Kaun Class 4 Notes CBSE Hindi Chapter 8 [Free PDF Download]

NCERT Class 4 Hindi Chapter 8 Kaun Revision Notes

The Class 4 syllabus includes some important chapters of both prose and poetry that can help students learn the language and morals effectively. Hindi is quite an easy-scoring subject but only if you have a proper understanding of all the chapters and questions you can score well in the exam. With the help of Kaun revision notes, students can prepare for the exams easily and that too without any trouble.


Kaun is the 8th chapter of the Class 4 Hindi syllabus. It is a poem that talks about a mischievous animal that goes around the house nibbling on things, shredding them, and creating a havoc. Students will have a lot of fun reading this chapter and studying from the revision notes as well.


NCERT Solutions for Class 4 Hindi | Chapter-wise List

Given below are the chapter-wise NCERT Solutions for Class 4 Hindi. These solutions are provided by the Hindi experts at Vedantu in a detailed manner. Go through these chapter-wise solutions to be thoroughly familiar with the concepts.


Do you need help with your Homework? Are you preparing for Exams?
Study without Internet (Offline)

Download PDF of Kaun Class 4 Notes CBSE Hindi Chapter 8 [Free PDF Download]

Access Class 4 Hindi Chapter 8 – कौन ? Notes

कवि परिचय:

  • प्रस्तुत कविता के कवि  सोहन लाल द्विवेदी है। 

  • कवि का जन्म 22 फरवरी 1905 को उत्तर प्रदेश में हुआ था। 

  • इन्हें राष्ट्रकवि की उपाधि प्राप्त है l

  • इन्हें पद्मश्री से सम्मानित किया जा चुका है l


कविता का सारांशः

  • प्रस्तुत कविता मे कवि ने चूहे का वर्णन किया है । कवि चूहे की विशेषता बताते हुए बच्चों से सवाल पूछ रहे हैं ।

  • कवि बच्चों से सवाल पूछते हुए कहते हैं कि  कभी वह बटन कुतर लेता हैं। कभी स्याही को बिखेर देता है । कभी अनाज खाकर घर मे बिखेर देता है और कभी मिठाई चुरा लेता है। कभी तस्वीर के दो टुकड़े कर देता है और रस्सी को भी काट लेता है ।

  • बच्चों से यह सवाल करते हुए कवि कहते हैं कि कभी वह हमारी चप्पल तो कभी जूता कुतर जाता है । कभी वह *खलीता के पैकेट में ऐसा छेद कर देता है जिससे पैसे गिर जाया करते हैं। 

         *खलीता- एक प्रकार का कुर्ता 

  • आगे कवि कहते है कि वह कभी किताबों के *जिल्द काट डालता है, जिस कारण *पोथी के सभी पन्ने बिखर जाते हैं । आगे वह कहते है कि जिस *छन्ने को हर दिन वह धो-धोकर टाँगते है, वह उसे भी उठाकर ले जाता है ।

           *जिल्द- गत्ता या ऊपरी आवरण

           *पोथी- छोटी पुस्तक

            *छन्ने- महीन कपड़ा

  • कभी-कभी वह सारे कागज़ को कुतर लेता है और पूरे घर को रद्दी से भर देता है | 

  • कवि बच्चों से सवाल पूछते हुए कहते हैं कि  कभी वह कूड़े से पूरे घर को भर जाता है । वह पूरी रात खुर-खुर की आवाज़ करके इधर-उधर दौड़ता रहता है ।

  • अंत मे कवि बच्चों से उस शरारती का नाम पूछते है । 


शब्द - अर्थ:

शब्द

अर्थ

वाक्य में प्रयोग

चट करना

खत्म कर देना

चूहे ने सारी मिठाई चट कर दी |

दुबककर

छिपकर

बिल्ली दुबककर बिल मे जाकर छिप गई |

तस्वीर

चित्र

यह मेरी तस्वीर है |  

रद्दी

फालतू का सामान

आज रद्दी कबाड़ वाले को देना है | 

शरारत

शैतानी

बंदर बहुत शरारत करता है |

गड़बड़

गलत 

गोपाल ने इस सवाल मे गड़बड़ कर दी  है |

धाता

दौड़ता हुआ

रंजन धाता हुआ मेरे पास आया |


तुकबंदी वाले शब्द:

मिठाई

बहाई

पन्ने

छन्ने

सोने

कोने

धाता

जाता


प्रश्न - उत्तर:

प्रश्न 1. कवि किस जीव से बहुत परेशान हैं ?

(क) चूहा

(ख) बिल्ली

(ग) गिलहरी

उत्तर: चूहा

 

प्रश्न 2. खलीता से क्या गिर जाता है ?

(क) पैसा

(ख) कागज

(ग) मिठाई

उत्तर: पैसा 


प्रश्न 3. चूहा पूरे घर को किस से भर देता है ?

(क) मिठाई 

(ख) पैसे

(ग) कबाड़

उत्तर: कबाड़


प्रश्न 4. "कौन?" कविता के लेखक कौन है ?

उत्तर: "कौन?" कविता के लेखक सोहन लाल द्विवेदी है ।


प्रश्न 5. कविता में किस जानवर के बारे में बताया गया है ?

उत्तर: कविता में चूहे के बारे में बताया गया है l


अभ्यास प्रश्न:

प्रश्न 1. नीचे लिखी  कविता की पंक्तियों को पूरा करो | 

(क) किसने ______ हमारे कुतरे ? 

किसने _______ को बिखराया ? 

कौन चट कर गया दुबक कर 

घर - भर में _______ बिखराया ?

उत्तर: किसने बटन हमारे कुतरे ? 

किसने स्याही को बिखराया ? 

कौन चट कर गया दुबक कर 

घर - भर में अनाज बिखराया ?


(ख) कुतर-कुतर कर _____ सारे 

_______ से घर को भर जाता | 

कौन कबाड़ी है जो ____ 

दुनिया भर का घर भर जाता ?

उत्तर: कुतर-कुतर कर कागज़ सारे 

रद्दी से घर को भर जाता | 

कौन कबाड़ी है जो कूड़ा 

दुनिया भर का घर भर जाता ?


(ग) रोज़ _____भर जगता रहता 

खुर-खुर इधर-उधर है _____ 

बच्चों उसका नाम बताओ 

कौन ______ यह कर जाता ?

उत्तर: रोज़ रात भर जगता रहता 

खुर-खुर इधर-उधर है धाता 

बच्चों उसका नाम बताओ 

कौन शरारत यह कर जाता ?


प्रश्न 2.  नीचे लिखे शब्दों के समान तुक वाले शब्द लिखो l

(क) मिठाई

उत्तर: बहाई

(ख) सोने

उत्तर: कोने

(ग) जाता

उत्तर: धाता


प्रश्न 3. चूहे द्वारा कुतरी जाने वाली तीन चीजों के नाम बताओ l

उत्तर: चूहे द्वारा कुतरी जाने वाली तीन चीजे है- चप्पल, बटन, कागज ।


प्रश्न 4. जब चूहा किताबों की जिल्द काट देता है तो क्या होता है ?

उत्तर: जब चूहा किताबों की जिल्द काट देता है तो पोथी के सभी पन्ने बिखर जाते हैं ।


प्रश्न 5. कवि किसे शरारती कहकर संबोधित करते हैं ?

उत्तर: कवि चूहे को शरारती कहकर संबोधित करते हैं l


प्रश्न 6. कविता मे शरारती जीव कहाँ-कहाँ जाता है ?

उत्तर: शरारती जीव घर की अलमारी मे, कभी रसोई घर मे, कभी घर के कोने-कोने मे चला जाता है ।


प्रश्न 7. किस सामान का सबसे ज्यादा नुकसान हुआ?

उत्तर: सबसे ज्यादा नुकसान अनाज, कपड़ों, जूते-चप्पलों तथा किताबों का हुआ।


प्रश्न 8. इस कविता में किसकी शैतानियों की बात कही गई है ? 

उत्तर: इस कविता में चूहे की शैतानियों की बात कही गई है। जो कागज, कपड़े आदि कुतर जाता है।


प्रश्न 9. कबाड़ी आपके घर से क्या-क्या सामान खरीदते हैं ?

उत्तर: कबाड़ी पुराने कागज, अखबार, लोहे और प्लास्टिक की वस्तुएं खरीदते हैं l


प्रश्न 10. कबाड़ी कबाड़ के सामान का क्या करता होगा ? बताओ l

उत्तर: कबाड़ी कबाड़ के सामान को ले जाकर फैक्ट्रियों में बेच देता है l जहां उन्हें गलाकर नई नई वस्तुएं बनाई जाती है l


Importance of CBSE Class 4 Hindi Chapter 8 Summary

In order to learn a language, one should read poems in the same language. That is why this chapter of the Class 4 Hindi syllabus is very important. These revision notes can help you in understanding the poem better.


In the Kaun poem, the poet is talking about a mischievous creature that is creating problems in the house. He says that this creature sometimes nibbles on shoes, sometimes on rubber, and sometimes it shreds the pieces of paper laying around in the house. The creature also eats bits and pieces of the food in the house and disturbs the house by running here and there at night.


It is clear from the poem’s tone that the speaker has no idea what the creature is and what it looks like. So, he is asking the young readers to figure out the answer for him. Students can make guesses about the animal to see if it is correct. 


Benefits of Kaun Worksheets and Revision Notes

The subject matter experts here at Vedantu have created these revision notes for Class 4 Hindi Chapter 8 for the benefit of the students as mentioned below.

  • All details as well as the summary of the chapter have been explained in a very simple tone that is easy to understand for Class 4 students. 

  • The explanation of answers to questions asked from the chapter will help students understand the chapter even better.  

  • Solving different worksheets of Kaun Hindi poem will boost confidence in children and help them answer questions properly in the exams. 

  • Revision notes are extremely helpful during exam preparation as students can just revise and recall it from these notes.


Download Kaun Hindi Poem Worksheets and Revision Notes

Vedantu is offering a free PDF of the revision notes and worksheets for Class 4 Hindi Chapter 8. Download and refer to these revision notes to answer questions asked from the Kaun poem. Learn the main message of the poem explained in these notes to understand the poem in detail.


Important Related Links for NCERT Class 4 Hindi

FAQs on Kaun Class 4 Notes CBSE Hindi Chapter 8 [Free PDF Download]

1. What do you think is the animal in the poem Kaun?

From the description and the activities of the animal that have been explained in the poem and the revision notes, it is pretty clear that the poet is talking about a mouse or a rat.

2. How does the animal disturb people at night?

The speaker mentions that the animal runs around the entire house at night and makes a rattling sound which is very disturbing. The animal runs and climbs the walls at night at nibbles on different things around the house.

3. What does the title of the poem ‘Kaun’ mean?

The word ‘Kaun’ in English means ‘Who’. The reason why the poet decided to keep this title lies in the fact that he doesn’t have a clue what the animal is that is causing such problems in his home.

Share this with your friends
SHARE
TWEET
SHARE
SUBSCRIBE