Muft Hi Muft Class 4 Notes CBSE Hindi Chapter 14 [Free PDF Download]

Prepare Smartly with Class 4 Hindi Chapter 14 Revision Notes

The syllabus of class 4 Hindi has a funny and interesting chapter for the students titled Muft Hi Muft. Not only does the chapter have an interesting storyline but there are funny pictures to make the process of learning easy and amazing for students. Apart from that, students will also learn a valuable lesson after reading the chapter.


With the help of revision notes from Vedantu, students can complete the chapter and learn essential details that will help them get a deeper understanding of the lesson. Not to mention that they will also be able to answer questions about the chapter. Download Class 4 Hindi Chapter Muft Hi Muft revision notes right now for more information.


NCERT Solutions for Class 4 Hindi | Chapter-wise List

Given below are the chapter-wise NCERT Solutions for Class 4 Hindi. These solutions are provided by the Hindi experts at Vedantu in a detailed manner. Go through these chapter-wise solutions to be thoroughly familiar with the concepts.

Do you need help with your Homework? Are you preparing for Exams?
Study without Internet (Offline)

Download PDF of Muft Hi Muft Class 4 Notes CBSE Hindi Chapter 14 [Free PDF Download]

Access Class 4 Hindi Chapter 14 – मुफ्त ही मुफ्त Notes

लेखक परिचय:

  • इस कहानी की लेखिका ममता पांड्या है ।

  • वह बाल साहित्यकार और पर्यावरण शिक्षक भी है।

  • उनकी किताब नेशनल बुक ट्रस्ट यूएनईपी द्वारा प्रकाशित की गई हैं।

  • उन्होंने कई किताबों का गुजराती में अनुवाद भी किया है।


कहानी का सारांशः

  • प्रस्तुत कहानी में एक भीखूभाई नामक कंजूस व्यक्ति का चित्रण किया गया है | 

  • एकदिन भीखूभाई का मन नारियल खाने का हुआ लेकिन घर में एक भी नारियल नहीं था । 

  • तब भीखूभाई ने अपनी पत्नी लाभुबेन से कहा लेकिन उन्होंने बाजार से नारियल लाने को कहा ।

  • भीखूभाई न तो बाजार जाना चाहते थे और न ही पैसे खर्च करना चाहते थे ।

  • इसके बाद वे सीधे खेत मे बूढ़े बरगद के नीचे बैठ गए और बाजार जाकर नारियल का दाम पूछकर आने के बारे मे सोचा ।

  • इसके बाद भीखूभाई बाजार गए और वहां नारियल वाले से नारियल का दाम पूछा ।

  • नारियल वाले ने एक नारियल का दाम दो रुपये बताया । भीखूभाई को यह बहुत ज्यादा लगा । तब उन्होंने इससे सस्ते नारियल के बारे मे पूछा ।

  • नारियल वाले ने बताया कि मंडी में सस्ते नारियल मिल सकता है । तब भीखूभाई तुरन्त मंडी की ओर निकल पड़े।

  • मंडी में बहुत शोर था । तभी अचानक भीखूभाई को नारियल वाला दिखाई दिया । 

  • नारियल वाले से दाम पूछने पर उसने दाम एक रुपया बताया । 

  • भीखू भाई ने उसे पचास पैसे देकर नारियल उठा लिया । 

  • इसके बाद नारियल वाले ने तुरंत उनके हाथ से नारियल छीन लिया और कहा बंदरगाह मे तुम्हें पचास पैसे मे नारियल मिल जाएगा ।

  • अब भीखूभाई ने सागर के किनारे एक नाव वाले से दाम पूछा । 

  • नाव वाले ने उत्तर दिया पचास पैसे में मिल जाएगा ।

  • भीखूभाई ने हैरान होकर बोला मैं इतनी दूर से पैदल थककर आया हूँ । मुझे पच्चीस पैसे मे दे दो । 

  • नाव वाले ने भीखूभाई को नारियल के बगीचे में जाने की सलाह दे दी ।

  • अब भीखूभाई ने नारियल के बगीचे में जाकर माली से दाम पूछा । 

  • माली ने उत्तर दिया कि पच्चीस पैसे का मिल जाएगा । 

  • भीखूभाई ने वापस हैरान होकर बोला पूरा रास्ता पैदल, जूते घिस गए । मुझे एक नारियल मुफ़्त मे दे दो । 

  • माली ने कहा कि अगर मुफ्त में नारियल चाहिये तो पेड़ पर चढ़ जाओ और जितने चाहो तोड़ लो |

  • भीखूभाई बहुत खुश हो जाते है और पेड़ पर चढ़ने लगते है | जैसे ही वह सबसे बड़े नारियल को तोड़ने के लिए दोनों हाथों को आगे बढ़ाते है तभी अचानक उनके पैर फिसल जाते है । वह एक नारियल को पकड़ लेते है जिससे उनके दोनों पैर हवा में झूलने लगते है| 

  • तभी ऊँट पर सवार एक आदमी वहाँ से गुजर रहा था | भीखूभाई ने उससे मदद माँगी और वह तैयार हो गया । जैसे ही वह उसकी मदद के लिए आगे बढ़े वैसे ही हरे-हरे पत्ते खाने की लालच में ऊँट ने गर्दन झुकाई और अपनी जगह से हट गया । 

  • इसके बाद उस आदमी ने अपनी जान बचाने के लिए उसने भीखूभाई के पैरों को कसकर पकड़ लिया ।

  • इसके बाद एक घुड़सवार आया और उनकी मदद करने को तैयार हो गया| 

  • लेकिन घोड़े ने हरी घास के चक्कर में अपने कदम आगे बढ़ा लिए । घुड़सवार ने ऊँटवाले के पैरों को पकड़ लिया | 

  • तीनों नारियल के पेड़ से झूल रहे थे | तभी घुड़सवार ने भीखूभाई से कसकर पकड़े रहने को कहा और सौ रुपए देने की बात की | 

  • इसके बाद ऊँटवाले ने भी दौ सौ रुपए देने की बात की | 

  • पैसों की बात सुनकर भीखूभाई ने अपनी दोनों बाहों को फैला दिया । जिसके कारण घुड़सवार, ऊँटवाला और भीखूभाई तीनों जमीन पर धड़ाम से गिर पड़े।

  • अंत मे भीखूभाई के ऊपर एक बड़ा सा नारियल गिर गया ।


नैतिक शिक्षा: 

इस कहानी से हमें यह शिक्षा मिलती है कि हमें ज्यादा लालच नहीं करना चाहिए l ज्यादा लालच से हमें नुकसान भी हो सकता है l


शब्द - अर्थ:

शब्द

अर्थ

वाक्य में प्रयोग

बंदरगाह

समुद्र के किनारे जहाजों की ठहरने का स्थान

बंदरगाह पर जहाज खड़ा हुआ है |

उचकाकर

उठाकर

राम ने अपनी कमर उचकाकर बाहर देखा ।

कोलाहल

शोर

सभी बच्चे बहुत कोलाहल कर रहे है | 

हक्का बक्का रह जाना

हैरान हो जाना

सुनीता की बातों को सुनकर सब हक्के बक्के रह गए |

हर्ज

नुकसान 

इससे हर्ज की भरपाई कौन करेगा ?

फुर्ती

तेजी

टिन्नू ने फुर्ती से सारा काम कर लिया है ।

मेहरबानी करना

दया करना

आज आपने हम पर बहुत मेहरबानी की है ।


प्रश्न - उत्तर:

प्रश्न 1. भीखूभाई का स्वभाव किस प्रकार का है ?

(क) दयालु

(ख) कंजूस

(ग) हँसमुख

उत्तर: कंजूस


प्रश्न 2. नाव वाले ने नारियल का दाम कितना बताया  ?

(क) 25 पैसे

(ख) 1 रुपया

(ग) 50 पैसे

उत्तर: 25 पैसे


प्रश्न 3. घुड़सवार ने भीखूभाई को कितने रुपए देने की बात की ?

उत्तर: घुड़सवार ने भीखूभाई को सौ रुपए देने की बात की l


अभ्यास प्रश्न:

प्रश्न 1. भीखूभाई नारियल खरीदने के लिए किस किसके पास गए थे ?

उत्तर: भीखूभाई सबसे पहले नारियल वाले के पास जाते हैं l इसके बाद वह नाव वाले और उसके बाद बगीचे वाले के पास गए थे l


प्रश्न 2. क्या भीखूभाई अंत में मुफ्त का नारियल कहां पाए थे ?

उत्तर: भीखूभाई मुफ्त का नारियल नहीं खा पाए थे बल्कि उनके सिर पर एक बड़ा सा नारियल गिर गया था l


प्रश्न 3. इस पाठ से आपको क्या सीख मिली ?

उत्तर: इस पाठ से हमें यह सीख मिली कि हमें ज्यादा लालच नहीं करना चाहिए l ज्यादा लालच से हमें नुकसान भी हो सकता है l


प्रश्न 4. हर बार भीखूभाई कम दाम देना चाहते थे। क्यों?

उत्तर: भीखूभाई बहुत ज्यादा कंजूस थे इसी कारण वह हर बार कम दाम देना चाहते थे ।


प्रश्न 5. हर जगह नारियल के दाम में फर्क क्यों था?

उत्तर: जहाँ नारियल की खेती होती है वहाँ यह सबसे सस्ता मिलता है । बाजार में पहुँचते पहुंचते उसकी कीमत बढ़ती जाती है। इसी कारण हर जगह नारियल के दाम में फर्क दिखाई दिया l


प्रश्न 6. क्या भीखूभाई को नारियल सच में मुफ्त में मिला? क्यों?

उत्तर: नहीं, भीखूभाई को नारियल मुफ्त में नहीं मिला क्योंकि नारियल के लिए उन्हें बहुत मेहनत करनी पड़ी l


प्रश्न 7. कहानी में बरगद को बूढ़ा क्यों कहा गया होगा?

उत्तर: बरगद का पेड़ बहुत पुराना होगा इसीलिए उसे बूढ़ा कहा गया है।


प्रश्न 8. कहानी के आधार पर भीखूभाई के बारे में कुछ बातें बताओ।

उत्तर: भीखूभाई के गुण-

(क) उन्हें खाने-पीने का शौक था।

(ख) वे बहुत कंजूस थे।

(ग) उन्हें नारियल बहुत  ज्यादा पसंद था।

(घ) वे बहुत लालची थे।

(ङ) वे बातें बनाने में बहुत चालाक थे।


प्रश्न 9. कहानी के आधार पर बताओ कि आगे बढ़ते जाने पर किस चीज के दाम बढ़े हैं और किसके घटे हैं ?

(क) नारियल का दाम 

उत्तर: नारियल का दाम घटता चला गया l

(ख) भीखुभाई की लालच 

उत्तर: भीखुभाई की लालच बढ़ती चली गई l

(ग) रास्ते की लम्बाई 

उत्तर: रास्ते की लंबाई बढ़ती चली गई l

(घ) भीखुभाई की थकान 

उत्तर: भीखुभाई की थकान बढ़ती चली गई l


प्रश्न 10. जिस प्रकार नाना-नानी होता है । उसी प्रकार नीचे लिखे गए शब्दों के सही शब्द लिखो l

(क) काका

उत्तर: काकी

(ख) दर्जी

उत्तर: दर्जिन

(ग) मालिन

उत्तर: माली

(घ) टोकरी

उत्तर: टोकरा

(ड़) मटका

उत्तर: मटकी

(च) गद्दा

उत्तर: गद्दी


Importance of CBSE Class 4 Hindi Chapter 14 Summary

The best way to understand a chapter is to learn the summary of the chapter and read the important revision notes. The chapter Muft Hi Muft Class 4 tells young readers the story of Bheekumal who is a miser and is always looking for a chance to buy things for less money.


In this story, Bheekumal got into a lot of trouble as he was trying to lessen the price of just one coconut. He wanted to get the coconut for free and hence he ended up climbing the coconut tree to get it. However, his foot slipped and he ended up hanging to the tree with just a coconut. The people who wanted to help him also got stuck themselves. In the end, Bheekumal fell to the ground and coconut hit him in the head, free of cost.


The story of Muft Hi Muft Class 4 Hindi chapter might be a fun one but it has a very important message for students. Young readers will learn that it is not worth it to risk your life just to save some money.


Benefits of Using Vedantu’s Revision Notes for Class 4 Hindi Chapter 14

The subject experts at Vedantu have taken special care in crafting the important revision notes for Class 4 Hindi Chapter 14 and hence students will have a lot of benefits when they choose to study from these revision notes. 

  • All concepts and details of the chapter have been properly explained in the revision notes and that too using a very single tone that is easy to understand for class 4 students. 

  • There are worksheets for Chapter 14 included in the revision notes, with the help of which students will be able to answer questions and do the activities that have been provided at the end of the chapter. 

  • With revision notes, exam preparation also becomes a lot easier as students don’t have to spend their time reading the entire chapter again before their exams. 

  • Students will get to recall any details that they might have missed in the class with the revision notes.


Get Revision Notes For Muft Hi Muft Right Now For Easy Preparation

Don’t miss out on the chance to download Muft hi Muft Class 4 PDF versions of revision notes and worksheets. Use the study materials to prepare the chapter well and you can score good marks in your exams.


Important Related Links for NCERT Class 4 Hindi

FAQs on Muft Hi Muft Class 4 Notes CBSE Hindi Chapter 14 [Free PDF Download]

1. Why is Class 4 Hindi Chapter Muft hi Muft revision notes important?

With the revision notes of Muft hi Muft, students can prepare for their exams efficiently. The subject experts at Vedantu have included important questions in the notes that are most likely to appear in the exams.

2. Why did Bheekumal go to the market?

Bheekumal went to the market to enquire about the price of a coconut. However, when he reached the market, he was shocked to hear that a single coconut cost 2 rupees.

3. Where did Bheekumal go to get the coconut for free?

After reaching the coconut farm, when Bheekumal heard that the price of the coconut was 25 paise, he refused to pay for it. He wanted the coconut for free. So, he climbed the tree so that he could get the coconut himself, free of cost.

Share this with your friends
SHARE
TWEET
SHARE
SUBSCRIBE