Courses
Courses for Kids
Free study material
Offline Centres
More
Store Icon
Store

NCERT Solutions for Class 7 Hindi Chapter 15 - Neelakanth

ffImage
Last updated date: 13th Jul 2024
Total views: 491.4k
Views today: 4.91k

Class 7 Hindi Vasant Neelakanth NCERT Solutions for Chapter 15

CBSE Class 7 Hindi Vasant Chapter 15 Neelakanth is a crucial chapter of this syllabus. Students will need the assistance of the complete study material to understand its context and learn to formulate answers precisely. This is where the Class 7 Hindi Vasant Chapter 15 Neelakanth NCERT Solutions will come in handy. The answers to all the exercise questions have been formulated by the subject experts of Vedantu by following a simple format and the latest CBSE Class 7 Hindi syllabus.


The NCERT solutions for every class at Vedantu are prepared in the most refined manner possible. This study material is prepared by professional staff with the collective minds of the best team. The solutions are highly accurate and precise thus, leaves no room for confusion.


Class:

NCERT Solutions for Class 7

Subject:

Class 7 Hindi

Subject Part:

Hindi Part 2 - Vasant

Chapter Name:

Chapter 15 - Neelakanth

Content-Type:

Text, Videos, Images and PDF Format

Academic Year:

2024-25

Medium:

English and Hindi

Available Materials:

  • Chapter Wise

  • Exercise Wise

Other Materials

  • Important Questions

  • Revision Notes



The content is explained with detailed concepts in online classes and required CBSE NCERT Solutions for Class 7th Hindi Vasant Chapter 15 are provided in PDF format on this page below. The solutions are prepared according to the latest CBSE guidelines in the required word limit to save the extra time and effort of students and examination.

Access NCERT Solutions For Class 7 Hindi Vasant पाठ १५ - नीलकंठ

निबन्ध से:

1. मोर-मोरनी के नाम किस आधार पर रखे गए?

उत्तर: मोर के गर्दन बहुत दुदंर और नीली थी इसलिए मोर का नाम नीलकंठ रखा गया तथा मोरनी सदा उसके साथ उसकी छाया की तरह रहती थी इस आधार पर उसका नाम राधा रखा गया।


2. जाली के घर में पहुंचने पर मोर के बच्चो का किस प्रकार स्वागत हुआ?

उत्तर: जाली के घर में पहुंचने प्र मोर के बच्चो का स्वागत बड़े ही प्रेम से हुआ सभी सदस्य ने हर्ष व्यक्त किया जैसे मानो किसी नए विवाहित जोड़े का स्वागत कर रहे हो। मोर के बच्चो को देख कर कबूतर नाचना छोड़ कर उनके पीछे ही गुटर गु करने लगा जैसे वह उनके आने पर अपनी सहमति व्यक्त कर रहा हो।बड़े के सभी सदस्य मोर के बच्चो को देखना चाहते थे। खरगोश के बच्चे तो मोर के बच्चो के चारो तरफ खेलने लगे जबकि खरगोश एक कोने में बैठ कर उनका निरीक्षण कर रहे थे।तोते ने एक आंख बन्द करके उनका निरीक्षण किया और स्वागत किया।


3. लेखिका को नीलकंठ की कौन कौन सी चेष्टाएं बहुत भाती थी?

उत्तर: लेखिका को नीलकंठ की निम्नलिखित चेष्टाएं बहुत भाती थी:

  1. नीलकंठ बहुत दयालु स्वभाव के थे तथा वह हमेशा सबकी रक्षा करते थे।

  2. वर्षा ऋतु के समय नीलकंठ अपने पंख फैलाकर नाचता तथा राधा उनका साथ देती थी यह बात लेखिका को बहुत भाती थी। शायद नीलकंठ को इस बात  का अंदाज़ा हो गया था इसलिए जब भी लेखिका आती तो नीलकंठ नाचने की मुद्रा में खड़ा हो जाता था।

  3. नीलकंठ को पता था कि किसके साथ कैसा व्यवहार करना है उन्होंने खरगोश के बच्चो को खाने के लिए साप के टुकड़े करके दिए थे जब लेखिका के हाथ से भून हुए चने खाते थे तो वह उनको तनिक भी नुकसान नहीं पहुंचते थे।

  4. इसके अतिरिक्त नीलकंठ का गरदन उठाकर इधर उधर देखना,सिर तिरछा करके बात सुनना और गरदन झुकाकर दाना चुगना और पानी पीना भी भाता था।


4. 'इस आनंदोत्सव  की रागिनी में बेमेल स्वर कैसे बज उठा' - वाक्य किस घटना की और संकेत करता है?

उत्तर: 'इस आनंदोत्सव की रागिनी में बेमेल स्वर कैसे बज उठा' वाक्य लेखिका के कुब्जा मोरनी को लेकर आने की और संकेत करता है।लेखिका एक दिन एक बीमार कुभा मोरनी कों लेकर आती उसके ठीक होने के पश्चात उससे भी बाकी जनवरी के साथ जाल में भेज दिया गया परंतु कुबजा बाकी जनवरी के साथ घुल मिल नहीं पाई। वह राधा को तथा अन्य किसी भी जानवर को नीलकंठ के करीब नहीं आने देती थी यदि कोई आता तो उसे अपनी चोंच मारकर घायल कर देती थी। उसने ईर्ष्या में मोरनी के अंडे भी फोड़ दिए जब नीलकंठ को पता चला तो वह बहुत दुखी रहने लगे और बाड़े की रौनक ही चली गई।


5. वसंत ऋतु में नीलकंठ के लिए जाल घर में बन्द रहना कठिन क्यों हों जाता था?

उत्तर: वसंत ऋतु मोर का प्रिय ऋतु होता है इसमें पेड़ो पर नए पत्ते आते हैं,आम पर बौर आता है,अशोक नए लाल पत्तो से भर जाते हैं।वातावरण में खुशबू हो जाती हैं।इसलिए वर्षा ऋतु में नीलकंठ के लिए बन्द रहना कठिन हो जाता है।


6. जाली घर में रहने वाले सभी जीव मित्र बन गए थे परन्तु कुभ के साथ ऐसा संभव क्यों नहीं हो पाया?

उत्तर: जाली घर में रहने वाले सभी जीव मिलनसार स्वभाव के थे।इसके विपरित कुब्ज़ा ईर्ष्यालु स्वभाव की थी। कूभा को किसी का भी नील कंठ के करीब आना पसंद नहीं था इसलिए वह काफी जीवो को कोच मारकर घायल कर चुकी थी।जिसके कारण नीलकंठ भी उससे डर कर दूर भागता था।कूबजा के इसी स्वभाव के कारण वह किसी से भी दोस्ती नहीं कर पाई।


7. नीलकंठ ने खरगोश के बच्चे को किस तरह बचाया?इस घटना के आधार पर नीकनथ की विशेषताओं का वर्णन कीजिए।

उत्तर: एक दिन बाड़े में साप कहीं से घुस आया उसने खेलते खरगोश के बच्चे को मारने के लिए पीछे से जकड़ लिया, बच्चा चींचीं करने लगा।इस कंदर्न की आवाज सुनकर नीलकंठ की आंखे खुली और झूले से नीचे उतरे, उन्होंने साप को गर्दन से बड़ी ही सतर्कता से पकड़ा और तब तक अपनी चोंच वार किया जब तक वह अधमरा नहीं हो गया इस तरह बच्चे कि जान बचाई गई।

इस घटना के आधार पर नीलकंठ की निम्न विशेषताओं का ज्ञान होता है:

  1. नीलकंठ बाड़े का एक सजग और सचेत मुखिया था।जिस प्रकार घर के मुखिया सबका ध्यान रखते हैं उसी प्रकार नीलकंठ भी सबका ध्यान रखते हैं।

  2. नीलकंठ समझदार थे जिस प्रकार उन्होंने समझदारी से साप को जकड़ा उससे खरगोश का बच्चा बच गया।

  3. नीलकंठ बहुत साहसी था , उसने जल्दी से बिना डरे साप को पकड़ा और बच्चे को सुरक्षित बचा लिया।

  4. नीलकंठ बहुत दयालु ठवह पूरी रात खरगोश के बच्चे को पंख से गरम करते रहे।


निबन्ध से आगे 

8. यह पथ एक ' रेखाचित्र ' हैं। रेखाचित्र की क्या विशेषताएं होती हैं जानकारी प्राप्त कीजिए और लेखिका के किसी और रेखाचित्र को पढ़िए।

उत्तर: जब एक साहित्यकार शब्दो के माध्यम से साहित्य में व्यक्ति, वस्तु, और घटना का सजीव चित्र बनाते हैं तो उसे रेखाचित्र कहते है। रेखाचित्र भावनात्मक रूप से सरल होते हैं इनमें प्राय: छोटी छोटी घटनाओं का उल्लेख होता हैं महादेवी वर्मा जी द्वारा लिखित अन्य रेखाचित्र स्मृति की रेखाएं एवं अतीत के चलचित्र है।


9. वर्षा ऋतु में जब आकाश में बादल भर जाते हैं तब मोर पंख फैलाकर धीरे धीरे मचलने लगता है, यह मोहक दृश्य देखने का प्रयास कीजिए।

उत्तर: माता पिता के साथ चिड़ियाघर जाकर यह दृश्य देखा जा सकता है अथवा इंटरनेट पर मोर के नाचने की काफी विडियोज उपलब्ध हैं जिससे छात्रों का ज्ञानवर्धन होगा।


10. पुस्तकालय से ऐसी कहानियां, कविताओं, गीतों को खोजकर पढिए को वर्षा ऋतु और मोर के नाचने से सम्बन्धित हो।

उत्तर: छात्र स्वयं करे।


अनुमान और कल्पना 

11. निबंध में आपने यह पंक्तियां पढ़ी हैं - ' में उसे शाल में लपेटकर अपने संगम के आयी जब गंगा की बीच धार में उससे प्रवाहित किया गया तब उसकी चंद्रिकाओ से बिंबित और प्रतिबिंबित होकर गंगा का एक चोडा पाट मयूर के समान तरंगित हो उठा '। इन पंक्तियों में एक भाव चित्र हैं। इसके आधार पर कल्पना कीजिए और लिखिए की मोरपंख की चंद्रिका और गंगा की लहरों में क्या समानताएं लेखिका ने देखी होंगी जिससे गंगा का एक चोड़ा पाट मयूर के समान तरंगित हो उठा।

उत्तर: निबन्ध में यह भाव चित्र उस समय का हैं जब लेखिका नीलकंठ के मृतक शरीर को गंगा कि बीच धारा में प्रवाहित करने जाती हैं।मोर के पंख की चंद्रीकाए सुनहरे और गहरे रंग की होती है।जब लेखिका नीलकंठ के शरीर को जल में प्रवहित करती हैं तो उनके पंख पानी में फैलकर तैरने  लगते हैं!नदी की लहरों पर जब सूरज की किरणे पड़ती हैं तो आंख और भी ज्यादा चमकने लगते है और  मानो ऐसा लगता है कि गंगा का एक चोड़ा पाट मयूर के समान तरंगित हो उठा।


12. नीलकंठ की नृत्य भंगिमा का शब्दचित्र प्रस्तुत कीजिए।

उत्तर: मेघो की छाया में वर्षा होने की अनुभूति होने मात्र से ही नीलकंठ अपने इन्द्रधनुष सरीखे रखो को पंडलकार खड़ा करके जो नाचता था उस गति में सहज ही एक लय एवम् ताल होता था!  कभी आगे जाता कभी पीछे , दाए बाय होकर कभी ठहर जाता था।नीलकंठ के नृत्य को देखने के लिए लेखिका भी लालयित रहती थी।


13. ' रूप ' शब्द से कुरूप, स्वरूप, बहुरूप आदि शब्द बनते हैं। इसी प्रकार नीचे लिखे शब्दों से अन्य शब्द बनाए।

उत्तर: 

  1. गंद - सुगंध, दु्गंध, गंधक

  2. रंग - रंगीन, रंगहीन, बेरंग, रंगरोगन

  3. फल - सफल, विफल, असफलता, असफल

  4. ज्ञान - विज्ञान, सद्ज्ञान, अज्ञान


14. विस्मयभिभूत शब्द विस्मय और अभिभूत दो शब्दो के योग से बना है। इसमें विस्मिय के य के साथ अभिभूत के अ के मिलने से या हो गया है। अ आदि वर्ण हैं।यह सब वर्ण - ध्वनियों में व्याप्त है। व्यंजन वर्णों में इसके योग को स्पष्ट रूप से देख जा सकता है। जैसे-कृ्+अ-क इत्यादि।अ की मात्रा में चिन्ह (ऻ) से आप परिचित है। अ  भाती किसी शब्द में आ के भी जुड़ने से आकर की मात्रा ही लगती हैं।जैसे मंडल + आकार - मंडलाकार। मंडल और आकर की संधि करने पर (जोड़ने पर) मंडलाकार शब्द बनता हैं और मंडलाकार शब्द का विग्रह करने पर (तोड़ने पर) मंडल और आकर दोनो अलग होते हैं। नीचे दिए गए शब्दो के संधि विग्रह कीजिए।

उत्तर:

संधि

विग्रह

नील + आभ - नीलाभ

सिंहासन - सिंह + आसन

नव + आगंतुक - नवागंतुक

मेघाच्छत्र - मेघ + आछत्र

Importance of Class 7 Hindi Vasant Chapter 15 Neelakanth NCERT Solutions

Class 7 Hindi Vasant Chapter 15 Neelakanth is an important chapter included in the syllabus to develop the conceptual and Hindi language foundation among the students. This chapter needs proper preparation to cover the topic well and to understand the context properly. This is where the exercise solutions formulated by the experts can be used.

The answers to all the exercise questions have been formulated by following the CBSE Class 7 Hindi standards to make them easily comprehensible. The students will learn how to answer such questions by following the solutions during practising solving exercises.

The solutions to the exercises of this chapter will act as the perfect guide for the students to follow and prepare the entire chapter well. These questions are important to learn and so the solutions will act as the ideal study material to follow.

All the answers provided in this solution are accurate and complies with the CBSE guidelines. Hence, they can be directly studied and memorised by the students. Add these NCERT solutions to your study material and make your preparation better.


Class 7 Hindi Vasant Chapter 15 Neelkanth

Chapter 15 Vasant Class 7 is composed of one of the most popular authors Mahadevi Verma. In this chapter, a beautiful bond between an animal and a human is depicted. How animals and humans can coexist happily with each other can be understood very well through the chapter.


In this story, the author adopts a peacock and a peahen with some rabbits, parrots, and other animals as pets. The peacock was named as Neelkanth owing to his shiny blue neck and the peahen is named as Radha as she always stays with her love Neelkanth. They make a gorgeous lovely couple together. After a while, when a new peahen was adopted by Mahadevi Verma, she started to poke everyone so that only she could live with Neelkanth.


In the grief of separation of Neelkanth from Radha, Neelkanth dies much before then his time of age. In this chapter, there are some sensitive and heart-touching activities performed by Neelkanth and Radha together. There are a total of 29 questions in the NCERT textbook of the respective chapter.


All the NCERT solutions for Class 7 Chapter 15 Neelkanth are freely available in PDF format at Vedantu in an easily accessible manner.


Advantages of Class 7 Hindi Vasant Chapter 15 Neelakanth NCERT Solutions

  • The answers to all the exercise questions have been formulated into a single file you can access here. You can also download the file and make your preparation easier.

  • Resolve the doubts related to the exercise questions evolving during studying this chapter by using the solutions. In this way, you can save time and proceed with the preparation of this subject.

  • You can also use these solutions as the revision material for this subject before an exam. The easier format used to frame these solutions will help you recall the correct answers for particular questions during an exam.

  • Develop your answering skills according to the formats cited by the experts in these solutions and learn how to score more in the exams.

The solutions are written in easy and simple language, so download the free pdf for NCERT solutions of Class 7 Hindi Vasant Neelkanth right now.


Benefits of NCERT Solutions for Class 7 Hindi Vasant

There are many benefits of learning and practising NCERT solutions for Class 7 Hindi Vasant Neelkanth at Vedantu some of these benefits are marked below:

  • The solutions help to conclude the chapter in truly little time.

  • Understanding and practising NCERT solutions help students to solve other questions related to the chapter.

  • NCERT solutions construct conceptual learning in young minds for exposing them to the new questions other than from the NCERT textbook.

  • NCERT solutions help to gather maximum marks by revealing all the vital masterpoints of the chapter.

  • NCERT solutions provide a golden opportunity for sequential notes collection aiming to quick handy revision before exams.

How Would Vedantu Study Material Help Students?

The study materials that are prepared with an aim of conceptual learning and quick understanding are always useful for dedicated students. The experienced faculty at Vedantu explains every topic with clarity and detailed meaning. The study material is prepared according to every student's ability for problem-solving. Thus, this e-learning platform is appropriate for every level of the student.


Vedantu focuses not only on learning but also on simultaneous practising. Hence, there are many sample papers, practice sets, category wise distributed questions, HOTS, mock tests, previous years solved questions, and NCERT solutions available for regular practice and revision.


Understanding the concepts accurately and revising it regularly makes everything crystal clear in the aspirants. The regular online live lectures, offline PDF, and sample papers availability on Vedantu would certainly help students to bring the best out of them and recognize their hidden potential.


Download Class 7 Hindi Vasant Chapter 15 Neelakanth NCERT Solutions PDF

Get the free PDF version of these solutions and complete your study material for Class 7 Hindi Vasant Chapter 15 Neelakanth. Prepare this chapter well and focus on how to frame the right answers to these questions. Practise by referring to these solutions to stay ahead of the competition.

FAQs on NCERT Solutions for Class 7 Hindi Chapter 15 - Neelakanth

1. Why did the Author Name Peacock as Neelkanth?

As the peacock grew up, he started to have a glamorous appearance and beautiful feathers, he had a long neck of royal blue color with a shiny appearance. Owing to the gorgeous blue neck colour, the author named him Neelkanth; the one who has a blue neck.

2. How did Neelkanth Protect the Baby Rabbit?

On one day a snake came into the authoress’ house and silently attacked a baby rabbit. He almost took the baby rabbit in his mouth, only when Neelkanth arrived immediately. He poked the snake with his beak many times that the snake body got divided into many pieces and the baby rabbit was saved.  Neelkanth kept the baby rabbit in his feathers for the whole night to console him.

3. According to the Chapter, What are the Qualities of Neelkanth?

After reading the chapter a generous image of Neelkanth has appeared. He is brave, emotional, gorgeous, socially well- active, generous, and of helping nature. He is also romantic, caring, and loyal.

4. Why was Kubja Upset with Radha and Everyone Except Neelkanth?

Kubja did not have a friendly nature and she did not like to mix with everyone. When she went to the authoress’ home, she found Neelkanth the most loving animal. Radha used to be with Neelkanth for now and they spent quality time together. Kubja was jealous of their intimacy, that is why she poked everyone with her beak whoever tried to come near Neelkanth. She also destroyed Radha’s eggs which led to the misfortunate demise of Neelkanth.

5. Is the Content Available on Vedantu Appropriate for CBSE Students?

The study material provided on Vedantu is strictly prepared according to the CBSE guidelines and syllabus. The content is edited and updated every few days in case of any change in guidelines. Hence, it is certainly appropriate for CBSE board students. Download the Vedantu app now and enjoy the quality education.

6. Who is the writer of Neelkanth?

Mahadevi Verma is the writer of the Chapter Neelkanth available in the Class 7 Hindi Vasant textbook. Vasant is the main textbook for the Class 7 NCERT Hindi. Neelkanth is the fifteenth chapter of this Class 7 Hindi textbook.

7. Is Vedantu a reliable website for solutions of Class 7 Hindi Vasant?

Vedantu is a very reliable and probably the best website for solutions of Class 7 Hindi book, the Vasant. Vedantu provides the students with free chapter-wise solutions for each subject and each book. These solutions are in PDF form, which also can be downloaded free of cost. Hence, any student can get access to the solutions provided by Vedantu.

8. What is Nadu?

Nadu was the larger unit of the groups of “ur”. This term is used to mean anything like land, area, domicile and so on. This word is a part of the South Indian language. For Example- Tamil Nadu.

9. Where can I get solutions for the Class 7 Hindi book Vasant?

You can get solutions for the Class 7 Hindi book Vasant on Vedantu. Vedantu is the best website that provides solutions for all the NCERT textbook subjects. Click on this link to reach the page for Class 7 Hindi book Vasant- NCERT Solutions for Class 7 Hindi Vasant Chapter - 15 Neelkanth. The solutions provided by Vedantu are free of cost. They are also available on the Vedantu Mobile app.

10. Are NCERT Solutions for Class 7 Hindi enough for exam preparation?

Yes, NCERT Solutions for Class 7 Hindi Vasant Chapter - 15 Neelkanth  would be a really great help if you are preparing for your examinations. Solutions will help you sum up the chapters and practise your answers very well. The solutions provided by Vedantu are free of cost. They are also available on the Vedantu Mobile app.