा का पेठा आदि सभी स्थानीय व्यंजन होते हैं।

निबंध से आगे 

1. घर में बातचीत करकेप्ता कीजिए कि आपके घर में क्या चीज़े पकती है और कौन - कौन से चीज़े बाहर से लाई जाती हैं।? इनमें कौन - सी चीज़े हैं जो अब बाहर से लाई जाती हैं पर आपके माता - पिताजी के समय में वह घर में ही बनाई जाती थी?

उत्तर:  

  • घर में बनने वाली चीज़े - दाल, रोटी, चावल, करेले की सब्जी, बैगन की सब्जी, समोसे, पकोड़े।

  • बाहर से आने वाली चीज़े - मिठाइयां, रबड़ी, आइस-क्रीम, पिज़्ज़ा, बर्गर आदि।

  • इन सब में पहले मिठाइयां और रबड़ी घर में बनाई जाती थी।

2. यहां खाने पकाने और स्वाद से सम्बन्धित कुछ शब्द दिए गए हैं उन्हें डायन से देखिए और उनका वर्गीकरण कीजिए।

उबालना, तलना, सेकना, भूनना, दाल, भात, रोटी, पापड़, आलू, बैगन, खट्टा, मीठा, तीखा, नमकीन, कसैला।

भोजन             कैसे पकाया            स्वाद 

उत्तर:   

भोजन

कैसे पकाया

स्वाद

दाल

उबालना

मीठा/ तीखा

भात

उबालना

नमकीन/मीठा

रोटी

सेकना

नमकीन

पापड़

तलना/सेकना

नमकीन

आलू

भूनना

तीखा/ नमकीन

बैगन

भूनना

कसैला

3. छौंक, चावल, कड़ी।

इन शब्दों में क्या अंतर हैं? समझाइए। इन्हें बनाने के तरीके विभिन्न प्रांतों में अलग अलग हैं।पता करे की आपके प्रांत में इन्हे कैसे बनाया जाता है?

उत्तर: 

  • छौंक: कड़ाई में घी गरम करके जीरा, राई, कड़ी पत्ता आदि मसले डालकर छौंक तैयार किया जाता है। कभी कभी छौंक में लहसुन और टमाटर भी डाले जाते है। विभिन्न प्रांतों में छौंक बनाने का तरीका अलग होता है।

  • चावल: चावल पानी में उबालकर बनाया जाता है। चावल भी विभिन्न प्रकार के होते हैं - सादे चावल और बासमती चावल। चावल बनाने के तरीका भी भिन्न - भिन्न होते हैं। सब्जियां मिलाकर बनाने से पुलाव बनता है, दाल मिलाकर बनाने से खिचड़ी बनती हैं। बासमती चावल से बिरयानी बनाई जाती हैं और दूध मिलाकर बनाने से खीर बनती हैं।

  • कड़ी: कड़ी भी विभिन्न तरीकों से बनाई जाती है। दही से भी कड़ी बनाई जाती हैं। कुछ लोग बेसन को भूनकर उसमें सब्जियां भिंडी, गोबी, आलू मिलाकर भी कड़ी बनाई जाती हैं।

4. पिछली शताब्दी में खानपान कि बदलती तस्वीर का खाका खीचे तो इस प्रकार होगा।

  • सन् साथ का दशक - छोले - भटुरे ।

  • सन् सत्तर का दशक - इडली, डोसा 

  • सन् अस्सी का दशक - तिब्बती(चीनी) भोजन 

  • सन् नब्बे का दशक - पिज़्ज़ा, पाव - भाजी 

  • इसी प्रकार आप कुछ बदलती पोशाकों या कपड़ों का खाका खीचिए।

उत्तर: 

  • सन् साठ का दशक - कुर्ता- पायजामा, धोती, साड़ी, लहंगा-चोली।

  • सन् स्त्तर का दशक - पेंट - शर्ट, कुर्ता - सलवार, साड़ी

  • सन् अस्सी का दशक -   स्कर्ट, चूड़ीदार - पायजामा, जीन्स - टॉप, टीशर्ट 

  • सन् नब्बे का दशक - जीन्स - टॉप, टीशर्ट, कोट, शेरवानी 

5. मान लीजिए आपके घर मेहमान आ रहे हैं और वह आपके प्रांत का पारंपरिक भोजन करना चाहते हैं। उन्हें खिलाने के लिए आप अपने घर के लोगों की मदद से एक व्यंजन सूची (मेन्यू) बनाईए।

उत्तर: 

प्रस्तुत निबन्ध में खानपान कि बदलती तस्वीर दिखाई गई है, जिसके अनुसार प्रांत कोई भी हो मेहमान के आने पर तो खाना नए जमाने के अनुसार ही बनता है। मान लीजिए महमं पंजाबी खाना चाहते हैं तो उसके अनुसार हमारा मेन्यू निम्न होगा:

  • सबसे पहले तो मेहमानों को स्वागत पेय ( वेलकम ड्रिंक ) दिया जाता है।उसमें हम लस्सी प्रस्तुत करेंगे ।

  • इसके बाद शुरुवाती व्यंजन अर्थात स्टार्टर में हम उन्हें समोसे, कचोरी,आदि परोस सकते हैं 

  • इसके बाद मुख्य भोजन अर्थात मेन कोर्स में छोले भटुरे, राजमा चावल परोसेंगे।

  • खाने के बाद मीठे में टोशे, गाजर का हलवा,खीर परोसेंगे।

अनुमान और कल्पना 

1.' फास्ट फूड ' अर्थात् तुरंत भोजन के नफे - नुकसान पर कक्षा में वाद - विवाद कीजिए।

उत्तर: 

'फास्ट फूड' अर्थात तुरंत भोजन के फायदे नुकसान दोनो हैं।

फायदे - पहले हम फायदे के बारे में बात करेंगे। आज कल की भाग दौड़ वाली ज़िंदगी में फास्ट फूड का चलन बढ़ गया है क्योंकि फास्ट फूड जैसे - मैगी, पास्ता,नूडल्स आदि जल्दी बन जाते हैं। पहले के समय में स्त्रियां घर से बाहर काम करने नहीं जाया करती थी तथा वह घर का सारा काम स्वंय करती थी और खाना बनाने पर विशेष ध्यान देती थी।समय की कोई पाबन्दी नहीं हुआ करती थी, आजकल स्त्रियां भी बाहर काम करने जाती हैं तो ऐसे में कुछ भी झ्ट पट फास्ट फूड बना देती है। दूसरा कारण बच्चों की पसंद आजकल के बच्चे मेथी के पराठे,कुट्टू आदि सब्जियां नहीं खाते इसलिए मताए उन्हें मैगी बनाकर देती हैं।

नुकसान - फास्ट फूड को खाने से उसके फायदे से ज्यादा उसके नुकसान हैं। फास्ट फूड सेहत का सबसे बड़ा शत्रु हैं।जिसे अपनी सेहत बेकार करनी हैं वोह फास्ट फूड खाए।फास्ट फूड जल्दी पचता नहीं जिससे पेट सम्बन्धित बीमारियां हो जाती है। फास्ट फूड में जो मसले डाले जाते हैं वह संक्रमण  करते हैं।

2. हर शहर, कस्बे में कुछ ऐसे स्थान अवश्य होते हैं जो अपने मुख्य व्यंजन के लिए जानी जाती हैं आप अपने कस्बे, शहर का चित्र बनाकर उनमें सभी स्थानों को दर्शाए।

उत्तर: 

  • मुंबई - वड़ा - पाव, पाव-भाजी (फूड स्ट्रीट)

  • दिल्ली - छोलेभटूरे, आलू पराठा, दही-भल्ले (चांदनी चौक - पराठा गली)

  • कोलकाता - संदेश, रसगुल्ला, बंगाली मिठाई

  • पंजाब - छोलेभटूरे, राजमा चावल, आलू का पराठा, गोबी का पराठा (अमृतसर)

  • गुजरात - खमन-ढोकला, फाफडा, जलेबी (कुबेर नगर)

3. खान पान के मामले में शुद्धता का मसला काफी पुराना है। हमने अपने अनुभवी से इस मिलावट को देखा हैं। किसी फिल्म य अखबार की खबर से खान पान में होने वाली मिलावट से होने वाले नुकसान कि चर्चा कीजिए।

उत्तर: 

आजकल क दौर में खानपान में मिलावट एक आम बात हो गई है। शुद्धता की भी चीज में नहीं रही चाहे मसालों की बात हो या घी की। यहां तक कि आजकल सब्जियां भी शुद्ध नहीं मिल रही।समय से पहले सब्जियां और फलों को तोड लिया जाता है।उन्हें अप्राकृतिक तरीके से इंजेकशन देकर पकाया जाता हैं। लाल मिर्च के पाउडर में, इट पीसकर मिलाई जाती हैं। दूध की मिलावट के विषय में तो पूछिए मत दूध में पानी नहीं, पानी में दूध मिलाया जाता है। सफेद रंग को पानी में मिलाकर दूध बनाया जाता हैं। चावल, दाल में प्लास्टिक मिलाया जाता है। अब इन मिलावटी चीजो से सेहत कैसे बनेगी, सबकी सेहत बिगड़ ही चुकी हैं। आजकल जो बीमारियां हों रही हैं, वह बीमारियां आज से पहले किसी ने सुनी भी नहीं थी। यह सब खानपान कि वजह से हैं। गए या एसिडिटी तो हर घर की समस्या बन गई हैं। मोटापा, दिल की बीमारी, मधुमेह आदि सब मिलावटी खाना खाने से होती हैं।

भाषा की बात 

1. खानपान शब्द,खान पान दो शब्दो से मिलकर बना है। खान पान शब्द में और छुपा हुआ हैं। जिन शब्दों के योग में और, अथवा, या जैसे योजक शब्द छीपे होते हैं, उन्हें द्वंद समास कहते हैं।नीचे द्वंद समास के कुछ उदाहरण दिए गए हैं। इनका वाक्यों में प्रयोग कीजिए और अर्थ समझाइए।

  1. सीना - पिरोना 

  2. भला - बुरा

  3. चलना - फिरना 

  4. लंबा - चौड़ा

  5. कहा - सुनी 

  6. घास - फूस

उत्तर: 

  1. सीना - पिरोना- पहले के समय में स्त्रियां घर में ही सीना पिरोना का कार्य किया करती थी।

  2. भला - बुरा - हमें अपने पड़ोसियों को भला बुरा नहीं बोलना चाहिए।

  3. चलना - फिरना - एक हफ़्ते अस्प्ताल में रहने के बाद गुप्ता जी चलने फिरने लगे।

  4. लंबा - चौड़ा - पहलवान लंबे चौड़े होते हैं।

  5. कहा - सुनी - कभी कभी दो मित्रो में छोटी बातो को लेकर कहा सुनी हो जाती हैं।

  6. घास - फूस - गावं में अभी भी लोग घास फूस से बने घरो में रहते हैं।

2. कई बार एक शब्द सुनने या पड़ने पर और शब्द भी याद आ जाते हैं। आइए इससे शब्दो की कड़ी बनाए।नीचे शुरुवात कि गई हैं। उससे आप आगे बढाइए।कक्षा में मौखिक सामूहिक गतिविधि में भी इसे दिया जा सकता। इडली - दक्षिण - केरल - ओणम - त्योहार - छुट्टी - आराम।

उत्तर: छुट्टी - आराम - टीवी - क्रिक्रेट।

NCERT Hindi Class 7 Solutions: An Overview

Class 7th Hindi Chapter 14 khaan paan ki badalti tasveer, has mainly focused on the ways eating habits have been changed in the country over the years. Starting from children to adults, everyone has become aware of the various fast foods now.

Ch 14 Vasant Class 7has also focused on how south Indian foods are available in the whole country. Likewise, staple foods in every part of the country are available everywhere. There has been a major change in the foods that people eat and the places where they can eat them.

Earlier, particular fruits and vegetables were available in specific seasons, but now they are available all over the world. Not only this, but Vasant Class 7 Chapter 14 has also talked about how people prefer cooking foods that can be made easily in no time, also the cost of foods is considered while buying and cooking them.

NCERT solutions Class 7 Hindi khaan paan ki badalti tasveer consists of questions like the places where particular food items are available, the advantages of changes in eating habits, and many others as well.

Important Key Points of the Story

By the mixed culture of food, the author means the mixed form of food and drink of all the regions. Here the author wants to say that today we get to see the food of many provinces in the same house. People have included food items of each other province in their food items on the basis of industries, jobs and transfers and their choice.


My house is in Kolkata. I am from a Bengali family. Our staple food is rice and fish, but apart from rice and fish in our house, South Indian dishes like idli, sambar, dosa etc. and western food burgers and noodles are also liked. We do not even bring them from the market and make them in our own house.


Following are the benefits of changing the diet:

  1. To get a chance to know and understand the cultures of different regions.

  2. To promote national integration.

  3. Being interested in eating because of getting to eat different types of food.

  4. Knowing the cuisines of the country and abroad.

  5. To make available various quick preparation recipes to housewives and working women.

  6. To be able to choose food on the basis of taste, health and taste.

  7. Save time.


Despite the benefits of changing the diet, the author is concerned about this change because he believes that today adopting a mixed culture of food is also causing disadvantages which are as follows:

  1. The trend of local cuisine is decreasing due to which the new generation does not know about the local cuisine.

  2. There is a lack of purity in the food items.

  3. Some dishes are not healthy from the point of view of health.


NCERT Solutions with the Latest Syllabus for Class 7 Hindi

Vedantu offers chapter-wise important points along with the NCERT solutions for Class 7 Hindi Vasant Chapter 14 khaan paan ki badalti tasveer as well as other chapters.

Here is the full Hindi syllabus for Class 7 which consists of two books Vasant bhag 2 and Durva bhag 2 which includes a chapter-wise explanation as well as questions after each chapter.

Vasant Bhag 2

  • Chapter 1 – Hum panchee unmukt gagan ke

  • Chapter 2 – dadee maa

  • Chapter 3 – himalayaa ki betiyaan

  • Chapter 4 – kathputlee

  • Chapter 5 – mithaivala

  • Chapter 6 – rakht aur humara shareer

  • Chapter 7 – paap – haar gaye

  • Chapter 8 – shaam - ek kisaan

  • Chapter 9 – chidiya ke bacchee

  • Chapter 10 – apoorv anubhav

  • Chapter 11 – Raheem ke dohe

  • Chapter 12 - kancha

  • Chapter 13 – ek tinkaa

  • Chapter 14 – khaan pan ke badalte tasveer

  • Chapter 15 - neelkanth

  • Chapter 16 – bhor aur barakha

  • Chapter 17 – veer Kunwar sinha

  • Chapter 18 - sangharsh ke karan main tunukamizaaj ho gaya hoon: Dhanaraaj

  • Chapter 19 – aashraam ka anumanit vyaay

  • Chapter 20 – Viplav – gyaan

Durva Bhag 2

  • Chapter 1 – Chidiya aur churungun

  • Chapter 2 – Sabse sundar ladki

  • Chapter 3 – main hu robot

  • Chapter 4 – gubbare par cheeta

  • Chapter 5 – thodi dharti paun

  • Chapter 6 – garo

  • Chapter 7 – pustakein jo amar hain

  • Chapter 8 – kabooliwala

  • Chapter 9 – vishresharya

  • Chapter 10 – hum dharti ke lal

  • Chapter 11 – pongal

  • Chapter 12 – shaheed jhalkaribai

  • Chapter 13 – nrityangana Sudha chandran

  • Chapter 14 – paani aur dhoop

  • Chapter 15 – geet

Vedantu offers a detailed explanation of all the chapters along with NCERT solutions for Class 7 Hindi Vasant Chapter 14 and other chapters with questions and answers in a downloadable form.

Vedantu provides the material free of cost that can be downloaded easily. It also offers material for other competitive exams, Olympiads, material for all classes making it a perfect choice for students.

All the exercises from khaan paan ki badalti tasveer Class 7 NCERT solutions are available here for free.

Hindi can be a little tough and time-consuming for students to learn. By learning through Vedantu, you will also be able to learn different tricks and methods to learn Hindi with the help of its experienced and trained teachers having crisp knowledge about the subject and CBSE Class 7 Hindi Vasant Chapter 14 solutions.

  • Start studying Hindi by practicing sentence writing in Hindi to avoid any grammatical mistakes during the examination.

  • Read the chapters of Hindi and Class 7 Hindi Vasant Chapter 14 at least three times and then start answering the questions given at the back of each chapter.

  • Write the Class 7 Hindi Vasant Ch 14 NCERT solutions again and again so you can memorize it properly. This will help you to be able to remember all the concepts until the day of your examination.

You can check out the NCERT solution of Class 7 Hindi Vasant Chapter 14 on the Vedantu app or website for getting a detailed yet brief summary of each chapter and khaan paan ki badalti tasveer Class 7 solutions whenever you get stuck! It also provides complete solutions to every concept making it the best option for the preparation and learning of students.


NCERT Solutions for Class 7 Hindi Vasant - All Chaterwise Solutions

FAQs on NCERT Solutions for Class 7 Hindi Chapter 14 - Khan Pan Ki Badalatee Tasveer

1. Is there anyone website that can provide all the NCERT solutions for Hindi Class 7 Vasant Chapter 14 solutions including its important questions with solutions?

Vedantu, the e-learning platform, offers a complete explanation of every chapter subject-wise with all the exercise questions and answers at one place making it extremely easy for you to grasp concepts.

2. Is the information provided of chapters on the Vedantu website reliable enough to study for exam purposes?

All the study materials including answers to questions, sample papers available on the Vedantu website for 7th Hindi Chapter 14 and others have been designed by experienced, skilled as well as trained teachers having a crisp knowledge about the subject making it a perfectly reliable source for students to prepare themselves for examinations.

3. What is the Chapter 14 Class 7 Hindi Vasant textbook about?

The title of Chapter 14 of the Class 7 Hindi textbook is Khaan Paan Ki Badalti Duniya. The chapter talks about how cuisines worldwide have changed since the world has started integrating at a greater pace and after the globalization reforms. The cuisines that were earlier found only in a particular region have now moved beyond the regional boundaries. The world market is not being dominated by fast food. The Chapter also tells us the impact it has had on traditional cuisines. Refer to NCERT Solutions for Chapter 14 of Class 7 Hindi Vasant free of cost on the Vedantu website and the Vedantu app to understand the concepts of the chapter.

4. What do you understand about fast food, according to Chapter 14 of Class 7 Hindi Vasant?

Fast food is packaged food that is easy to cook. It can be cooked easily. It contains zero to a few additional ingredients as it contains all the essential ingredients. To cook fast food such as the 2-minute noodles, all you have to do is follow the instructions given at the back of the packaged food. Now, deep-frozen packaged food such as french fries has become a part of our lifestyle as it is considered more convenient and helps save people time. 

5. What has been the impact of fast food, according to Chapter 14 of Class 7 Hindi Vasant?

Fast food is also called easy to cook food because it requires zero to little effort to prepare the ingredients and cook. Today, every dish, every meal has been internationalized. Its most significant impact has been on the new generation who are more familiar with the cuisines of Italy, the USA than the traditional cuisines of the region. It also helps working women save time and provides them with many varieties to cook from. It has also impacted the taste of almost all generations. 

6. How has fast food helped working women, according to Chapter 14 of Class 7 Hindi Vasant?

As the world becomes more globalized and integrated, women get opportunities to work and be independent. As the families grow nuclear and migrate to different places in search of employment opportunities, women find less time to cook traditional meals that require lots of time, ingredients, spices, and effort. Fast food has enabled them to focus more on work, cook a variety of meals for their family quickly, and develop a liking for the new taste they offer. 

7. What do you think are the shortcomings of fast food, according to Chapter 14 of Class 7 Hindi Vasant?

Fast food has helped different groups differently, but at the same time, it is not without shortcomings. Fast food contains adulteration and is not entirely safe to consume. Several preservatives are added to the food to increase its shelf life. It contains lots of calories and fats that are not beneficial to the body. Also, fast food is not able to maintain the original flavour and taste of the various cuisines. It provides us with a variety and an option to choose from. But as the variety it provides increases, the same cannot be said for the quality it provides.