NCERT Solutions for Class 6 Hindi Vasant Chapter 4

Class 6 Hindi Vasant NCERT Solutions for Chapter 4 Chaand Se Thodi Si Gappe

Are you lost in finding the correct site that can clear your doubts regarding the concepts and chapters of Hindi Vasant Chapter 4 - Chand Se Thodi Si Gappe? Do you find it difficult to understand the fancy vocabulary used by the writers and find trouble in decoding the language? Well, NCERT Solutions for Class 6 Hindi Vasant Chapter 4 offered by Vedantu below is the solution for your problems. There are many times when you try hard and focus a lot but still cannot understand certain topics covered in the chapter that have complex statements. This is usually the time when you feel like giving up but try using NCERT Solutions and all your problems will be solved. So download NCERT Solutions for Class 6 Hindi Vasant Chapter 4 pdf given below and resolve the issues you are facing in this chapter. Subjects like Science, Maths, English, Hindi will become easy to study if you have access to NCERT Solution for Class 6 Science, Maths solutions and solutions of other subjects. You can also download NCERT Solutions for Class 6 Maths to help you to revise complete syllabus and score more marks in your examinations.

Do you need help with your Homework? Are you preparing for Exams?
Study without Internet (Offline)
NCERT Solutions for Class 6 Hindi Vasant Chapter 4 Chaand Se Thodi Si Gappe part-1

Access NCERT Solutions for Class 6 Hindi Vasant Chapter - 4: चाँद से थोड़ी सी गप्पे

कविता से

1. ‘आप पहने हुए हैं कुल आकाश’ के माध्यम से लड़की क्या कहना चाहती है की–

1) चाँद तारों से जड़ी हुई चादर ओढ़कर बैठा है।

2) चाँद की पोशाक चारों दिशाओं में फैली हुई है

तुम किसे सही मानते हो?

उत्तर: ‘आप पहने हुए हैं कुल आकाश’ के मध्यम से लड़की कहना चाहती है की चाँद की पोशाक चारों दिशाओं में फैली हुई है। वह अपनी रोशनी से सारे आकाश और सारी पृथ्वी पर अपनी रोशनी फैलाए हुए है। पूरा आकाश ऐसा लग रहा है जैसे वह उसकी पोशाक है।


2. कवि ने चाँद से गप्पे किस दिन लगाई होगी? इस कविता में आई बातों की मदद से अनुमान लगाओ और उसका कारण भी बताओ।

दिन                                कारण

पूर्णिमा

अष्टमी से पूर्णिमा के बीच

प्रथमा से अष्टमी के बीच

उत्तर: जिस दिन कवि ने चाँद से गप्पे लगाई उस दिन वह पूरा गोल दिखाई दे रहा था। कविता में भी चाँद के गोल होने की बात कही गई है। चाँद सिर्फ पूर्णिमा के दिन ही पूरा गोल दिखाई देता है। इसलिए पूर्णिमा के दिन कवि ने चाँद से गप्पे लगाई होगी।


3. नई कविता में तुक और छंदों के बदले बिंब का प्रयोग अधिक होता है। बिंब वह तस्वीर होती है जो शब्दों को पढ़ते समय हमारे मन में होती है। कई बार कुछ कवि शब्दों की ध्वनि की मदद से ऐसी तस्वीर बनाते है और कुछ कवि अक्षरों और शब्दों को छापने में इस तरह बल देते है की उनसे हमारे मन में वह चित्र बनें। इस कविता के अंतिम हिस्से में चाँद को गोल बताने के लिए कवि बिल्कुल शब्द के अक्षरों को अलग अलग कर के लिखा है। तुम इस कविता के और किन शब्दों को चित्र की आकृति देना चाहोगे? ऐसे शब्दों को अपने ढंग से लिखकर दिखाओं।

उत्तर: इस कविता के और शब्दों को जिन्हें हम आकृति देना चाहेंगे वे निम्न है–

1) तिरछे

2) गोल – मटोल

3) मरज

4) पोशाक


अनुमान और कल्पना

1. कुछ लोग बड़ी जल्दी चिढ़ जाते है। यदि चाँद का स्वभाव भी आसानी से चिढ़ जाने का हो तो वह किन बातों से सबसे ज्यादा चिढ़ेगा? चिढ़कर वह उन बातों क्या जवाब देगा। अपनी कल्पना से चाँद की ओर से दिए गए जवाब लिखो।

उत्तर: ये सच है की कुछ लोग बड़ी जल्दी चिढ़ जाते है। यदि चाँद का स्वभाव भी जल्दी चिढ़ने का होता तो वह इस बात से ज्यादा चिढ़ता की लोग उसको उसके आकार के बारे में बहुत सी बातें कहते है। वे कहते है की उसका आकार स्थाई नहीं है वह हर रोज एक जैसा नहीं रहता घटता और बढ़ता रहता हैं और यह एक प्रकार की बीमारी है। इस पर हमारे अनुमान से चाँद यह जवाब देता की यह उसकी प्रकृति है। उसकी इसी प्रकृति के कारण ही सृष्टि में संतुलन बना रहता है। तुम्हारा मेरे बारे में ऐसा सोचना तुम्हारे अंदर ज्ञान की कमी को दर्शाता है।


2. यदि कोई सूरज से गप्पे लगाए तो वह क्या लिखेगा? अपनी कल्पना से गद्य या पद्य में लिखो। इसी तरह की कुछ गप्पे निम्नलिखित में से किसी एक या दो से करके लिखो।

पेड़, बिजली का खंभा,  सड़क, पेट्रोल पंप

उत्तर: सूरज से यदि कोई गप्पे लगाए तो वह लिखेगा की–

आपकी गर्मी से सभी परेशान हो गए है। कोई भी अपने घर से बाहर नहीं निकलना चाहता है। सभी को थोड़ी – सी तो राहत दीजिए। सूर्य आपके ताप से सभी बहुत ही परेशान है।

सड़क के साथ गप्पे हम कुछ इस तरह करेंगे–

सड़क के रास्ते हमें अपनी मंजिल तक ले जाते है। तुम भी अपना आकार बदलती हो कहीं पर तंग और कहीं पर चौड़ी होती हो। लेकिन गलत सड़क चुनने से यह हमें रास्ता भी भटकाती है। लेकिन सही सड़क सबको मंजिल तक पहुंचाती हैं। 


भाषा की बात

1. चाँद संज्ञा है| चांदनी रात में चांदनी विशेषण है|

नीचे दिए गए विशेषणों को ध्यान से देखें ओर बताओ की–

(क) कौनसा प्रत्यय जुड़ने पर विशेषण बन रहे हैं|

(ख) इन विशेषणों के लिए एक – एक उपयुक्त संज्ञा भी लिखों –

गुलाबी पगड़ी

मखमली घास

कीमती गहने

ठंडी रात

जंगली फूल

कश्मीरी भाषा

उत्तर: 

क) चाँदनी विशेषण में ‘ई’ प्रत्यय का प्रयोग किया गया है।

1) निम्न विशेषणों के लिए एक एक उपयुक्त संज्ञा इस प्रकार है–

गुलाबी फूल

मखमली कालीन

कीमती कपड़े

ठंडी बर्फ

जंगली पौधा 

कश्मीरी मिठाई।


2. गोल– मटोल, गोरा– चिट्ठा

कविता में आए इन शब्दों में अंतर यह है की चिट्ठा का अर्थ सफेद है और गोरा से मिलता जुलता है, जबकि मटोल अपने आप में कोई स्वाद नहीं है। यह शब्द मोटा से बना है।

ऐसे चार भर शब्द युग्म सोचकर लिखो और उनका वाक्यों में प्रयोग करो।

उत्तर: चार शब्द युग्म इस प्रकार है–

खाना– वाना

पानी– वानी

मौका– सौका

मिलना – विलना

इन शब्द युग्मों का वाक्यों में प्रयोग इस प्रकार हैं–

1) सभी ने खाना– वाना खाया और फिर बातें करने लगे।

2) उसे प्यास लग रही थी इसलिए मैंने उसे पानी– वानी दिया।

3) मौका– सौका मिलते ही हम दिल्ली चले जाएंगे।

4) समारोह में तो सभी का मिलना– विलना होता ही रहता है।


3. बिलकुल गोल कविता में इसके दो अर्थ है।

क) गोल आकार का।

ख) गायब होना।

ऐसे तीन और शब्द सोचकर उनसे ऐसे वाक्य बनाओं जिनके दो– दो अर्थ निकलते हो।

उत्तर: ऐसे शब्द जिनके दो दो अर्थ निकलते है–

1) कर– करना, हाथ

करना– तुम यह काम समय के पूरा कर लो।

हाथ– तुम्हारे कर में चोट लगी हुई है।

2) सीमा– हद, बॉर्डर

हद – मेरे क्रोध की एक सीमा है।

बॉर्डर– सीमा पर आतंकवादियों ने हमला कर दिया है। 

3) फल– परिणाम, चीज

परिणाम– मोहन को उसके कर्मों का फल जरूर मिलेगा।

चीज– सीता का पसंदीदा फल अनार है।


4. ताकि, जबकि, चूंकि, हालांकि कविता में जिन पंक्तियों में ये शब्द आए है उन्हे ध्यान से पढ़ों। ये शब्द दो वाक्यों को जोड़ने का काम करते हैं। इन शब्दों का प्रयोग करते हुए दो दो वाक्य बनाओं।

1) ताकि–राघव को यहां से ले जाओ ताकि मैं खाना खा सकूं।

तुम जल्दी से घर आओ ताकि फिर हम घूमने जा सके।

2) जबकि– तुमने दोबारा खाना बनाया जबकि मैं खाना बना चुकी थी।

वह स्कूल के लिए तैयार हो रहा है जबकि आज छुट्टी है।

3) चूंकि– चूंकि हम बाहर जाने वाले थे इसलिए मैंने खाना नहीं खाया।

चूंकि तुमने मना किया था इसलिए मैं दिल्ली नही गई।

5) हालांकि–हालांकि मैंने उसे कभी देखा नहीं लेकिन मैं उसके बारे में जानती हूं।

हालांकि हम कभी आगरा नहीं गए लेकिन सुना है की ताजमहल बहुत ही खूबसूरत है।                   


5. गप्प, गप–शप्प या गप्पबाजी क्या इन शब्दों के अर्थ में कोई अंतर है? आपको क्या लगता है? लिखों।

उत्तर: गप्प, गप्प शप्प या गप्पबाजी इन तीनों के अर्थ में अंतर है। गप्प मतलब व्यर्थ की बातें करना, गप्प शप्प मतलब किसी के बारे में पीछे से बातें करना और गप्पबाज़ी का मतलब है कुछ सही और कुछ गलत बातें करना। इसलिए इनके अर्थ में अंतर है और ये अलग 


NCERT Solutions for Class 6 Hindi Vasant Chapter 4 - Free PDF Download

NCERT Solutions are a go-to buddy for many of the students who are struggling to gain more marks. There is a difference between smart work and hard work and well you need to study more smartly so that you do not stress yourself out trying to put into lots and lots of effort resulting in an undesirable outcome.

If you spend your time looking for guide manuals and scrolling through internet sites to find the accurate study content of Hindi Vasant Chapter 4 - Chand Se Thodi Si Gappe, when will you give time to study? NCERT Solution For Class 6 Hindi Vasant Chapter 4 has all of this already sorted and you just need to visit the site and download the course material available and begin studying. This study material will provide you solutions for all their questions covered in Hindi Vasant Chapter 4. So, you just have to tap on the pdf link given below for downloading the NCERT Solutions for Class 6 Hindi Vasant Chapter 4 pdf free of cost.


Glimpses of Class 6 Hindi Vasant Chapter 4

Vasant is a CBSE prescribed book for Hindi that contains a collection of 17 poems. Vasant Class 6 Chapter 4 is Chaand Se Thodi si Gappe by Hindi poet Shamser Bahadur Singh. In the poem, the poet throws light on a 10-11-year-old who is curious by nature and has the tendency to question all that she sees. She is talking to the moon and says that the moon is like a human and the sky is his clothes with the stars adding up to the sparkle of his clothes.

The girl has observed the waxing and waning of the moon and feels that the moon is unwell because it never stops the process of waxing and waning and gets no time to relax. The little girl is so curious to get all her answers but there is no one to reply. It is an easy poem but there are a few words that might be tricky for you. No worries, NCERT Solutions has covered it all for you. Just visit Vedantu official website and search for NCERT solutions of Hindi Vasant Class 6 Chapter 4 free pdf.


Benefits of NCERT Solutions for Class 6 Hindi Vasant

Most of the students are getting themselves for home tuitions and coaching classes or spending their money on buying the expensive study material for all their subjects. Students don't realize the fact that spending all this money on coachings and books won't work unless they give time to self-studies because that is the core to learn anything. NCERT Solutions provide a helping hand to the students who are willing to study on their own and earn high scores. Isn't it nice if you are getting a better and advanced derivative for all of this? Let us count on the few benefits of NCERT Solutions:

  • You no longer need to join coaching classes or buy new guidebooks. You can study from home for free.

  • It saves a lot of your time and money and helps you to increase your scores free of cost.

  • Authentic material is modulated by experienced teachers.

  • The course material adheres to the syllabus prescribed by the CBSE board.


How Would Vedantu Study Material Help Students?

Vedantu provides advanced course material that is wisely crafted by expert teachers who are experienced and have a detailed knowledge of the subject. It enables students to learn at whatever pace suits them. There is no hurry to match up with the speed of your teachers because it is self-study and you can study at whatever time you want. The questions and solutions provided for every chapter help to gain an insight into every topic and in testing your knowledge of what you have just studied. Vedantu adheres to the CBSE guidelines and compiles all the study material in the form of pdfs so that students can download it and study offline for free.

FAQs (Frequently Asked Questions)

1. How do NCERT Solutions Produce Good Quality Study Material?

Ans: Formulated by experienced professional teachers, NCERT Solutions covers all the concepts, theories, and topics so that students don't find any need to look up some other books or sites. The practice questions enable them to test their knowledge and evaluate and analyze where they lack so that they can revert to those concepts and study them again.

2. What is the Essence of Class 6 Hindi Vasant Chapter 4?

Ans: Class 6 Vasant Chapter 4 Chand se Thodi si Gappe by Shamser Bahadur Singh is an insight into the innocence and curiosity of a 10-11-year-old who is intrigued by the waxing and waning of the moon and is curious about it. She talks to the moon and concludes that the moon is unwell because it is not getting any rest because of its constant work of waxing and waning.

3. How Does Vedantu Help in Increasing Your Understanding of the Chapters?

Ans: Vedantu acknowledges the problems students face while studying and tries to tackle them all by providing a course material that can cater to the needs of all students. You will find all the chapters being explained carefully, right from the basics and then proceeding chronologically so that you can join the dots. There are solutions provided for each question that is asked so that you can refer to it whenever you get stuck while solving or answering them. The questions cover all the topics so that you are thorough with all the concepts and all prepared for your exams.

Share this with your friends
SHARE
TWEET
SHARE
SUBSCRIBE