NCERT Solutions for Class 10 Science Chapter 4 Carbon and Its Compounds in Hindi

NCERT Solutions for Class 10 Science Chapter 4 Carbon and Its Compounds in Hindi PDF Download

Download the Class 10 Science NCERT Solutions in Hindi medium and English medium as well offered by the leading e-learning platform Vedantu. If you are a student of Class 10, you have reached the right platform. The NCERT Solutions for Class 10 Science in Hindi provided by us are designed in a simple, straightforward language, which are easy to memorise. 


You will also be able to download the PDF file for NCERT Solutions for Class 10 Science in English and Hindi from our website at absolutely free of cost. You can also download NCERT Solutions for Class 10 Maths to help you to revise complete syllabus and score more marks in your examinations.


NCERT, which stands for The National Council of Educational Research and Training, is responsible for designing and publishing textbooks for all the classes and subjects. NCERT textbooks covered all the topics and are applicable to the Central Board of Secondary Education (CBSE) and various state boards. 


We, at Vedantu, offer free NCERT Solutions in English medium and Hindi medium for all the classes as well. Created by subject matter experts, these NCERT Solutions in Hindi are very helpful to the students of all classes.

Do you need help with your Homework? Are you preparing for Exams?
Study without Internet (Offline)
Access NCERT Solutions for Class-10 Science Chapter 4 कार्बन एवं उसके यौगिक part-1

Access NCERT Solutions for Class-10 Science Chapter 4: कार्बन एवं उसके यौगिक

 1. एथेन का आणविक सूत्र-\[{{\mathbf{C}}_2}{{\mathbf{H}}_6}\]  है। इसमें-

(a) \[{\mathbf{6}}\] सहसंयोजक आबंध हैं।

(b) \[{\mathbf{7}}\] सहसंयोजक आबंध हैं। |

(c) \[{\mathbf{8}}\] सहसंयोजक आबंध हैं।

(d) \[{\mathbf{9}}\] सहसंयोजक आबंध हैं।

उत्तर: (b) \[7\] सहसंयोजक बंधन हैं।


 2. ब्यूटेनॉन चर्तु-कार्बन यौगिक है, जिसका प्रकार्यात्मक समूह

(a) कार्बोक्सिलिक अम्ल

(b) ऐल्डिहाइड

(C) कीटोन

(d) ऐल्कोहॉल

उत्तर: (C) कीटोन


3. खाना बनाते समय यदि बर्तन की तली बाहर से काली हो रही है, तो इसका मतलब है कि

(a) भोजन पूरी तरह नहीं पका है।

(b) ईंधन पूरी तरह से नहीं जल रहा है।

(C) ईंधन आई है।

(d) ईंधन पूरी तरह से जल रहा है।

उत्तर: (b) ईधन पूरी तरह से जल रहा है।


4. \[{\mathbf{C}}{{\mathbf{H}}_3}{\mathbf{CI}}\] में आबंध निर्माण का उपयोग कर सहसंयोजक आबंध की प्रकृति समझाइए।

उत्तर: \[C{H_3}CI\] में तीन एकल बंध कार्बन व हाइड्रोजन परमाणुओं के बीच जुड़े होते हैं और एक एकल बंध कार्बन व क्लोरीन के बीच होता है।

इस तरह कार्बन का अस्टक पूर्ण हो जाता है तथाप्रत्येक हाइड्रोजन के बाहरी कक्ष में भी \[2\]  इलेक्ट्रॉन हो जाते हैं तथा \[Cl\]  का भी अष्टक पूर्ण हो जाता है।अतः इलेक्ट्रॉनों की साझेदारी द्वारा सहसंयोजक आबंध बनता है।


(Image will be uploaded soon)

(Image will be uploaded soon)


 5. इलेक्ट्रॉन बिंदु संरचना बनाइए|

(a) एथेनॉइक अम्ल.

(b) \[{{\mathbf{H}}_2}{\mathbf{S}}\] 

(C) प्रोपेनोन

(d) \[{{\mathbf{F}}_2}\] 

उत्तर:   

(a)  एथेनॉइक अम्ल.

  

(Image will be uploaded soon)


(b) \[{{\mathbf{H}}_2}{\mathbf{S}}\] 


(Image will be uploaded soon)


(c) प्रोपेनोन


(Image will be uploaded soon)


(d) \[{{\mathbf{F}}_2}\] 


(Image will be uploaded soon)


6. समजातीय श्रेणी क्या है? उदाहरण के साथ समझाइए।

उत्तर कार्बनिक यौगिकों की ऐसी श्रेणी जिसकी संरचना तथा रासायनिक गुणों में समानता हो तथा किन्हीं दो लगातार यौगिकों के बीच (-\[C{H_2}\] -) इकाई और आणविक द्रव्यमान में \[14\] u का अंतर हो समजातीय श्रेणी कहलाता है।

1. समजातीय श्रेणी को एक खास सामान्य सूत्र द्वारा व्यक्त किया जासकता है।


2. इसमें एक ही प्रकार के प्रकार्यात्मक समूह होते हैं, जैसे-\[C{H_3}OH\] , \[{C_2}{H_5}OH\] , \[{C_3}{H_7}OH\] तथा \[CAHOOH\] के रासायनिक गुणधर्मों में अत्यधिक समानता है तथा इनमें (-\[C{H_2}\] -) का अंतर है और (-\[OH\] ) प्रकार्यात्मक समूह हैं। | इन्हें [\[CnH{\text{ }} - OH\] ] सामान्य सूत्र द्वारा व्यक्त किया जा सकता है।


7. भौतिक एवं रासायनिक गुणधर्मों के आधार पर एथनॉल एवं एथनॉइक अम्ल में आप कैसे अंतर करेंगे?

उत्तर: 

(a) भौतिक गुणों में अंतर

एथनॉल (\[{\mathbf{C}},{\mathbf{H}},{\mathbf{OH}}\] )

एथेनॉइक अम्ल (\[{\mathbf{CH}},{\mathbf{CO}} + {\mathbf{DH}}\] )

1. इसका क्वथनांक (B.P) \[351K\] है।

1. इसका क्वथनांक (B.P) \[391K\] है।

2. इसका गलनांक \[156\]  है।

2. इसका गलनांक \[290K\]  है।

3. इसमें एक विशिष्ट गंध (pleasant smell) होती है।

3. इसका गंध तीक्ष्ण (Pungent smell) होता है।


(b) रसायनिक गुणों में अंतर:

एथनॉल

एथेनॉइक अम्ल

1. एथनॉल के साथ सोडियम कार्बोनेट (\[Na,co,\] ) और सोडियम बाइकार्बोनेट (\[NaHCo\] ) की अभिक्रिया नहीं होती है।

1. यह सोडियम कार्बोनेट (\[Na,cog\] ), और सोडियम हाइड्रोजन कार्बोनेट (\[NaHCO\] ) के विलयन के साथतीव्र बुदबुदाहट (Briskeffervesence) देते हैं, क्योंकिकार्बन डाइऑक्साइड गैस का निर्माण होता है।

2. लिटमस पत्र पर कोई प्रभाव नहीं होता क्योंकि यह उदासीन पदार्थ है।

2. यह नीले लिटमस पत्र को लाल कर देता है। क्योंकि यह अम्लीय पदार्थ है।

3. इसमें क्षारीय\[KMnO\] , डालने पर रंग गायब हो जाता है।

3. इसमें क्षारीय\[KMnO\] , डालने पर रंग गायब नहीं होता।


8. जब साबुन को जल में डाला जाता है तो मिसेल का निर्माण क्यों होता है।

उत्तर: साबुन के अणु में दो भाग होते हैं

1. लंबी हाइड्रोकार्बन पूँछ – जल विरागी PART (Water repelling end) हाइड्रोकार्बन में विलेय


2. छोटा आयनिक सिरा - जलरागी सिरा (Water atteracting end)जल में विलेय। 


(Image will be uploaded soon)


साबुन के अणु साबुन का आयनिक भाग जल में घुल जाता है तथा जल के अंदर होता है, जबकि लंबी हाइड्रोकार्बन पूँछ जल के बाहर होती है। जलके अंदर इन अणुओं की एक विशेष व्यवस्था होती है, जिससे इसका हाइड्रोकार्बन सिरी जल के बाहर बना होता है। ऐसा अणुओं का बड़ा गुच्छा बनने केकारण होता है, जिसमें जलविरागी पूँछ गुच्छे के आंतरिक हिस्से में होती है जबकि उसको आयनिकसिरा गुच्छे की सतह पर होता है। इस संरचना को मिसेल कहते हैं।


(Image will be uploaded soon)


9. कार्बन एवं उसके यौगिकों का उपयोग अधिकतर अनुप्रयोगों में ईंधन के रूप में क्यों किया जाता है?

उत्तर: कार्बन तथा उसके यौगिकों के दहन पर अत्यधिक मात्रा में ऊष्मा प्राप्त होती है तथा उत्पन्न ऊष्मा को नियंत्रित ढंग से उपयोग किया जा सकता है। इसलिए अधिकतर अनुप्रयोगों के लिए कार्बन तथा इसके यौगिकों को ईंधन के रूप में उपयोग किया जाता है।


10. कठोर जल को साबुन से उपचारित करने पर झाग के निर्माण को समझाइए।

उत्तर: कठोर जल में कैल्शियम (\[C{a^{2 + }}\] ) तथा मैग्नीशियम (\[M{g^{2 + }}\] ) के सल्फेट तथा क्लोराइड के घुलनशील लवण होते हैं, जो साबुन से अभिक्रिया कर अघुलनशील पदार्थ (स्कम) बनाती है। इसी अघुलनशील पदार्थ (स्कम) के कारण झाग आसानी से नहीं बनता है तथा साबुन अधिक मात्रा में उपयोग करना पड़ता है।

कठोर जल +साबुन = स्कम


11. यदि आप लिटमस पत्र (लाल एवं नीला) से साबुन की जाँच करें, तो आपका प्रेक्षण क्या होगा?

उत्तर: हम जानते हैं कि साबुन की प्रकृति क्षारीय होती है।अतः साबुन लाल लिटमस पत्र को नीला कर देगा।


12. हाइड्रोजनीकरण क्या है? इसका औद्योगिक अनुप्रयोग क्या है?

उत्तर: असंतृप्त हाइड्रोकार्बन में पैलेडियम अथवा निकैल जैसे उत्प्रेरकों की उपस्थिति में हाइड्रोजन के योग से संतृप्त हाइड्रोकार्बन बनता है, जिसे हाइड्रोजनीकरण कहते हैं। औद्योगिक अनुप्रयोग असंतृप्त वसा (वनस्पति तेलों) के हाइड्रोजनीकरण से वनस्पति घी (संतृप्त वसा) बनाया जाता है


(Image will be uploaded soon)


13. दिए गए हाइड्रोकार्बन -\[{{\mathbf{C}}_2}{{\mathbf{H}}_6}{\text{ }}{{\mathbf{C}}_3}{{\mathbf{H}}_8}\] , \[{{\mathbf{C}}_3}{{\mathbf{H}}_6}\]  \[{{\mathbf{C}}_2}{{\mathbf{H}}_2}\] एवं \[{\mathbf{CH}}\] \[{\mathbf{A}}\]  में किसमें संकलन अभिक्रिया होती है?

उत्तर: दिए गए हाइड्रोकार्बनों में से \[{C_3}{H_6}\] तथा \[{C_2}{H_2}\] के साथ संकलन (योग) अभिक्रिया होती है क्योंकिये असंतृप्त हाइड्रोकार्बन है।


(Image will be uploaded soon)


14. मक्खन एवं खाना बनाने वाले तेल के बीच रासायनिक अंतर समझने के लिए एक परीक्षण बताइए।

उत्तर: मक्खन एक संतृप्त हाइड्रोकार्बन है जबकि खाना बनाने वाला तेल असंतृप्त हाइड्रोकार्बन है।

परीक्षण-

a. ब्रोमीन जल द्वारा-दो अलग-अलग परखनली लेकर एक में तेल तथा दूसरे में मक्खन लीजिए। दोनों परखनलियों ।' में ब्रोमीन जल की कुछ बूंदें डालिए। दोनों परखनलियों को धीरे-धीरे गर्म करने पर हम पाते हैं कि तेल वाले परखनली में ब्रोमीनजल का रंग उड़ जाता है।


b. क्षारीय पोटैशियम परमैंगनेट द्वारा-


(Image will be uploaded soon)


15. साबुन की सफ़ाई प्रक्रिया की क्रियाविधि समझाइए।

उत्तर: साबुन के अणु लंबी श्रृंखला वाले वसीय अम्लों के सोडियम लवण होते हैं, जिसमें दो भाग होते हैं लंबी हाइड्रोकार्बन पूँछ तथा छोटी आयनिक सिरा।

उदाहरण के लिए-\[{C_{15}}{H_{31}}COONa\] , \[{C_{17}}{H_{33}}COONa{\text{ }}31\] इसे हम निम्न प्रकार भी दर्शाते हैं:


(Image will be uploaded soon)


जब पानी में साबुन घोला जाता है, तब जलरागीसिरा जल में घुलनशील तथा जल विरागी सिरा जलमें अघुलनशील परंतु तैलीय मैल, वसा इत्यादि में घुलनशील होते हैं। किसी कपड़े या वस्तु पर साबुन के अणु इस प्रकार व्यवस्थित हो जाते हैं कि इनका आयनिक सिरा जल के अंदर तथा हाइड्रोकार्बन पूँछ जल के बाहर होती है। ऐसा अणुओं का बेड़ा गुच्छा बनने के कारण होता है, जिसमें जल विरागी पूँछ गुच्छे के आंतरिक हिस्से में होती है, जबकि उसका आयनिक सिरा गुच्छे की सतह पर होता है। इस संरचना को मिसेल कहते हैं। तैलीय मैल मिसेल के केन्द्र में एकत्र हो जाता है। मिसेल विलयन में कोलॉइड के रूप में बना रहता है तथा आयन-आयन विकर्षण के कारण वह अवक्षेपित नहीं होता। अतः मिसेल में तैरता मैल रगड़ कर यो डंडे से पीटकर आसानी से हटाया जा सकता है। 


NCERT Solutions for Class 10 Science Chapter 4 Carbon and Its Compounds in Hindi

Chapter-wise NCERT Solutions are provided everywhere on the internet with an aim to help the students to gain a comprehensive understanding. Class 10 Science Chapter 4 solution Hindi mediums are created by our in-house experts keeping the understanding ability of all types of candidates in mind. NCERT textbooks and solutions are built to give a strong foundation to every concept. These NCERT Solutions for Class 10 Science Chapter 4 in Hindi ensure a smooth understanding of all the concepts including the advanced concepts covered in the textbook.


NCERT Solutions for Class 10 Science Chapter 4 in Hindi medium PDF download are easily available on our official website (vedantu.com). Upon visiting the website, you have to register on the website with your phone number and email address. Then you will be able to download all the study materials of your preference in a click. You can also download the Class 10 Science Carbon and Its Compounds solution Hindi medium from Vedantu app as well by following the similar procedures, but you have to download the app from Google play store before doing that.


NCERT Solutions in Hindi medium have been created keeping those students in mind who are studying in a Hindi medium school. These NCERT Solutions for Class 10 Science Carbon and Its Compounds in Hindi medium pdf download have innumerable benefits as these are created in simple and easy-to-understand language. The best feature of these solutions is a free download option. Students of Class 10 can download these solutions at any time as per their convenience for self-study purpose.


These solutions are nothing but a compilation of all the answers to the questions of the textbook exercises. The answers/ solutions are given in a stepwise format and very well researched by the subject matter experts who have relevant experience in this field. Relevant diagrams, graphs, illustrations are provided along with the answers wherever required. In nutshell, NCERT Solutions for Class 10 Science in Hindi come really handy in exam preparation and quick revision as well prior to the final examinations.

FAQs (Frequently Asked Questions)

1. What are the two properties of carbon which lead to the huge number of carbon compounds we see around us?

We already know that carbon is the core of every matter. Everything, when burnt, turns into carbon. Carbon reacts with other elements to form new substances recognized as carbon compounds. Two reasons for the formation of carbon compounds are:

  • Carbon atoms form covalent bonds with other atoms due to having tetra valency.

  • Each carbon atom can form not just a single bond, but also double and triple bonds with other atoms.

2. A mixture of oxygen and ethyne is burnt for welding. Can you tell why a mixture of ethyne and air is not used?

Wielding is the process used to join metals or other materials using high temperature. High heat is the key point here because metals usually have high melting points. A mixture of ethyne and air is not used for welding for the following three reasons:

  • The mixture does not burn completely.

  • It leaves a sooty stain behind while burning.

  • A high temperature cannot be achieved whereas when using oxygen the temperature can be as high as 3000℃.

3. What are covalent bonds in Chapter 4 of Class 10 Science?

Chemical bonds are of various categories, one of them being a covalent bond. A covalent bond is formed by sharing one or more electrons between two atoms. They have three types:

Single covalent bond- When the atoms share one electron. It is represented by a single line.

Double covalent bond- Two electrons are shared between the atoms and this bond is represented by a double line.

Triple covalent bond- Two atoms share three electrons. It is represented by triple lines.

4. Where can I find Class 10 Science Chapter 4: Carbon and Its Compounds NCERT Solutions in Hindi?

Vedantu provides you with detailed NCERT Solutions in English and Hindi. Visit the page-NCERT Solutions of Class 10 Science Chapter 4 to download the solutions free of cost in Hindi. These solutions are all your study materials in one place for thorough exam preparations. They are designed by subject experts especially for the students, hence, they are reliable. 10th Standard is a challenging class for the students and it is beneficial if they gather the study materials beforehand so the preparation and revision become an easy sail.

5. What is isomerism in Chapter 4 of Class 10 Science?

When two or more compounds have the same chemical formula but different chemical structures it is known as isomerism. The compounds that show isomerism are known as isomers. This phenomenon is further categorized into different types based on their properties. Carbon and its Compounds is a vast chapter that students often state to be tough but with the right guidance, you can learn it efficiently. You can get detailed answers about isomerism on NCERT Solutions for Class 10 Science Chapter 4 available on Vedantu website and app.

Share this with your friends
SHARE
TWEET
SHARE
SUBSCRIBE