Papa Jab Bacche The Class 4 Notes CBSE Hindi Chapter 4 [Free PDF Download]

NCERT Class 4 Hindi Chapter 4 Papa Jab Bacche The Revision Notes and Worksheet

Class 4 Hindi Chapter 4 is a very crucial chapter in the CBSE Hindi syllabus for students. In these revision notes, every single detail is explained in a very concise and precise manner by the experts here at Vedantu. If you want to learn the chapter easily, you can refer to Papa Jab Bacche The revision notes and solve the worksheets to assess your understanding of the chapter.


With the help of these revision notes, it becomes a lot easier to grasp the concept explained in the chapter. Not only will you be able to learn the lesson easily but you will also be able to answer questions asked from it after reading the notes of Papa Jab Bacche The.


NCERT Solutions for Class 4 Hindi | Chapter-wise List

Given below are the chapter-wise NCERT Solutions for Class 4 Hindi. These solutions are provided by the Hindi experts at Vedantu in a detailed manner. Go through these chapter-wise solutions to be thoroughly familiar with the concepts.

Do you need help with your Homework? Are you preparing for Exams?
Study without Internet (Offline)

Download PDF of Papa Jab Bacche The Class 4 Notes CBSE Hindi Chapter 4 [Free PDF Download]

Access Class 4 Hindi Chapter 4 – पापा जब बच्चे थे Notes

लेखक परिचय:

  • इस कहानी के लेखक 'अलेक्सांद्र रस्किन' है l

  • वे एक रूसी लेखक और व्यंग्यकार है l

  • उन्होंने साहित्य संस्थान से स्नातक किया है l


कहानी का सारांशः

  • इस कहानी में इंसान की इंसानियत के महत्व को उजागर किया गया है । 

  • लेखक कहते हैं कि जब पापा छोटे थे तो उनसे हमेशा यह पूछा जाता था कि बड़े होकर तुम क्या बनना चाहते हो ?

  • पापा हर बार अपना अलग-अलग जवाब दिया करते थे | 

  • शुरू शुरू में वे एक चौकीदार बनना चाहते थे | क्योंकि जब पूरा शहर सोता है तब चौकीदार जागता रहता है । 

  • एक दिन जब उनकी नज़र आइसक्रीम वाले पर गई तो उन्होंने सोचा कि वे आइसक्रीम बेचेंगे । वे खुद भी आइसक्रीम खाएँगे और बच्चों को भी मुफ्त में आइसक्रीम खिलाएँगे । 

  • पापा के माता-पिता उनकी इन बातो को सुनकर बहुत हँसा करते थे ।

  • एक दिन पापा ने रेलवे स्टेशन पर एक आदमी को शटिंग करते देखा | इसके बाद से उन्होंने सोचा  कि वे बड़े होकर रेलगाड़ी के डिब्बों की शटिंग करेंगें।

  • जब उनसे पूछा गया कि क्या अब वे आइसक्रीम बेचने का काम नहीं करेंगें।

  •  तब पापा ने जवाब दिया कि वे दोनों काम एक साथ करेंगें ।

  • फिर उनसे यह पूछा गया कि वे दोनों काम एक साथ कैसे करेंगे ।

  • इसका पापा ने जवाब दिया कि वे सुबह के समय आइसक्रीम बेचेंगे और बाद मे स्टेशन जाकर कुछ देर डिब्बों की शंटिग करने के बाद  फिर से आइसक्रीम बेचने आ आएंगे | कुछ देर आइसक्रीम बेचकर फिर स्टेशन चले जाएँगे | 

  • सभी उनकी यह बात सुनकर हँस पड़े। 

  • उनको हँसता देख पापा को गुस्सा आया और वे बोले अगर आप सब मेरी हंसी उड़ाओगे तो मैं साथ में चौकीदार भी बन जाऊंगा ।

  • इसके बाद पापा ने कभी हवाई जहाज का चालक, कभी अभिनेता, कभी जहाजी और चरवाहा भी बनने के बारे मे सोचा | 

  • अंत में एक दिन उन्होंने तय किया कि वह एक  कुत्ता बनना चाहते है | 

  • अब वे कुत्ते की तरह व्यवहार करने लगे थे| 

  • एक दिन जब वे एक कुत्ते के पास जाकर बैठ गए । तब एक अजनबी फौजी अफसर वहां आया और पापा से पूछा कि वह क्या कर रहे है।

  •  पापा ने उत्तर दिया कि वह कुत्ता बनना सीख रहे है । 

  • तभी फौजी अफसर ने उनसे पूछा कि वह  कुत्ता बनना क्यों चाहते है ।

  • पापा ने उत्तर मे कहा क्योंकि मैं बहुत दिनों तक इंसान बनकर रह चुका हूँ। 

  • फौजी अफसर ने पापा से कहा कि क्या वह जानते है कि इंसान किसे कहते हैं ।

  • पापा ने कहा मुझे नहीं पता | आप ही बता दो ।

  • इसके बाद अफसर यह कहकर वहाँ से चला गया।

  • इस प्रश्न को सुनकर पापा बहुत गम्भीर होकर सोचने लगे | तब उन्हें समझ आया कि वह रोज़-रोज़ अपने इरादे नहीं बदल सकते है| 

  • दूसरी बार जब पापा से यही प्रश्न पूछा गया तो उन्हें उस अफसर की याद आ गई और उन्होंने कहा कि वह अब इंसान ही बनना चाहते है |

  • इस बार उनकी बात पर कोई भी नहीं हंसा और पापा समझ गए कि यही सबसे अच्छा जवाब है ।


नैतिक शिक्षा:

इस कहानी से हमें यह शिक्षा मिलती है हमें कुछ भी बनने से पहले एक अच्छा इंसान बनना चाहिए ताकि हम एक-दूसरे के साथ अच्छा व्यवहार कर सकें |


शब्द - अर्थ:

शब्द

अर्थ

वाक्य में प्रयोग

अजीब

अनोखा

यह जानवर तो बहुत अजीब है |

पक्का

निश्चित

आज मैं पक्का खेल में जीत जाऊंगा।

हैरानी

आश्चर्य

मुझे इस बात से हैरानी है कि तुम झूठ बोलते हो ।  

मुश्किल

कठिन

दीपक मुश्किल में पड़ गया है | 

चरवाहा 

मवेशी चराने वाला

चरवाहा मवेशियों को चरा रहा है |

अभिनेता

फिल्म मे नाटक करने वाला 

मोहन एक अभिनेता बनना चाहता है ।

अड़े रहना

टिके रहना

गीता सुबह से अपनी बात पर अड़ी हुई है ।

अचंभा

आश्चर्य

मुझे यह जानकर अचंभा हुआ कि राम परीक्षा में फेल हो गया है अच्छा हुआ लंबा हुआ बेकार करता है ।

अजनबी

अनजान व्यक्ति

हमें अजनबी से कभी कुछ नहीं लेना चाहिए।

वक्त

समय

वक्त बहुत कीमती होता है l

इरादा

इच्छा

आज मेरा इरादा पढ़ने का है l


प्रश्न - उत्तर:

प्रश्न 1. यह कहानी किस बारे में है ?

(क) इंसानियत

(ख) मनोरंजन

(ग) खेलकूद

उत्तर: इंसानियत

 

प्रश्न 2. पापा किसकी बात से बहुत प्रभावित हुए ?

(क) माता

(ख) पिता

(ग) फौजी अफसर

उत्तर: फौजी अफसर


प्रश्न 3. पापा आइसक्रीम बेचने वाला बनना चाहते थे क्यों ?

उत्तर: पापा ने सोचा कि वे आइसक्रीम वाला बनकर आइसक्रीम बेचेंगे । वे खुद भी आइसक्रीम खाएँगे और बच्चों को भी मुफ्त में आइसक्रीम खिलाएँगे ।


अभ्यास प्रश्न:

प्रश्न 1. मिलान करो l

अजीब

निश्चित

पक्का

अनोखा

अचंभा

समय

वक्त

आश्चर्य

उत्तर:  उचित मिलान-

अजीब

अनोखा

पक्का

निश्चय

अचंभा

आश्चर्य

वक्त

समय


प्रश्न 2. अंत में पापा से प्रश्न पूछने पर उन्होंने क्या जवाब दिया ?

उत्तर:  कहानी के अंत में पापा से प्रश्न पूछने पर उन्होंने जवाब दिया कि वह अब इंसान बनना चाहते हैं l


प्रश्न 3.  इस कहानी से आपको क्या सीख मिली ?

उत्तर:  इस कहानी से हमें यह सीख मिली कि हमें एक दूसरे के साथ अच्छा व्यवहार करना चाहिए l


प्रश्न 4. नीचे लिखे गए शब्दों को पढ़ कर बताओ कि आप अपने घर में किसे क्या कह करके बुलाओगे ?

(क) पापा के पापा 

उत्तर: दादाजी

(ख) माँ की माँ 

उत्तर: नानी जी

(ग) पापा की बहन 

उत्तर: बुआ जी

(घ) माँ के भाई 

उत्तर: मामाजी


प्रश्न 5. कहानी में 'पापा' शब्द के स्थान पर कौन-कौन से दूसरे शब्द प्रयोग किए गए हैं ? उन्हें लिखिए l

उत्तर: उनसे, उनका, तुम, वह, मैं और तुम्हें l


Importance of CBSE Class 4 Hindi Chapter 4 Summary

The summary of this Class 4 Hindi Chapter 4 creates a perfect way for students to grasp what is stated in the chapter. The chapter starts with a young boy talking about his father when he was a child. His father was asked questions about what he wanted to become when he grew up.


His father always answered differently. Sometimes he wanted to become an ice cream man and sometimes he answered that he wanted to become a watchman. However, the elders always laughed at him and his answers because they were childish. But with time, the father decided that he can’t keep on changing his decision and when he was asked again, he replied that he wanted to become a human. No one laughed at him after that.


From this chapter, students will learn that it is important to become a good and wise human being first. This chapter teaches the importance of humanity and asks the students to do good before moving on with their careers. 


Benefits of Revision Notes for NCERT Class 4 Chapter 4 Hindi

Here are some benefits of reading the revision notes of NCERT Class 4 Hindi Chapter 4 Papa Jab Bacche The.

  • Students can learn a lot about the chapter from the revision notes and the summary that is provided in the notes. 

  • They can learn different questions and activities in the exercises that are well-explained by our subject matter experts in the revision notes. 

  • From the revision notes, students will have an easy and fast way of preparing for the examinations.

  • They can solve exercises of Class 4 Hindi Chapter 4 question answers referring to the revision notes and worksheets.


Understand Class 4 Hindi Chapter 4 Easily With Revision Notes

The Class 4 Hindi Chapter 4 PDF revision notes will help students learn and understand the chapter well enough and prepare for their exams. Read the summary and reference the notes according to your convenience. Download the revision notes and worksheets for free.


Important Related Links for NCERT Class 4 Hindi

FAQs on Papa Jab Bacche The Class 4 Notes CBSE Hindi Chapter 4 [Free PDF Download]

1. What does Papa decide to become in the end?

Papa always had different answers when he was asked what he wanted to become when he grew up. But after a while, he made the decision that he will not change his mind again, and hence he wanted to become a human.

2. What is the moral of the chapter?

The chapter teaches our young readers that before trying to become anything else, they should always aim to become good human beings.

3. Are the revision notes for NCERT Class 4 Hindi Chapter 4 difficult? 

Some students who don’t have Hindi as their primary language might have some difficulties in understating the chapter. However, the experts at Vedantu have taken special care to ensure that everything is explained in a simple language so that no student has any trouble understanding it.

Share this with your friends
SHARE
TWEET
SHARE
SUBSCRIBE