Courses
Courses for Kids
Free study material
Offline Centres
More
Store Icon
Store

NCERT Solutions for Class 9 Hindi Chapter 15 - Sarveshwar Dayal Saxena

ffImage
Last updated date: 29th May 2024
Total views: 750.6k
Views today: 11.50k
MVSAT offline centres Dec 2023

NCERT Solutions for Class 9 Hindi Kshitij Chapter 15 - Sarveshwar Dayal Saxena

‘Megh Aaye’, a nice poem written by Saveshwar Dayal Saxena, is the 15th chapter of the Hindi Class 9 Kshitij syllabus. This poem is a beautiful picture drawn of wind blowing and bringing clouds by the poet. The sight of relief of all the people when the dark rainy clouds arrive after intense hot days is what is depicted in this poem. 


Class:

NCERT Solutions For Class 9

Subject:

Class 9 Hindi Kshitij

Chapter Name:

Chapter 15 - Sarveshwar Dayal Saxena

Content Type:

Text, Videos, Images and PDF Format

Academic Year:

2024-25

Medium:

English and Hindi

Available Materials:

Chapter Wise

Other Materials

  • Important Questions

  • Revision Notes


He also stated how the strong winds made the trees dance and the windows shatter in the houses. In this beautiful poem, you will find how the poet was elated to welcome the rainy clouds and was fascinated to witness the changes in the weather. To understand his thoughts and views well, you will need the NCERT Solution for Class 9 Hindi Kshitij Chapter 15 beside you. This NCERT solutions Class 9 Hindi Kshitij Ch 15 PDF file can be downloaded for free and used to study this poem offline.

You can also download NCERT Solutions for Class 9 Maths and NCERT Solution for Class 9 Science to help you to revise complete syllabus and score more marks in your examinations.

Popular Vedantu Learning Centres Near You
centre-image
Mithanpura, Muzaffarpur
location-imgVedantu Learning Centre, 2nd Floor, Ugra Tara Complex, Club Rd, opposite Grand Mall, Mahammadpur Kazi, Mithanpura, Muzaffarpur, Bihar 842002
Visit Centre
centre-image
Anna Nagar, Chennai
location-imgVedantu Learning Centre, Plot No. Y - 217, Plot No 4617, 2nd Ave, Y Block, Anna Nagar, Chennai, Tamil Nadu 600040
Visit Centre
centre-image
Velachery, Chennai
location-imgVedantu Learning Centre, 3rd Floor, ASV Crown Plaza, No.391, Velachery - Tambaram Main Rd, Velachery, Chennai, Tamil Nadu 600042
Visit Centre
centre-image
Tambaram, Chennai
location-imgShree Gugans School CBSE, 54/5, School road, Selaiyur, Tambaram, Chennai, Tamil Nadu 600073
Visit Centre
centre-image
Avadi, Chennai
location-imgVedantu Learning Centre, Ayyappa Enterprises - No: 308 / A CTH Road Avadi, Chennai - 600054
Visit Centre
centre-image
Deeksha Vidyanagar, Bangalore
location-imgSri Venkateshwara Pre-University College, NH 7, Vidyanagar, Bengaluru International Airport Road, Bengaluru, Karnataka 562157
Visit Centre
View More

Access NCERT Solutions for Class 9 Hindi Kshitij Chapter 15 - सर्वेश्वर दयाल सक्सेना

1. बादलों के आने पर प्रकृति में जिन गतिशील क्रियाओं को कवि ने चित्रित किया है, उन्हें लिखिए।

उत्तर: बादलों के आने पर प्रकृति में निम्न गतिशील क्रियाएँ हुई -

1.बादलों के आने की सूचना के बारे मे बयार नाचते गाते देती हुई चलती हैं।

2. उस के आगमन के बारे में पता चलते ही घर के खिड़की दरवाजे खुल जाते हैं।

3. मेहमानों को पेड़ों द्वारा गर्दन ऊंची कर देखना।

4. धूल का उड़ना और आंधी का आना।

5. नदी द्वारा ठिठकना और बाकी नजर से देखना।

6. बुजुर्ग सदस्य पीपल का आगे बढ़कर मेहमान का स्वागत करना।

7. स्वागत में तालाब का परात भर पानी लाना।

8. आकाश में बिजली चमकना और वर्षा की बूंदों के रूप में मिलन के आंसू बहाना।

 

2. निम्नलिखित किसके प्रतीक हैं?

- धूल

- पेड़

- नदी

- लता

- ताल

उत्तर: 

- धूल - स्त्री का प्रतिक हैंI

- पेड़ - नगरवासी का प्रतिक हैंI

- नदी - स्त्री का प्रतिक हैंI

- लता - मेघ की प्रतीक्षारत नायिका का प्रतिक हैंI

- ताल - घर के सदस्य का प्रतिक हैंI

 

3. लता ने बादल रूपी मेहमान को किस तरह देखा और क्यों?

उत्तर: लता ने बादल रूपी मेहमान को दरवाजे की आड़ में से देखा क्योंकि वह बादल को देखने के लिए बहुत ही व्याकुल हो रही थी और दूसरी तरफ वह बादलों की देरी से आने के कारण उनसे रूठी हुई थी।

 

4. भाव स्पष्ट कीजिए:

1. क्षमा करो गाँठ खुल गई अब भरम की

उत्तर: भावना को यह भ्रम था कि उसके प्रिय नहीं आएंगे परंतु बादल रूपी नायक के आने से उसकी सारी शंकाएं मिट जाती है और वह क्षमा याचना करने लगती है।


2. बाकी चितवन उठा, नदी चुटकी घूंघट सरके।

उत्तर: भाव- बादल के आने का प्रभाव सभी व्यक्तियों पर पड़ा है नदी जबकि ठिठककर ऊपर देखने की कोशिश करती है तो उसका घुंघट सरक जाता है और मैं तिरछी निगाहों से आए हुए आगंतुकों को देखने लगती हैं

 

5. मेघ रूपी मेहमान के आने से वातावरण में क्या परिवर्तन हुए हैं?

उत्तर: मेघ रूपी मेहमान के आने से हवा अत्यधिक तेज बहने लगती है जिसके कारण आंधी चलने लगती है जिसके कारण पेड़ झुकते और उठते रहते हैं।दरवाजे खिड़कियां खुल जाती हैं।।पीपल का वृक्ष झुकने लगता है तालाब के पानी में उथल-पुथल मच जाती है, अंत में आसमान से वर्षा होनी शुरू हो जाती हैं।

 

6. मेघो के लिए 'बन -ठन के सँवर के आने की बात क्यों कही गई है?

उत्तर: कवि ने मेघों में सजीवता लाने के लिए बन ठन की बात कही है। जब हम किसी के घर बहुत दिनों के बाद जाते हैं तो हम बन ठन कर जाते हैं ठीक उसी प्रकार मेड भी बहुत दिनों के बाद आए हैं क्योंकि उनको बनने सँवरने में देर हो गई थी।

 

7. कविता में आए माननीय करण तथा रूपक अलंकार के उदाहरण खोजकर लिखिए।

उत्तर: निम्नलिखित मानवीकरण अलंकारके उदहारण हैं -

- मेघ आए बड़े बन ठन के सँवर के

- नाचती गाती बयार चली

- पेड़ झुक झाँकने लगे

- बाँकी चितवन उठा नदी ठिठकी

- बूढ़े पीपल ने जुहार की

- बोली अकुलाई लता

- हरसाया ताल लाया पानी परात भर के

रूपक अलंकार

- क्षितिज अटारी गहराई

- दामिनी दमकी

 

8. कविता में जिन रीति-रिवाजों का मार्मिक चित्रण हुआ है, उनका वर्णन कीजिए।

उत्तर: गांव में अतिथि चाहे किसी के भी घर पधारे हो परंतु उत्सुकता उल्लास पूरे गांव में होता है। सभी लोग अपने अपने प्रयासों के साथ मेहमान के स्वागत में जुट जाते हैं।गांव की स्त्रियां उनके सम्मान में मेहमान से पर्दा करने लगती हैं,बुजुर्ग झुक कर उनका स्वागत करते हैं,पैरों को धोने के लिए बरात में पानी लाया जाता है।इस प्रकार से कविता में कुछ ग्रामीण रीति-रिवाजों का चित्रण हुआ है।

 

9. कविता में कवि ने आकाश में बादल और गांव में मेहमान (दामाद)के आने का जो रोचक वर्णन किया है उसे लिखिए।

उत्तर: कविता में मैं और दामाद के आगमन को समान बताया गया है। जब गांव में मेला आते हैं तो सारे लोग खुशियाँ मनाते हैं अपने खिड़की दरवाजे मेघों के दर्शन के लिए खोल देते हैं।प्रकृति के सारे अंग भी जैसे उनके स्वागत के तैयार में बैठ जाते हैं और जैसे आंधी का उठना, धूल का अपना घाघरा उठा कर, नदी का बाकी नजर से देखना आदि। ठीक उसी प्रकार गांव में दमाद के आने पर भी उल्लास और उमंग का माहौल छा जाता है।प्रिया और से दामाद को तिरछी नजरों से देखती हैं।गांव के बड़े बुजुर्ग दामाद का स्वागत सम्मान के साथ करते हैं।

 

10. काव्य-सौंदर्य लिखिए:

पाहुन जो आए हो गाँव में शहर के।

मेघ आए बड़े बन ठन के सँवर के।

उत्तर: प्रस्तुत पंक्तियों में पाहुन अर्थात दामाद के रूप में प्रकृति का मानवीकरण हुआ है।कवि ने प्रस्तुत कविता में चित्रात्मक शैली का उपयोग किया है।इसमें बादलों के सौंदर्य का चित्रण किया गया हैं।कविता की भाषा सरल तथा सहज होने के साथ-साथ ग्रामीण भाषा जैसे पाहुन शब्द का इस्तेमाल किया गया है।यहां पर बन ठन में ब वर्ण की आवृत्ति होने के कारण अनुप्रास अलंकार है।

 

रचना और अभिव्यक्ति

11. वर्षा के आने पर अपने आसपास के वातावरण में हुए परिवर्तनों को ध्यान से देख कर एक अनुच्छेद लिखिए।

उत्तर: वर्षा के आने पर वातावरण में ठंडक का एहसास होता है।पेड़ पौधों पर जमी हुई धूल बह जाती है जिससे वह एकदम नएऔर तरोताजा दिखाई देते हैं।सर के बिल्कुल साफ होकर चमकने लगती हैं।सड़कों पर रंग-बिरंगे छाते और रेनकोट नजर आने लगते हैं।सड़कों पर ट्रैफिक जाम हो जाता है।वर्षा के आने पर बच्चे बहुत उत्साहित होते हैं।इस प्रकार वर्षा आने पर सारा वातावरण उमंग और उल्लास से भर उठता है।

 

12. कवि ने पीपल को ही बड़ा बुजुर्ग क्यों कहाँ है? पता लगाइए।

उतर: पीपल वृक्ष की आयु सभी वृक्षों की तुलना में अत्यधिक होती हैं।पीपल वृक्ष की पूजा की जाती है इसी कारण गांव में पीपल वृक्ष का होना अनिवार्य माना जाता है इसलिए पुराना और पूजनीय होने के कारण पीपल को बड़ा बुजुर्ग कहा गया है।

 

13. कविता में मेघ को "पाहुन" के रूप में चित्रित किया गया है।हमारे यहां अतिथि (दामाद) को विशेष महत्व प्राप्त है, लेकिन आज इस परंपरा में परिवर्तन आया है। आपको इसके क्या कारण नजर आते हैं, लिखिए।

उत्तर: आज के इस बदलते माहौल में अतिथि देवो भव की परंपरा में काफी बदलाव देखने को मिलते हैं इसके कई कारण हैं जैसे संयुक्त परिवारों का टूटना,शहरीकरण, पाश्चात्य संस्कृति की ओर बढ़ते झुकाव महंगाई और व्यस्तता।जिसके फलस्वरूप आज का मनुष्य केवल अपने बारे में ही सोचता है।उसके पास दूसरों को देने के लिए समय तथा इच्छा का अभाव हो चला है और परिणाम स्वरुप यह परंपरा धीरे-धीरे गायब होती जा रही हैं।

 

भाषा-अध्ययन

14. कविता में आए मुहावरों को छांट कर अपने वाक्य में प्रयुक्त करो।

उत्तर:

- बन ठन के   

अर्थात - सज सँवर के  

उत्सवों के समय बन ठन का माहौल होता है।

- सुधि लेना

अर्थात - खबर लेना   

अध्यापिका अपने विद्यार्थियों की सुधि ले रही थी।

- मिलन के अश्रु 

अर्थात - मिलने की खुशी   

जब बहुत दिन बाद मैंने अपने मित्र को देखा तो मेरी आंखों से मिलन के अश्रु बह गए।

- गांठ खोलना  

अर्थात - मन का मैल दूर होना   

जब मैंने उससे बात की तो हमारे मन की गाँठे खुल गई।

- बाँध टूटना  

धैर्य समाप्त होना  

अर्थात - बहुत प्रयासों के बाद अब मेरे सब्र का बांध टूट गया है  

 

15. कविता में प्रयुक्त आँचलिक शब्दों की सूची बनाइए।

उत्तर: बयार पाहुन उचकाना, , सुधि-लीन्ही, किवार, अटारी, बन, बाँकी, परात।

 

16. मेघ आए कविता की भाषा सरल और सहज है- उदाहरण देकर स्पष्ट कीजिए।

उत्तर: निम्न उदाहरण द्वारा स्पष्ट किया जा सकता है कि मेघ आए कविता की भाषा सरल और सहज है-

- बयार पाहुन उचकाना-पाहुन जो आए हो गांव में शहर के।

- बन-मेघ आए बड़े बन ठन के सँवर।

- सुधि-लीन्ही-बरस बाद सुधि लीन्हीं।

- पेड़ झुक कर झांकने लगे गर्दन उचकाए।

आदि उपयोग पंक्तियों में अधिकतर आम बोलचाल की भाषा का ही प्रयोग हुआ।ग्रामीण परिवेश को ध्यान में रखते हुए ग्रामीण भाषा का भी उचित प्रयोग हुआ है जैसे सुधि पाहुन भरम आदि। कहीं पर भी भाषा को समझने में कोई मुश्किल नहीं होती है। बिखेरने बंद कर दिए हैंI


NCERT Solutions for Class 9 Hindi Kshitij Chapter 15

Summary of Megh Aaye: Chapter 15 Kshitij Class 9

The poem ‘Megh Aaye’ is all about the natural changes in the weather when dark rainy clouds arrive in the villages and cities. The poet noticed and painted the picture of strong winds bringing dark clouds beautifully. In this poem, he described how the trees danced with joy when the strong winds brought relief from the scorching heat. All the villagers welcome the clouds as a sign of relief from the summer days. Chapter 15 Hindi Class 9 Kshitij is all about the beauty of rainy days and stormy weather.

The song of the dancing winds earmarks the arrival of the clouds. He also depicted these clouds as the son-in-law of an Indian family. The sons-in-law get so much love and attention from all the family members. Everyone is watching the winds flowing and the trees dancing from their windows and feeling the abrupt yet soothing change in the weather. To understand this exceptional description of a windy day before heavy rainfall, you will need the assistance of NCERT solutions for Class 9 Hindi Kshitij Megh Aaye. You can download the solution file and refer to the answers written by the experts of Vedantu to prepare the chapter well.


Concise Answers of Kshitij Class 9 Solutions Ch 15

You need to understand the feelings and emotions of the poet first to answer the questions in a better way. Apart from that, you will also have to develop writing skills to answer the questions of this chapter. Hence, following the NCERT solution Class 9 Hindi Kshitij Chapter 15 will be ideal for students who are preparing a vast syllabus for an upcoming exam. You can also download and use this solution to prepare the chapter beforehand. When you practice following the expert answers, you will be able to frame yours easily and perfectly.

Concise and to the point answers are a must for literature-based exercises. Teachers also expect such answers from the students in the exam. This is why using a Class 9 Kshitij Chapter 15 solution is ideal. You can stay ahead of the competition by using the standard format of the answers used by the experts.


Better Preparation Within a Limited Time

Class 9 has a vast syllabus to complete in all the subjects. How can you save your time without compromising with your studies? The perfect way to tackle a huge syllabus is by working hard and smart. You will find the NCERT Solutions Class 9 Hindi Kshitij Chapter 15 quite useful in this case. Your study schedule will become more efficient as you can save a lot of time by availing of the expert answers in it easily. You can use this saved time to practice writing the answers for this chapter and prepare well. Hence, it adds an edge you can enjoy to stay ahead of the competition.


Why Prefer Vedantu for Class 9 Hindi Kshitij Chapter 15 Solution?

Class 9 students prefer Vedantu solutions because of the quality answers. The teachers adopt a standard approach to answer the questions in the exercise and also follow the CBSE rules. It means that these answers can be based on writing your own answers and score better in the exams.

FAQs on NCERT Solutions for Class 9 Hindi Chapter 15 - Sarveshwar Dayal Saxena

1. How Can You Use NCERT Solutions for Class 9 Hindi Kshitij Ch 15?

You can use the solution of Class 9 Hindi Kshitij Ch 15 smartly as a base to practice answering the questions related to this chapter. You will also find it easier to understand what the poet wanted to express in the poem.

2. Why Students Use NCERT Solution of Class 9th Hindi Kshitij Chapter 15?

Students generally use NCERT solution for Hindi to reduce the time to prepare the chapter by availing standard answers and to develop good writing skills.

3. How Can You Express Your Thoughts on This Poem?

You need to understand what the poet has meant in the lines by following the NCERT solutions for Class 9 Hindi Kshitij Chapter Megh Aaye and then frame your answers.

4. What does the poet write about in Class 9 Hindi Kshitij Chapter 15?

The poet talks about the arrival of the rainy season and the happiness it brings to the life of the villagers. He compares and personifies the arrival of moisture-laden clouds with the arrival of the son-in-law (guest) in the village. He depicts the changes that happen in nature and how the trees and wind fill and sway with joy as they welcome the black rainy clouds.

5. What questions should you expect from Chapter 15 Class 9 Hindi in exams?

Students must go through NCERT Solutions Class 9th Hindi Kshitij Chapter 15 thoroughly to get an idea of the important questions for this poem. Mostly, the questions asked are based on the ones provided in the NCERT textbooks such as the theme of the poem, poetic devices, about the poet, and reference to context.

6. Why is Vedantu the best option for students of Class 9?

If you're looking for quality study materials to help you prepare for your Class 9 Hindi exam, Vedantu is the place to go. The NCERT Solutions and reference notes are prepared by a team of experts. The notes of Class 9th Hindi Kshitij Chapter 15, can be downloaded for free from the website of Vedantu and its mobile app. 

7. How many questions are there in Class 9 Hindi Chapter 15?

There are a total of sixteen questions in Class 9 Hindi Kshitij Chapter 15. The questions include the explanation of the main theme, reference to context, questions asking your opinion, poetic devices used in the poem, and many more concepts. You can get the answers to these questions from NCERT Solutions Class 9th Hindi Kshitij Chapter 15 on Vedantu and refer to them for your exam preparation. 

8. Where can I get the Class 9 Hindi Kshitij Textbook?

You can get the Class 9 Hindi Kshitij Textbook in PDF format on Vedantu. With the increasing popularity of ebooks, Vedantu provides students with ebooks for all the subjects for CBSE Classes 1-12. These ebook PDFs can be downloaded by the students for free. You can also avail of the NCERT Solutions to all the questions given in NCERT books. All the study material can be accessed from the Vedantu mobile app as well.