Important Questions for CBSE Class 7 Hindi Durva Chapter 17 - Maut Ka Pahad

CBSE Class 7 Hindi Durva Important Questions Chapter 17 - Maut Ka Pahad - Free PDF Download

Free PDF download of Important Questions with solutions for CBSE Class 7 Hindi Durva Chapter 17 - Maut Ka Pahad prepared by expert Hindi teachers from latest edition of CBSE(NCERT) books.

Do you need help with your Homework? Are you preparing for Exams?
Study without Internet (Offline)
Important Questions for CBSE Class 7 Hindi Durva Chapter 17 - Maut Ka Pahad part-1

Study Important Questions For Class 7 Hindi Chapter – 17 मौत का पहाड

अति लघु उत्तरीय प्रश्न                                                                (1 अंक)

1.कहानी ' मौत का पहाड़ ' कहानी के लेखक कौन हैं?

उत्तर: कहानी ' मौत का पहाड़ ' की रचना ' गायत्री मदन दत्त ' द्वारा कि गई हैं।


2.कहानी ' मौत के पहाड़ ' में चित्रकार कौन हैं?

उत्तर: कहानी ' मौत के पहाड़ ' में चित्रकार का नाम ' राम वाईरकर ' हैं।


3. कहानी ' मौत के पहाड़ ' में किन दो भाईयो की कहानी है?

उत्तर: कहानी ' मौत के पहाड़ ' में इचिरो और चिरो नमक दो भाईयो की कहानी दर्शाई गई है।


4.कहानी में दोनों भाईयो की मां का क्या नाम हैं?

उत्तर: कहानी ' मौत का पहाड़ ' में दोनों भाईयो की मां का नाम सुमी हैं।


5.दोनो भाई खिड़की से किसको देखते थे?

उत्तर: दोनो भाई खिड़की से दूर कोहरे से ढके पहाड़ को देखते थे।


लघु उत्तरीय प्रश्न                                                                        (2 अंक)

1. कितने वर्ष के होने प्र बूढों को राज्य से निकाल दिया जाता था और क्यों?

उत्तर: ७० वर्ष के होने के पश्चात राज्य के बूढों को राज्य से निकाल कर उन्हें पहाड़ों पर कही दूर छोड़ दिया जाता था ऐसा इसलिए किया जाता था क्योंकि राज्य के राजा का विचार था कि बूढ़े हो जाने के बाद उनकी योग्यता और ताकत ख़तम हो जाती हैं।


2. राजा द्वारा बनाए गए बूढों के लिए नियमों में किन बातों को भुला दिया गया था?

उत्तर: राजा द्वारा बनाए गए बूढों के लिए नियमों में यह बात भुला दी गई थी कि बूढ़े लोगो द्वारा इतने वर्षों में अर्जित किया ज्ञान और अनुभव वह अपने बच्चो को सीखा सकते हैं। जो उनके लिए लाभप्रद साबित होगा।


3. सुमी पहाड़ पर चढते समय सरकंडों को तोडकर क्यों गिराती जा रही थी?

उत्तर: सुमी बहुत बुद्धिमान थी। सुमी पहाड़ पर चढ़ते समय सरकंडे तोड़कर गिराती इसलिए जा रही थी ताकि उसके बच्चे घर वापस जाते समय उसी रास्ते से जाए और कहीं रास्ता ना भटक जाते।इसलिए सुमी ने ऐसा किया।


4. नए रास्ते का क्या परिणाम हुआ?

उत्तर: नए रास्ते का परिणाम यह हुआ कि वापस लौटते समय तेज तूफ़ान और बर्फ गिरने के कारण दोनों भाईयो ने घर जाने के लिए छोटे रास्ते का प्रयोग करना चाहा पर वें दोनो रास्ता भटक गए और परिणाम स्वरूप दोनो भाई अपनी मा के पास वापस पहुंच गए।


5. रास्ता भटकने के बाद वापस मा के पास पहुंचकर उन्होंने क्या देखा ?

उत्तर: रास्ता भटकने के बाद जब दोनों भाई अपनी मां को ढूढंते हुए उनके पास पहुंचे तो उन्होंने देखा कि बर्फ गिरने के कारण बर्फ से सुन्न होकर झाड़ियों के पीछे  अधमरी सी पड़ी हुई थी।


लघु उत्तरीय प्रश्न                                                                         (3 अंक)

1. एक शाम सुमी ने अपने बेटों से क्या कहा?

उत्तर: सुमी ने अपने दोनो बेटों से कहा कि बच्चो आज पूर्णमासी हैं। मैं आज ७० वर्ष की हो जाउंगी।

राज्य के नियमो के अनुसार तुम दोनों मुझे उस पहाड़ पर छोड़ कर आजाना जिस पहाड़ से कोई भी लौटकर वापस नहीं आता।


2. सुमी के दोनो बेटे रास्ता कैसे भटक गए?

उत्तर: सुमी के दोनो बेटों को वापस लौटते समय काफी देर हो गई थी और तेज तूफ़ान और बर्फ भी गिरने लगी थी और अंधेरा भी हो गया था इसलिए उन दोनों भाईयो ने मिलकर सोचा की चोट रास्ते का प्रयोग करके वह घर जल्दी पहुंच जाएंगे इसलिए उन्होंने अपनी मा द्वारा बताए रास्ते का प्रयोग न करके दूसरे रास्ते का प्रयोग किया और दोनो भाई रास्ता भटक गए।


3. सुमी बुद्धिमान क्यों थीं?

उत्तर: सुमी बुद्धिमान इसलिए थी क्योंकि सुमी ने रहा द्वारा दिए गए कठिन और नामुमकिन कार्यों को अपने दोनो बेटों कि सहायता से उन्हें संभव करके पूर्ण करके दिखाया जिससे राजा ने उन तीनों से खुश होकर अपने नियम को रद्द कर दिया और तीनों – सुमी , इचिरो और चिरों को अपना मुख्य सलाहकार बना लिया।


4. राजा द्वारा दिया गया पहला काम क्या था?इचिरो और चीरो ने उस कार्य को पूरा कैसे किया?

उत्तर: राजा द्वारा दिया गया पहला काम यह था कि उन्हें राख से रस्सी बनानी थी। इस कार्य ने सारे गांव वालो के होश उडा दिए थे। सुमी ने अपनी समझदारी से और अपने दोनों बेटों की मदद से आईएफए कार्य को अंजाम दिया था। उन दोनों ने एक रस्सी ली और उस रस्सी पर नमक का पानी लगाया और उसे एक पत्थर पर रख कर जला दिया। रस्सी जल कर राख हो गई पर नमक की वजह से रस्सी बिखरी नहीं , इस प्रकार तीनों ने मिलकर इस कार्य को अंजाम दिया।


5. राजा द्वारा दिए गए किन्हीं तीन कार्यों को बताइए।

उत्तर: राजा द्वारा दिए गए कार्य निम्नलिखित हैं – 

1.एक ऐसा ढोल लाओ, जो बिना बजाए बजता हो।

2.बांस के टुकड़े में जड़ और तने की और से सिरों कि पहचान।

3.राख की रस्सी बनाकर लाओ।

सुमी, इचिरो और चिरो तीनों अपनी समझदारी से राजा द्वारा दिए  कार्यों को पूर्ण किया जबकि यही कार्य गांव वालो को नामुमकिन लग रहा थे।



दीर्घ उत्तरीय प्रश्न                                                                        (5 अंक)

1. बूढों को पहाड़ पर क्यों छोड़ दिया जाता था?

उत्तर: कहानी ' मौत का पहाड़ ' में राज्य के राजा द्वारा नियम बनाया गया था कि ७० वर्ष के होने प्र बूढों को उनके बेटों द्वारा पहाड़ों पर छोड़ा जाएगा। राजा का मानना था कि बूढ़े हो जाने के बाद उनमें कार्य करने की शक्ति नहीं रहती और बूढ़े लोग परिवार पर बोझ बन जाते हैं, इसलिए राजा ने यह नियम बनाया था और गाओ वाली द्वारा इसका पालन भी किया जाता था पर सुमी और उसके बेटे कि समझदारी कि वजह से राजा ने यह नियम ख़तम किया गया।


2. राजा द्वारा दिया गया दूसरा कार्य क्या था और इचिरो और चीरो ने उसे कैसे पूरा किया?

उत्तर: राजा ने इचिरो और चीरो को दूसरा काम यह दिया की वह ऐसा शंख लाए जिसमें धागा पिरोया हुआ हो, लेकिन गांव वालो की नज़रों में यह कार्य भी असंभव था , परंतु सुमी की बुद्धिमता और उसके दोनों कि सहाइटा से उन्होंने यह कार्य को भी मुमकिन बनाया।दोनो ने समझ दरी से एक चीटी के पैर में धागा बांध दिया और शंक के दूसरी और चावल का दाना रख कर चिटी को लालच जिसके लालच में आकर चिटी ने अपना रास्ता बनाकर बकर बाहर निकल आई। इस प्रकार तीनों ने मिलकर इस कार्य को अंजाम दिया।


3. राजा द्वारा दिए गए चारों कामो की व्याख्या कीजिए।

उत्तर : राजा द्वारा दिए गए कार्य कि सूची निम्नलिखित हैं – 

1.उन्हें राजा द्वारा दिया गया पहले कार्य था ' राख की रस्सी बनाना '।

2.राजा द्वारा दिया गया दूसरा कार्य था कि ' ऐसा शंख लाओ जिसके आरपार धागा पिरोया हुए हो ' ।

3.राजा द्वारा दिया गया तीसरा कार्य था कि ' ऐसा ढोल लाओ जो बिना बजाए बजता हो '।

4.राजा द्वारा दिया गया चौथा कार्य था कि ' बांस के टुकड़े में जड़ , और तने कि और से सिरो की पहचान '।

राजा द्वारा दिए सभी कार्यों को सुमी और उसके बेटों ने संभव बनाया , जब की यह सभी कार्य गांव वालो की नज़रों में नामुमकिन कार्य थे ।


4. राजा ने अपना बनाया कौन सा नियम रद्द किया और क्यों?

उत्तर: ' मौत का पहाड़ ' कहानी में राजा द्वारा यह नियम बनाया गया था कि को भी व्यक्ति ७० वर्ष का हो जाएगा उसे उसके परिवार के लोग बर्फीली पहाड़ी पर छोड़ कर आएगे क्योंकि राजा के अनुसार बूढ़े व्यक्ति में ताकत नहीं होती वह कोई कार्य नहीं कर सकता और अपने परिवार पर बोझ बन जाता है, पर सुमी जो ७० वर्ष की हो चुकी हैं उसने अपनी बुद्धिमता और बेटों कि सहायता से राजा द्वारा दिए गए सभी कार्यों को पूर्ण किया, राजा को गुस्सा आया की उसके नियम का उलंघन हुआ है पर वह शर्मिंदा भी हुआ कि वह अब तक ७० वर्षों के लोगों का ज्ञान और अनुभव खोता आ रहा है, इसलिए उसने अपना यह निगम रद्द कर दिया।


5. राजा द्वारा दिए गए गांव वालो को किन्हीं दो कार्यों का वर्णन कीजिए।

उत्तर: राजा द्वारा गांव वालो को दिया गया पहला कार्य था ' राख की रस्सी बनाना ' इस कार्य से सभी लोगो के होश उड़ गए और उनके लिया कार्य नामुमकिन था, परंतु सुमी की समझदारी और अपने दोनों बेटों की सहायता से उसने इस कार्य को मुमकिन बनाया। उन्होंने एक रस्सी ली उसपर नमक का पानी लगा कर एक पत्थर पर रखा और जला दिया जल कर रस्सी राख हो गई लेकिन नमक के पानी की वजह से वह रस्सी बिखरी नहीं।

दूसरा कार्य था कि ऐसा शंख लाओ जिसमें धागा पिरोया हुआ हो पर यह कार्य भी गांव वालो के लिए नामुमकिन था लेकिन यह कार्य भी तीनों ने मिलकर पूरा किया उन्होंने एक चिटी के पैर में धागा बांधा और उसे शंख कि एक और से अंदर भेज के दूसरी ओर से चावल के दाने का लालच देकर भर निकाल लिया। 

इस तरह तीनों अपनी समझदारी से राजा द्वारा दिए दोनो कार्यों को पूर्ण किया जबकि यही कार्य गांव वालो को नामुमकिन लग रहा थे।

Share this with your friends
SHARE
TWEET
SHARE
SUBSCRIBE